पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई होगी:केंद्रीय वित्त मंत्रालय के आदेश, बिना रिकॉर्ड ‘इटीजोलाम बेची तो एनडीपीएस के तहत होगा मुकदमा, जेल भी होगी

हनुमानगढ़12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नशे के तौर पर इस्तेमाल होने वाली इटीजोलम टेबलेट अब बिना किसी रिकॉर्ड के नहीं बेची जा सकेगी। ऐसा करने पर संबंधित के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई होगी। केंद्रीय वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग ने इसको लेकर गजट नोटिफिकेशन जारी किया गया है।

इसमें ईटीजोलाम टेबलेट को एनडीपीएस के दायरे में लाया गया है। इस आदेश की कॉपी औषधि नियंत्रण विभाग के पास पहुंच गई है। अधिकारियों के मुताबिक इटिजोलम मनोवैज्ञानिक पदार्थ के रूप में कार्य करता है। नशे के तौर पर यूज होने वाली इस टेबलेट को युवा वर्ग अपने नशे के लिए ज्यादा प्रयोग कर रहा हैं। चूंकि यह टेबलेट मेडिकल पर आसानी से मिल जाती है। पिछले दिनों जिले में ऑपरेशन प्रहार के तहत पुलिस और औषधि नियंत्रण विभाग की कार्रवाई में इस दवा को लेकर पाया गया कि एनडीपीएस के दायरे में नहीं होने के कारण इसका दुरुपयोग किया जा रहा है। कार्रवाई होने पर अभी तक ड्रग एंड कॉस्मेटिक एक्ट के तहत ही कार्रवाई की जाती थी लेकिन अब यह एनडीपीएस के दायरे में आने से प्रभावी कार्रवाई हो सकेगी।

अब बिना रिकॉर्ड और बिना डॉक्टर की पर्ची नहीं दे सकता कोई इटीजोलम
अब अगर कोई मेडिकल संचालक इटीजोलम टेबलेट किसी को देता है तो वह ऐसे ही नहीं दे सकता है। सबसे पहले इटीजोलम गोली लेने वाले को अधिकृत्त डॉक्टर से गोली लिखवाकर लानी होगी और डॉक्टर भी अगर मरीज के किसी प्रकार की परेशानी है तो ही वह इस गोली को लिखेंगे। इसके बाद मेडिकल संचालक डॉक्टर के पर्ची पर लिखने के बाद ही मरीज को वह गोली देगा। इसके बाद इस गोली का तमाम रिकॉर्ड मेडिकल संचालक रखेगा। अगर बिना रिकॉर्ड रखे किसी के पास यह गोलियां मिली या किसी को देता मिला तो अब पुलिस बेचने या यह रखने वाले के खिलाफ एनडीपीएस के तहत मामला दर्ज कर सकती है।

उच्चाधिकारियों की रिपोर्ट पर मंत्रालय ने दी मंजूरी, पहले नशे के एक्ट में नहीं जुड़ी हुई थी यह गोली: प्रदेश सहित अन्य क्षेत्रों में भी ज्यादातर युवा जब इस टेबलेट का यूज नशे में करने लगे तो इस संबंध में औषधि नियंत्रण विभाग के उच्च अधिकारियों को इस बारे में बताया और इस गोली का नशे के एक्ट में करने के लिए विचार- विमर्श किया। ड्रग कमेटी द्वारा दी गई रिपोर्ट को देखते उच्च अधिकारियों ने मंत्रालय को इस संबंध में जब यह रिपोर्ट भेजी तो इस गोली को नशे के एक्ट में शामिल कर दिया। इससे पहले एल्पराजोल, आलपरस, कलोनेजापाम, डायजापाम कुडिंग, ट्रामोडोल सहित अन्य नशे के एक्ट में शामिल थे, लेकिन इटीजोलम गोली नशे के एक्ट में नहीं थी, लेकिन अब इस भी नशे के एक्ट में शामिल कर दिया गया है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें