कोरोना का कहर जारी:110 मरीज, 5 की मौत; मरीज और बढ़ने की आशंका 430 बेड क्षमता के 12 कोविड केयर सेंटर चिह्नित

श्रीगंगानगर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वैक्सीन के लिए लोग हो रहे जागरूक... तस्वीर पुरानी आबादी डिस्पेंसरी की है। जैसे-जैसे काेरोना बढ़ रहा है, वैसे-वैसे वैक्सीन लगवाने वाले लोगों की तादाद भी बढ़ रही है, लेकिन वैक्सीन की सप्लाई रुक-रुक कर आ रही है। - Dainik Bhaskar
वैक्सीन के लिए लोग हो रहे जागरूक... तस्वीर पुरानी आबादी डिस्पेंसरी की है। जैसे-जैसे काेरोना बढ़ रहा है, वैसे-वैसे वैक्सीन लगवाने वाले लोगों की तादाद भी बढ़ रही है, लेकिन वैक्सीन की सप्लाई रुक-रुक कर आ रही है।
  • एक्टिव केस 2 हजार के पार, कोराेना वार्ड के सभी 140 बेड फुल, 30 और लगवाए

कोरोना की दूसरी लहर तेजी से पीक की तरफ बढ़ रही है। बुधवार को जिले में एक्टिव रोगियों की संख्या 2 हजार को पार करते हुए 2026 तक पहुंच गई। जिले में 110 नए रोगी मिले हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण से 5 रोगियों की मौत हुई। जिले के कोरोना अस्पताल फुल होने लगे हैं। जिला अस्पताल के कोरोना वार्ड में स्वीकृत सभी 140 बेड फुल हो चुके हैं।

यहां बुधवार शाम तक 141 रोगी भर्ती थे। अब बरामदों में लगाए 30 अतिरिक्त बेडों पर रोगियों को शिफ्ट करने की तैयारियां कर ली गई हैं। आशंका जताई जा रही है कि कोरोना की दूसरी लहर के 15 मई तक पीक पर आने से हालात भयावह हो सकते हैं। इनसे निपटने की तैयारियां शुरू करते हुए जिले में 430 बेड क्षमता के 12 कोविड केयर सेंटर चिन्हित कर लिए हैं।

जिले में अप्रैल में मिलने वाले कोरोना रोगियों की संख्या 2370 तक पहुंच गई है। जिला अस्पताल में भर्ती संतोष निवासी नोहर, पुष्पा देवी निवासी नोहर, सुनीता निवासी रायसिंहनगर, पूर्व कर्मचारी नेता वार्ड नंबर 18 पुरानी आबादी श्रीगंगानगर निवासी ओमप्रकाश बिश्नोई व एके पांडेय निवासी सूरतगढ़ की मौत हो गई।

अस्पताल में लगातार तीसरे दिन 5 रोगियाें की मृत्यु हुई। बीते एक सप्ताह में जिले में कोरोना 1338 नए रोगी मिले हैं और 34 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। इस अवधि में एक्टिव रोगियों की संख्या 853 से बढ़कर 2026 तक पहुंच चुकी है।

प्रशासन की तैयारी -जिला व उपखंड मुख्यालयों पर सीसीसी, वहां शिफ्ट करेंगे रोगी

जिला कलेक्टर जाकिर हुसैन के अनुसार वायरस के संक्रमण की दूसरी लहर में एक्टिव केसों की संख्या में इजाफा हो रहा है। अगले सप्ताह में कोरोना रोगियों की संख्या में तेजी से वृद्धि होने की आशंका है। कोविड रोगियों के इलाज के लिए कोविड केयर सेंटर संचालित किए जाएंगे।

इनका प्रभारी जिला परिषद के एसीईओ मुकेश बारेठ को नोडल अधिकारी बनाया गया है। संबंधित एसडीएम व बीसीएमओ सहायक नोडल अधिकारी होंगे। कलेक्टर हुसैन के अनुसार सभी सीसीसी का समय-समय पर आकस्मिक निरीक्षण किया जाएगा ।

यहां रोगियों के इलाज के लिए आवश्यक संसाधन सहायक नोडल अधिकारी एवं संबंधित उपखंड अधिकारी से समन्वय कर उपलब्ध करवाया जाएगा। इलाज एवं ऑक्सीजन संबंधी व्यवस्थाएं बीसीएमओ स्तर पर होंगी। कलेक्टर के अनुसार अगर वर्तमान में चिन्हित सीसीसी के अलावा अन्य सीसीसी बनाने की जरूरत पड़ती है तो नोडल अधिकारी, संबंधित एसडीएम व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी समन्वय कर नई जगह ढूंढ़ने की कार्रवाई करेंगे। सीसीसी पर ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी, आवश्यकता होने पर जिला स्तरीय ऑक्सीजन प्रबंधन दल के अध्यक्ष एवं आयुक्त नगरपरिषद को अवगत करवाया जाएगा।

भर्ती 297 रोगियों में से 141 जिला अस्पताल में :स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार जिले के विभिन्न अस्पतालों में कोरोना के 297 रोगी भर्ती हैं। इसमें से 176 रोगी ऑक्सीजन पर हैं। जिला अस्पताल में बुधवार शाम तक 141 रोगी भर्ती थे। इसमें से 68 को ऑक्सीजन पर रखा हुआ था। हालांकि यहां कोरोना के लिए स्वीकृत बेड संख्या 140 है।

पिछले दिनों ऑक्सीजन के अभाव के दौरान निजी अस्पतालों से रोगियों को जिला अस्पताल रेफर किया जाने लगा। तब से यहां भर्ती रोगियों की संख्या बढ़ने लगी है। पीएमओ डॉ. बलदेव सिंह चौहान के अनुसार रोगियों के बढ़ने की आशंका के दृष्टिगत 30 बेड अतिरिक्त लगाए थे। अब इनका उपयोग किया जाएगा। ऑक्सीजन सप्लाई में फिलहाल कोई बाधा नहीं है।

खबरें और भी हैं...