पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

धोखाधड़ी:57 लाख गबन के आराेपी डाक सहायक ने फाैजी काे 36 लाख रुपए में बेचा था मकान, सीज किया, अब सैनिक छुट्टी लेकर न्याय के लिए भटक रहा

श्रीगंगानगर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सैनिक द्वारा खरीदा गया मकान जिसकाे लेकर धाेखा हुआ
  • सदर थाने में जुलाई में दर्ज हुआ था केस

सरकारी कर्मचारी मिलकर किस तरह आम नागरिक काे लाखाें का नुकसान पहुंचा देते हैं, इसकी बानगी यह मामला है। इस केस काे जानने के बाद सरकारी तंत्र की जड़ाेंं में रचे बसे भ्रष्टाचार की नई गहराई सामने अाएगी। मामला गाेलूवाला निवासी सैनिक सुखदेव का है। 18 वर्षाें की सेवा से जाेड़े रुपयाें से रिद्धि-सिद्धि सेकंड में एक मकान अपनी पत्नी पूजा रानी के नाम से 11 जुलाई 2018 काे 36 लाख रुपए में खरीदा था।

इस मकान काे बेचने वाले 100 फीट राेड पर जांगिड़ धर्मशाला के पास रहने वाले मुकेशकुमार धानका ने खरीददार के नाम से 24 जुलाई 2018 काे रजिस्ट्री करवा दी। यूाईटी ने इसका इंतकाल भी दर्ज कर दिया और पट्टा भी जारी कर दिया। इसके डेढ़ साल बाद 17 दिसंबर 2019 काे कलेक्टर के आदेश से हल्का पटवारी और डाक विभाग के अधिकारियाें ने उक्त मकान काे सीज कर दिया।

डाक विभाग के अधिकारियाें ने बताया कि मकान मुकेश धानक का है जाे हनुमानगढ़ में डाक सहायक पद से सेवा से बर्खास्त है और उसके खिलाफ सीबीआई काेर्ट में 57.44 लाख रुपए के गबन का केस चल रहा है। उक्त मकान काे वसूली के लिए सीज किया जा रहा है। बाकायदा इस मकान काे सीज भी कर दिया गया। मकान के खरीददार सैनिक ने इस संबंध में 7 जुलाई 2020 काे सदर थाने में मुकदमा दर्ज करवाया।

उपखंड मजिस्ट्रेट ने भी साैदे से एक माह पहले आराेपी व उप पंजीयक काे मकान नहीं बेचने काे किया पाबंद: आराेपी मुकेश धानक पर गबन की वसूली के लिए उपखंड मजिस्ट्रेट श्रीगंगानगर की अदालत में 2018 की जनवरी में डाक विभाग की ओर से परिवाद पेश किया गया। इस मामले की सुनवाई में आराेपी नियमित ताैर पर जाता था।

उपखंड मजिस्ट्रेट की ओर से 19 जून 2018 काे आराेपी मुकेश धानक काे पत्र लिखकर अपनी चल और अचल संपत्ति काे रहन/बेचान नहीं करने काे पाबंद करते हुए रिकवरी के 57.44 लाख रुपए जमा करवाने काे कहा था। इसी तरह उप पंजीयक काे पत्र भेजकर आराेपी के नाम से रिद्धि-सिद्धि सेकंड के उक्त मकान की रजिस्ट्री नहीं करने काे पाबंद किया था। इसके बावजूद उप पंजीयक कार्यालय ने गैर जिम्मेदाराना तरीके से उक्त भूखंड की इस पत्र के 34 दिन बाद बैयनामा संपादित कर पंजीयन पीड़ित सैनिक की पत्नी के नाम कर दिया।

डाक सहायक ने एसबीआई से 12 लाख लाेन लेकर बनाया था घर, उनके भी 10 लाख बकाया था, फाैजी ने दिलवाई एनओसी

आराेपी डाक सहायक मुकेश धानक के खिलाफ डाक विभाग ने ताे 57.44 लाख के गबन का मुकदमा दर्ज करवा ही रखा है। उसने रिद्धि-सिद्धि सेकंड के इस भूखंड पर एसबीआई की पब्लिक पार्क शाखा से 12 लाख रुपए का हाउस लाेन लेकर मकान बनाया था। इसकी किस्ताें के करीब 10 लाख रुपए बकाया था। इस मकान की रजिस्ट्री करवाने काे 10 लाख रुपए सैनिक सुखदेव ने ही बैंक की किस्ताें के बकाया चुकाकर एनओसी जारी करवाई थी। इसके बाद उक्त मकान की रजिस्ट्री संपादित हुई। आराेपी ने इधर इसी मकान काे सैनिक काे 36 लाख रुपए में बेचकर रुपए जेब में डाल लिए। इस साैदे में 21.50 लाख रुपए अाराेपी के अकाउंट में भेजे गए जबकि शेष रकम नकद दी गई थी। अब आराेपी उक्त रकम भी लाैटाने से इनकार कर गया।

मामला गंभीर प्रवृत्ति की धाेखाधड़ी का है, अनुसंधान के लिए दस्तावेज तलब किए हैं: इस मामले के जांच अधिकारी एएसअाई राजसिंह ने बताया कि मुकदमे में उप पंजीयक कार्यालय के अधिकारियाें पर भी आराेप लगाए गए हैं। मामला गंभीर प्रवृत्ति की धाेखाधड़ी का है। अाराेपाें की सत्यता की जांच काे रिकाॅर्ड मंगवाया गया है। मुकदमे की जांच थानाधिकारी के निर्देशन में गंभीरता से की जा रही है। इसलिए अभी कुछ कहने की स्थिति में नहीं हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें