पुरानी आबादी के चांदनी चौक का मामला:नशेड़ी पाेते ने दादा-दादी के 5 लाख के गहने चुराए कर्जा चुका दाे स्मार्टफाेन लाया, शक में गिरफ्तार

श्रीगंगानगर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दादा-दादी गए थे गांव, पोते ने 10 ताेला साेने के गहने चुराए

पुरानी आबादी में चांदनी चाैक निवासी बुजुर्ग पशु चिकित्सक के घर से गहने चाेरी के आराेपी पाेते काे पुलिस ने गिरफ्तार कर तीन दिन के रिमांड पर लिया है। आराेपी 25 वर्षीय प्रवीण ओड पुत्र रामसिंह नशे का आदी बताया गया है।

उससे चाेरी किए गहने बरामदगी के प्रयास किए जा रहे हैं। जांच अधिकारी पुरानी आबादी थाना के एएसआई सुभाषचंद्र मीणा ने बताया कि चांदनी चाैक निवासी 73 वर्षीय खेमचंद पुत्र देवाराम की ओर से मुकदमा दर्ज किया गया है।

इसमें बताया गया है कि परिवादी अपनी पत्नी के साथ 10 जुलाई काे फतेहाबाद बेटे से मिलने गया था। जाने से पहले परिवादी ने अपने व पत्नी के सोने व चांदी के जेवरात व अन्य कीमती सामान पाॅलीथिन में पैककर रसोई में बनी अलमारी जिसमें कबाड़ रखा था,उसके नीचे छिपा दिया था।

रसाई को ताला लगाकर चाबी स्टोर में टंगे थैले मे डाल दी। बाहर गेट की चाबी परिवादी ने अपने दोहिते मोनू को दे दी थी। परिवादी के घर से जाने के बाद पीछे से परिवादी का पाेता प्रवीणकुमार पुत्र रामसिंह बाहर की चाबी मेरे दोहिते के घर से शाम को चोरी कर ले गया।

रात को मेरे घर आकर ताला खोलकर मेरी पत्नी के साेने के कड़े, गले का पैंडल, कान के झुमके, कान की बालियां व परिवादी की साेने की अंगूठियां, कड़ा और चेन आदि गहने चोरी करके ले गया। परिवादी एक अगस्त काे लाैटकर वापस आया ताे घर में छुपाकर रखे गहने गायब थे। इस पर परिवादी काे अपने नशेड़ी पाेते पर शक हुआ। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आराेपी काे गिरफ्तार कर लिया है।

दादा जब लाैटकर आए ताे आराेपी पकड़े जाने के डर से शहर से गायब हुआ

परिवादी ने बताया कि आराेपी पाेते प्रवीण पर इसलिए शक हुआ कि वह नशे का आदी है और काेई काम नहीं करता। वह पहले भी लाेगाें के घराें से सामान चाेरी करके ले जाता रहा है। परिवादी जब लाैटकर आया ताे पता चला कि प्रवीण दाे नए स्मार्टफाेन लेकर घूम रहा है। उसने लाेगाें के लिए उधार रुपए भी चुका दिए हैं और अभी भी उसके पास काफी माेटी रकम माैजूद है।

उसके पास उक्त सभी नकदी, फाेन व लाेगाें से लिए वापस लाैटाए रुपए परिवादी के घर से गहने चुृराकर बेचने से ही प्राप्त हाेने का शक हुआ। परिवादी के फतेहाबाद लाैटकर आने का पता चलने पर आराेपी डर के मारे शहर से गायब हाे गया।

परिवादी ने उसका पता लगाया ताे सामने आया कि वह अपने ससुराल चला गया है। पुलिस ने वरिष्ठ नागरिक का परिवाद लेकर घटना काे समझा और वारदात की तस्दीक की। इसके बाद आराेपी काे हिरासत में लिया ताे उसने वारदात स्वीकार कर ली।

आराेपी ने गहने चुराकर चाबी वापस बुआ के घर फेंक दी: परिवादी वरिष्ठ नागरिक खेमचंद ओड की ओर से दी गई रिपाेर्ट में बताया गया है कि उनकी बेटी कृष्णा परिवादी के मकान के थाेड़ा दूरी पर ही रहती है। परिवादी सफर पर जाने से पहले मकान की चाबी अपनी बेटी के छाेड़ गया था। आराेपी प्रवीण ने पहले उक्त चाबी काे अपनी बुआ के घर से चुराया। इससे परिवादी के मकान काे खाेलकर अंदर पहुंचा।

फिर उसने अंदर रसाेई काे लगाए गए ताले की छुपाकर रखी चाबी काे तलाश किया जाे लाेबी में एक थैले में रखी हुई थी। आराेपी ने रसाेई काे खाेलकर छुपाए गए गहने तलाशे। इसके बाद बाहर के गेट की चाबी काे उसने अपनी बुआ कृष्णा के घर में बाहर से फेंक दी। यह चाबी उनके आंगन में लगी ग्रीन चद्दर के ऊपर अटक गई। अगली सुबह जब परिवादी की बेटी कृष्णा व दाेहिता माेनू छत पर गए ताे उक्त चाबी ग्रीन चद्दर पर पड़ी देखकर चकित रह गए और अनहाेनी की आशंका जाहिर की।

खबरें और भी हैं...