एसीबी की कार्रवाई:केस दर्ज करने काे एएसआई मांग रहा था खर्चा-पानी, 2 हजार रुपए लेते गिरफ्तार

श्रीगंगानगर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 13 काे सत्यापन और 14 की शाम रंगे हाथ पकड़ा

जिला मुख्यालय पर सदर थाने का एएसआई दाे हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा गया है। यह कार्रवाई श्रीगंगानगर एसीबी चाैकी प्रभारी डीवाईएसपी वेदप्रकाश लखाेटिया ने रविवार शाम काे करीब पांच बजे थाने में ही की। आराेपी एएसआई से रिश्वत के दाे हजार रुपए बरामद कर गिरफ्तार किया गया है। आराेपी एएसआई काे साेमवार शाम काे एसीबी मामलाें की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा। एसीबी बीकानेर कार्यालय से एसपी गगनदीप सिंगला ने बताया कि तीन ई छाेटी की गली नंबर दाे निवासी व हाल सदर थाना के एएसआई बालूराम पुत्र भादरराम काे दाे हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा गया है। पीड़ित ने सदर थाना में परिवाद दिया था। इस परिवाद की जांच और अग्रिम कार्रवाई के लिए एसएचओ ने एएसआई बालूराम काे जांच अधिकारी नियुक्त किया था। परिवादी से एएसआई बालूराम ने परिवाद पर कार्रवाई के लिए 10 हजार रुपए की मांग की। इस पर परिवादी ने श्रीगंगानगर एसीबी चाैकी में शिकायत की।

एसीबी टीम ने गाेपनीय तरीके से एएसआई बालूराम काे 10 हजार रुपए रिश्वत की मांग तथा एक हजार रुपए लेते सत्यापन करवा लिया। इसके बाद दाे हजार रुपए 14 मार्च काे देना तय हुअा। एसीबी चाैकी के कार्यवाहक प्रभारी डीवाइएसपी वेदप्रकाश लखाेटिया, सीआई विजेंद्र शीला, आरक्षक संजीवकुमार सहित स्टाफ ने आराेपी एएसआई काे रविवार शाम काे सदर थाना में उनके कार्यालय कक्ष में ही परिवादी से दाे हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ लिया।

सदर थाने का मामला }परिवादी के मकान में घुसकर हुआ था हमला, घटना का मामला दर्ज करने काे दिया था परिवाद...कार्रवाई के बाद केस

डीवाइएसपी वेद प्रकाश लखाेटिया ने बताया कि परिवादी के घर पर 11 मार्च की रात काे कुछ लाेगाें ने हमला कर दिया था। परिवादी से मारपीट की गई। इस घटना का परिवादी ने उसी रात सदर थाना में परिवाद देकर मामला दर्ज करने का आग्रह किया। उस रात एएसआई बालूराम रात्रिकालीन ड्यूटी अधिकारी थे। इसलिए इस घटना की जांच और कार्रवाई के लिए उनकाे अधिकृत िकया गया। एएसआई ने तीन दिन तक काेई कार्रवाई नहीं की ताे पीड़ित 13 मार्च काे दाेबारा सदर थाने पहुंचा। तब एचएम कार्यालय से बताया गया कि उनके परिवाद की जांच एएसआई बालूराम काे साैंपी गई है। इसलिए पीड़ित एएसआई के पास पहुंचा। एएसआई ने मामले में कार्रवाई के लिए ‘खर्चा पानी’ के नाम पर 10 हजार रुपए की मांग की। इस मांग के बाद पीड़ित अचंभित रह गया और फिर एसीबी चाैकी पहुंचा।

आराेपी एएसआई ने दी परिवादी काे छूट, एक साथ नहीं ताे दाे-दाे हजार की किस्ताें में दे दाे खर्चा पानी: एसीबी के एसपी गगनदीप सिंगला ने बताया कि परिवादी ने आराेपी एएस आई बालूराम से कहा कि कार्रवाई की एवज में मांगे जा रहे खर्चा पानी के 10 हजार रुपए उसके पास नहीं हैं। इस पर एएसआई ने कहा कि एक साथ न सही आप ताे दाे-दाे हजार रुपए की किस्ताें में यह रकम दे सकते हाे। इस छूट के ऑफर के बाद एएसआई की रिश्वत लिए बगैर काम नहीं करने की मंशा साफ हाे गई। इस पर परिवादी ने शिकायत की।

आराेपी के तीन ई छाेटी स्थित मकान का किया सर्च, निर्माणाधीन भवन में परिवार सहित रहता है: एसीबी की दूसरी टीम ने सीआई विजेंद्र शीला के नेतृत्व में एएसआई बालूराम के तीन ई छाेटी की गली नंबर दाे स्थित मकान पर दबिश दी। यहां पर उनकी संपत्तियाें तथा संदिग्ध चल अचल संपत्ति के बारे में जानकारी जुटाने काे सर्च किया। एएसआई का यह मकान अभी निर्माणाधीन ही है। एसीबी टीम ने दाे घंटे इस मकान में तलाशी ली लेकिन यहां से काेई भी संदिग्ध दस्तावेज आर सामान बरामद नहीं हुआ है।

8 महीने पहले इसी थाने का एएसआई माेहरसिंह भी 7 हजार रिश्वत लेते पकड़ा गया था: सदर थाना में एसीबी ने 8 माह में यह दूसरी बड़ी कार्रवाई काे अंजाम दिया है। इससे पहले 13 जुलाई 2020 काे इसी थाने में तैनात एएसआई माेहरसिंह काे हनुमानगढ़ की एसीबी टीम ने थाने में ही उनके कार्यालय कक्ष में 7 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा था। एएसआई माेहरसिंह अभी निलंबित चल रहे हैं और उनकाे पुलिस लाइन में उपस्थिति देने के निर्देश दिए हुए हैं। अब इसी थाने में तैनात एएसआई बालूराम काे श्रीगंगानगर एसीबी ने रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा है।

खबरें और भी हैं...