पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

ऐसे हराएंगे कोरोना को:20 मई 1 मरीज: हाई अलर्ट पर प्रशासन, 6 अगस्त 313 रोगी: नाम की सख्ती

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पहले आधे घंटे में पहुंचती थी टीमें, अब अगले दिन आती हैं। बेरीकेडिंग भी बंद, अब रस्सी लगा बनाते हैं कंटेनमेंट जोन

काेराेना महामारी में जैसे-जैसे मरीज बढ़ रहे हैं, प्रशासनिक सतर्कता व सख्ती भी गायब होती जा रही है। पहले जहां कोरोना मरीज मिलने के आधे घंटे के भीतर ही सारी टीमें पहुंच जाती थी। कंटेनमेंट जोन बन जाता था। उसकी सख्ताई से पालना करवाई जाती थी।

अब तो आलम यह है कि रात को रोगी मिलने के बाद अगले दिन टीम पहुंचती है। पुलिस ने तो कंटेनमेंट जोन में बेरीकेडिंग ही बंद कर दी है। अब महज रस्सी लगाकर सड़क बंद की जाती है। उसमें से भी लोगों का आना-जाना लगा रहता है और उन्हें रोकने वाला भी कोई नहीं।

कंटेनमेंट एरिया की दो तस्वीरें

तस्वीर 20 मई की है। जब बसंती चौक पर कोरोना का पहला मरीज मिला था। उस समय पूरा प्रशासन मौके पर पहुंच गया था। 14 दिन के लिए पूरा मोहल्ला सीज कर दिया गया था। बेरिकेड्स व टैंट लगाए गए। पुलिस व स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने यहां लगातार 14 दिन तक सतर्कता रखी।

तस्वीर 6 अगस्त की है। यहां हरमिलापी कालोनी में रोगी मिलने के बाद कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। दोनों ओर केवल प्लास्टिक की रस्सी बांधी गई है। इसमें से भी लोगों का आना-जाना लगा रहता है। पुलिस वाले भी दूर बैठे कहीं सुस्ताते रहते हैं। कोई उन्हें चेक करने भी नहीं आता।

कोराेना: अभी तक 15232 जांच, 769 लोग होम क्वारेंटाइन किए

पुलिस व स्वास्थ्य विभाग के तर्क, इतने कर्मी ही नहीं: इस मामले में भास्कर ने पुलिस व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से बात की तो उनका कहना था कि अब रोज रोगी मिल रहे हैं। जगह-जगह कंटेनमेंट जोन बन रहे हैं। ऐसे में अब इतने कर्मचारी ही नहीं हैं कि एक ही क्षेत्र में लगातार 14 दिन तक सतर्कता व सख्ती बरती जा सके।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें