भ्रष्टाचार / टेंडर फाइनल करने के लिए रिश्वत मांगने का आरोप, फिर ऑडियो वायरल किया

X

  • सीएमएचओ में गाड़ियों के टेंडर पर विवाद

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 07:06 AM IST

श्रीगंगानगर. सीएमएचओ कार्यालय में अनुबंध पर वाहन लगाने के लिए हुए टेंडर में गड़बड़ी होने के आरोप लगाए गए हैं। मंगलवार को टेंडर फाइनल करने को लेकर दो पक्षों में विवाद भी हुआ। सीएमएचओ कार्यालय के एक लिपिक पर समझौते के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया गया है। इसका एक ऑडियो भी वायरल हुआ है। मंगलवार को हुए इस घटनाक्रम की शिकायत टेंडर डालने वाले राजीव शर्मा ने जिला कलेक्टर को भेजी है।  राजीव शर्मा का आरोप है कि टेंडर खोलने की दिनांक व समय नहीं बताया गया।

आरोप है कि  उससे तीन वाहनों का टेंडर देने के लिए 1.50 लाख रुपए  रिश्वत मांगी गई। जब उसने 19 हजार रुपए प्रति महीने के हिसाब से वाहन उपलब्ध करवाने का टेंडर डाला ताे उससे समझौते का दबाव डालते हुए कहा कि उसे 24 हजार रुपए प्रति महीना के आधार पर 3 वाहनों का ठेका दे दिया जाएगा। आरोप है कि उसकी पूर्व मंें चल रही गाड़ियों का 2.30 लाख रुपए बकाया है। उसका भुगतान रोकने की धमकी दी जा रही है।  टेंडर प्रक्रिया में ब्लैंक चेक लिए गए।

सीएमएचओ डॉ. गिरधारी लाल मेहरड़ा के अनुसार टेंडर प्रक्रिया में पारदर्शिता बरती गई है। पहले राजीव शर्मा के ही वाहन 24 हजार रुपए  प्रति महीना के हिसाब से चले रहे थे। इस बार 19 हजार रुपए प्रति महीना  से कम रेट पर वाहन अनुबंध पर लेकर सरकार को एक से ज्यादा निविदा मिलने पर कंपीटिशन करवा कर फायदा पहुंचाया गया है। सीएमएचओ डॉ. मेहरड़ा के अनुसार टेंडर प्रक्रिया कमेटी ने की है। इसमें राजीव शर्मा के वाहन भी लिए गए हैं।

पूरा मामला|5 वाहनों के लिए मांगे गए हैं टेंडर
आरोप है कि सीएमएचओ कार्यालय में जिला कार्यक्रम प्रबंधन इकाई एनएचएम में दाे, एनएमएचपी, आईडीएसपी,एनवीबीडीसीपी  में एक, एनपीसीडीसीएस में एक और एनटीसीपी में एक सहित पांच वाहनों को अनुबंध पर लगाने के लिए टेंडर कॉल किए गए थे। जो 1500 किलोमीटर तक प्रति माह 24 हजार रुपए अधिक या फिर इससे अधिक 9 रुपए प्रति किलोमीटर के हिसाब से भुगतान की शर्त पर लिए जाने का टेंडर कॉल किया गया था। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना