पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सावधान रहें:कोरोना के 100 नए रोगी, 14 साल के संदिग्ध रोगी की मौत, अब कल से शहर में रात्रिकालीन कर्फ्यू

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अक्टूबर और नवंबर में तेजी से फैला कोरोना...मास्क लगाएं व फिजिकल िडस्टेंसिंग बनाकर रखें

अक्टूबर व नवंबर में बाजार देर तक खुलने और अन्य गतिविधियों पर प्रतिबंध न होने से श्रीगंगानगर में कोरोना रोगियों की संख्या में इजाफा हुआ है। कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए राज्य सरकार दिसंबर में अब फिर सख्ती करेगी। श्रीगंगानगर शहर में 1 दिसंबर से 31 दिसंबर तक रात्रिकालीन कर्फ्यू रहेगा।

इसी दौरान रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक लोगों का आवागमन प्रतिबंधित रहेगा। एक दिसंबर से रात 7 बजे तक बाजार बंद करने होंगे। गृह विभाग ने कोरोना के सक्रिय रोगियों की संख्या घटाने के लिए श्रीगंगानगर सहित राज्य के 13 शहरों की नगरीय सीमा में रात्रिकालीन कर्फ्यू लागू व अन्य तरह के प्रतिबंध लगाने की गाइडलाइन जारी कर दी है। रविवार को श्रीगंगानगर जिले में कोरोना के 100 नए रोगी मिले। जिले में कोरोना पॉजिटिव रोगियों की संख्या 7500 से पार हाे चुकी है। जिला अस्पताल में भर्ती कोरोना लक्षणों के संदिग्ध रोगी एक 14 साल के बच्चे की इलाज के दौरान मौत भी हो गई। डॉक्टरों ने बताया कि बच्चे में ऑक्सीजन काफी कम हो गई थी। इसलिए माता-पिता अपने बच्चों का भी इस मौसम में विशेष ध्यान रखें।

कोरोना पॉजिटिव रोगियों के 80 फीसदी संपर्क व्यक्तियों की 72 घंटे में पहचान
गाइड लाइन में कोरोना पॉजिटिव के संपर्क में आए व्यक्तियों की सघन ट्रेसिंग करने का प्रावधान किया गया है। गाइड लाइन के अनुसार पाॅजिटिव रोगी के संपर्क में आए कम से कम 80 प्रतिशत व्यक्तियों की पहचान 72 घंटे में करना जरूरी होगा। इनकी सूची बनाकर 14 दिनों के लिए क्वारेंटाइन किया जाएगा। एक्टिव रोगियों की निगरानी की व्यवस्था होगी। इसके लिए बीट कांस्टेबल व राेगी काे RajCovidInfo माेबाइल एप डाउन लाेड करवाया जाएगा। जिस घर में राेगी आइसाेलेट हाेगा, वहां बीट कांस्टेबल तीन दिन में एक बार विजिट करेंगे।

दो महीनों में 5378 रोगी, तेजी से फैला संक्रमण
अक्टूबर व नवंबर में श्रीगंगानगर जिले में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैला है। इन दो महीनों में 5378 पॉजिटिव केस सामने आए। नवंबर में अब तक 2407 कोरोना रोगी मिले हैं। इससे पूर्व मई में 6, जून में 52, जुलाई में 185, अगस्त में 583, सितंबर में 1329 और अक्टूबर में 2971 रोगी मिले थे। सितंबर में आवाजाही व बाजार खुलने से संबंधित प्रतिबंधों से छूट मिलने के बाद कोरोना संक्रमण बढ़ने लगा। नंवबर में एक बार देश की सर्वाधिक कोरोना पॉजिटिव दर 35 प्रतिशत श्रीगंगानगर में रिकॉर्ड हो चुकी है। जिला अस्पताल में जिस कोरोना रोगी 14 साल के संदिग्ध रोगी बच्चे की मौत हुई है उसे कोरोना के लक्षण थे। इस रोगी की ऑक्सीजन सेचुरेशन भी काफी कम थी। इससे डॉक्टर भी हैरत में है कि सामान्यतः बच्चों में ऑक्सीजन सेचुरेशन कम नहीं होती है। बच्चे के शव से लिए सैंपल की कोरोना जांच रिपोर्ट रविवार शाम तक नहीं आई थी।

निर्देश 7 बजे दुकानें बंद होगी ताकि लोग 8 बजे तक घर पहुंच जाएं, मेडिकल व अस्पताल खुले रहेंगे

जून से अनलॉक शुरु होने के बाद पहले ऑड-इवन तारीख वाइज बाजार खुलने का सिस्टम लागू किया गया। इसके बाद भीड़ कम करने के लिए बाजार में दुकानें खुलने का समय पहले रात्रि 8 बजे तक था। इसके बाद सायं 7 बजे तक ही दुकानें खुली रखने के निर्देश जारी किए गए थे। ये व्यवस्था अगस्त महीने तक लागू रही। अब तीन महीनों से बाजार में दुकानें खुली रखने की समय सीमा निर्धारित नहीं है। तीन महीनों बाद फिर दिसंबर में फिर शहर में दुकानें खुली रखने की समय सीमा निर्धारित की जा रही है।

राज्य सरकार की गाइड लाइन के अनुसार रात को बाजार की दुकानें व व्यावसायिक प्रतिष्ठान सायं 7 बजे तक बंद हो जाएंगे ताकि इसमें काम करने वाला स्टाफ व अन्य लाेग रात 8 बजे तक अपने घर पहुंच जाएं। ये प्रतिबंध निरंतर व रात्रिकालीन पारी में चलने वाली फैक्ट्रियों, आईटी कंपनियों, मेडिकल स्टोर, अस्पताल व चिकित्सा सेवाओं से संबंधित संस्थान, अनिवार्य व आपातकालीन सेवाएं, विवाह समारोह, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट से आने व जाने वाले यात्रियों, माल परिवहन करने वाले वाहनों के आवागमन व इसमें काम करने वाले व्यक्तियों पर लागू नहीं होंगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का अधिकतर समय परिवार के साथ आराम तथा मनोरंजन में व्यतीत होगा और काफी समस्याएं हल होने से घर का माहौल पॉजिटिव रहेगा। व्यक्तिगत तथा व्यवसायिक संबंधी कुछ महत्वपूर्ण योजनाएं भी बनेगी। आर्थिक द...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser