पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

विवाद:ट्रेप के दाैरान एएसपी के परिवार ने एसीबी डीएसपी से की थी मारपीट, 1 घंटा कबाड़ स्टोर में छिपा रहा

श्रीगंगानगर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रायसिंहनगर एएसपी रहे अमृतलाल व उसके पूरे परिवार के खिलाफ मुकदमे की जांच एसएचओ पुष्पेंद्रसिंह को सौंपी

परिवादी के दर्ज करवाए गए मुकदमे में कार्रवाई के बदले एक लाख रुपए रिश्वत लेने के आराेप में गिरफ्तार किया गया एएसपी अमृतलाल जीनगर एसीबी अधिकारी काे चकमा देकर भाग गया था। उसे करीब एक घंटे बाद सिविल लाइन में ही एक क्वार्टर के सेटबैक में स्टाेर में रखे कबाड़ के बीच में से तलाशकर वापस हिरासत में लिया गया था। उसे भगाने में आराेपी की पत्नी, दाेनाें बेटियाें और बेटे ने मदद की थी। सुरक्षा गार्ड ने अमृतलाल के उकसाने पर ही एसीबी टीम पर पिस्टल से फायर किया था।

इस पूरे घटनाक्रम के बाद कार्रवाई करने पहुंचे सीकर चाैकी में तैनात डीवाइएसपी जाकिर अख्तर 4 अगस्त काे दिनभर आराेपी एएसपी के खिलाफ राजकार्य में बाधा, मारपीट और जानलेवा हमला करवाने के आराेप में मुकदमा दर्ज कराने काे सुबह से लेकर शाम तक परिवाद लेकर रायसिंहनगर थाने और बाद में एसपी श्रीगंगानगर कार्यालय पहुंचे।

इस परिवाद पर एएसपी सहीराम बिश्नाेई ने तीन दिन में विभागीय जांच पूरी की। उन्हाेंने अपनी जांच में पाया कि एएसपी अमृतलाल के गार्ड द्वारा गाेली हवा में चलाई गई थी। वह घटनाक्रम समझ नहीं पाया था और उसने एएसपी के कहने पर ऐसा किया। उसकाे इस रिश्वत प्रकरण की जानकारी तक नहीं थी। उसकी भूमिका भी नहीं है।

इस जांच रिपाेर्ट के बाद परिवादी डीवाइएसपी जाकिर अख्तर के रजिस्टर्ड डाक से एसपी श्रीगंगानगर के नाम भेजे परिवाद और एएसपी बिश्नाेई की गाेपनीय जांच रिपाेर्ट के आधार पर रायसिंहनगर पुलिस ने 7 अगस्त काे मुकदमा दर्ज किया है। मामले की जांच एसएचओ पुष्पेंद्रसिंह कर रहे हैं।

एफआईआर . गिरफ्तारी से बचने के लिए पहले गार्ड का सहारा लिया,फिर परिवार का, एसीबी ने अतिरिक्ति फोर्स बुला एक घंटे बाद पकड़ा

3 अगस्त की सुबह मेरे पास मुख्यालय से फाेन आया। बताया कि रायसिंहनगर पहुंचकर डीवाइएसपी मांगीलाल चाैधरी काे रिपाेर्ट करूं। वे ट्रेप कार्रवाई के लिए गए हुए हैं। मैं दाेपहर में रायसिंहनगर पहुंच गया और डीवाइएसपी चाैधरी काे रिपाेर्ट की। देर शाम काे वे टीम काे लेकर 59 एफ गांव कार्रवाई के लिए चले गए। मैं भी टीम के साथ था।

दलाल अनिल बिश्नाेई काे रिश्वत लेने के आराेप में गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद टीम लीडर चाैधरी ने मुझे हवलदार राेहिताश्वसिंह, कांस्टेबल राजेंद्रप्रसाद, कनिष्ठ सहायक सुरेंद्रकुमार व निजी गाड़ी के चालक श्रवणकुमार के साथ एएसपी अमृतलाल जीनगर काे चाैकी श्रीगंगानगर लेकर आने के लिए 59 एफ से रवाना किया।

रायसिंहनगर में एएसपी के सरकारी आवास पर रात करीब एक बजे पहुंचे। गार्ड रूम में साे रहे कांस्टेबल गार्ड जवाहरलाल काे उठाकर परिचय दिया और उसे एएसपी काे जगाने के लिए कहा। उसने घंटी बजाई तब एएसपी जीनगर बाहर आए। उनकाे परिचय दिया और कहा कि वे उनके साथ श्रीगंगानगर चाैकी चलें।

एएसपी उनके साथ अंदर से चलकर बाहर गाड़ी तक आए। उनकाे सम्मान पूर्वक दरवाजा खाेलकर अंदर बैठने काे कहा। इसी के साथ वे शाेर मचाने लगे और अपने गार्ड काे आदेश दिया कि इन एसीबी वालाें काे गाेली मार दाे। मेरा रिवाॅल्वर अंदर से लेकर आओ। शाेर सुनकर एएसपी की पत्नी, दाेनाें बेटियां व बेटा भी बाहर आ गए।

एएसपी ने अपने परिवार के साथ एसीबी टीम के साथ धक्कामुक्की और मारपीट शुरू कर दी। एएसपी के आदेश पाकर गार्ड ने मुझे जान से मारने के इरादे से रिवाॅल्वर से फायर कर दिया। इसी दाैरान एएसपी माैके का फायदा उठाकर भाग गया, जिसे बाद में वहीं सरकारी आवास में स्टाेर में छुप हुए काे पकड़ा गया। (जैसा कि डीवाइएसपी जाकिर अख्तर ने अपने परिवाद में बताया, जिस पर मुकदमा दर्ज किया गया है।)

एएसपी अमृतलाल ने खुद काे एसीबी अधिकारियाें की हिरासत से छुड़वाने के लिए डीवाइएसपी अख्तर के मारी चाेटें

जिस समय एएसपी अमृतलाल जीनगर काे तीन अगस्त की रात एक बजे एसीबी टीम ने हिरासत में ले लिया था, तब एएसपी ने खुद काे छुड़वाने के लिए एसीबी टीम के साथ मारपीट भी की थी। इस हमले में डीएसपी जाकिर अख्तर के चाेटें भी आ गईं थी। एसीबी टीम में चालक समेत पांच लाेग थे जबकि आराेपी एएसपी, उसके परिवार के सदस्य और गार्ड कांस्टेबल सहित छह लाेग थे।

एसीबी के पास एएसपी के खिलाफ पक्के और पर्याप्त सबूत थे,परिवादी ने दिए थे दाे लाख रुपए रिश्वत मांग के ऑडियाे नाेट

कार्रवाई काे श्रीगंगानगर आई टीम के प्रभारी अधिकारी डीवाइएसपी मांगीलाल चाैधरी ने बताया कि परिवादी 37 एनपी नानूवाला निवासी दीदारसिंह जटसिख ने एसीबी मुख्यालय काे शिकायत के साथ बताैर साक्ष्य ऑडियाे रिकार्डिंग पेश की थी। इसमें दलाल अनिल बिश्नाेई और एएसपी अमृतलाल जीनगर के खिलाफ रिश्वत की मांग के पर्याप्त सबूत थे। बाद में सत्यापन भी हाे चुका था।

एएसपी दिनेश एमएन ने खुद के नंबर सार्वजनिक किए, 94140-00997 पर दी जा सकती है रिश्वत मांगने की सूचना

एसीबी एडीजी दिनेश एमएन ने एक माेबाइल फाेन नंबर काे सार्वजनिक किया है। उन्हाेंने आमजन व विशेषकर गरीब वर्ग से अपील की है कि अगर उनसे काेई भी सरकारी कर्मचारी काम करने के बदले रिश्वत, सुविधा शुल्क अथवा किसी अन्य सेवा वस्तु की मांग करता है ताे इसकी माेबाइल नंबर 94140-00997 पर सूचना दी जा सकती है। सूचना देने वाले का नाम गाेपनीय रखा जाएगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज ऊर्जा तथा आत्मविश्वास से भरपूर दिन व्यतीत होगा। आप किसी मुश्किल काम को अपने परिश्रम द्वारा हल करने में सक्षम रहेंगे। अगर गाड़ी वगैरह खरीदने का विचार है, तो इस कार्य के लिए प्रबल योग बने हुए...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser