चुनाव प्रचार:डीजल व पेट्रोल के पंजाब में घटे रेट भुना रही भाजपा कांग्रेस का शहर के विकास प्रोजेक्ट गिनाने पर जाेर

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राज्य के अंतिम छोर पर पाकिस्तान और पंजाब से सटी पंचायत समिति श्रीगंगानगर में इस बार ग्राम विकास का मुद्दा गौण है। भाजपा व कांग्रेस गांवों की स्थानीय समस्याओं की बजाय केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं को अपने अपने हिसाब से मुद्दा बनाकर भुना रही है।

डीजल और पेट्रोल के रेट भले ही पड़ोसी राज्य पंजाब में ज्यादा कम हुए हैं। इसे भाजपा महंगाई और वैट से जोड़कर राज्य सरकार को घेरने से नहीं चूक रही। शहर में हुए लागू प्रोजेक्ट्स को कांग्रेस गांवों में गिना रही है। भाजपा के लिए केंद्र सरकार की योजनाएं और राज्य में कांग्रेस के चुनावी घोषणा पत्र में पूरे नहीं हुए वादे मुद्दे बने हुए हैं।

कांग्रेस तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने को अपनी उपलब्धि बता रही है। पंचायत समिति में तीन-तीन चुनाव यानी 15 वर्ष से प्रधान पद भाजपा के पास है। जिला मुख्यालय श्रीगंगानगर चारों तरफ पंचायत समिति क्षेत्र से घिरा हुआ है। श्रीगंगानगर शहर से सटी तीन ई छोटी, दो एमएल, रिद्धि-सिद्धि, चार होमलैंड सहित 20 से ज्यादा कॉलोनियां पंचायतों का हिस्सा हैं। इससे शहरी क्षेत्र में भी पंचायत समिति के चुनाव की चर्चा होती है। शहर से सटे क्षेत्रों में प्रत्याशी नुक्कड़ सभाओं का आयोजन कर मतदाताओं से संपर्क साधने का चलन रहा। दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों में व्यक्तिगत जनसंपर्क पर जोर रहा है।

2 जोन में भाजपा के प्रत्याशी नहीं, एक से नामांकन वापस लिया

पंचायत समिति के 29 जोन में से भाजपा ने 28 उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारे थे। एक जोन में भाजपा उम्मीदवार का नामांकन खारिज हो गया। एक जोन में भाजपा उम्मीदवार ने नामांकन वापस ले लिया। इससे कांग्रेस उम्मीदवार का निर्विरोध निर्वाचन हाे गया। अब 26 जोन में भाजपा उम्मीदवार हैं।

भाजपा: पड़ोसी राज्य पंजाब में पेट्रोल और डीजल के रेट कम तो यहां पर क्यों नहीं

गांवों में जनसंपर्क के दौरान भाजपा नेताओं का आरोप रहता है कि पंजाब में भी कांग्रेस की सरकार है। वहां राजस्थान की अपेक्षा डीजल व पेट्रोल के रेट बहुत कम हैं। पंजाब सरकार रेट घटा सकती है तो राजस्थान में कांग्रेस सरकार महंगा डीजल व पेट्रोल क्यों दे रही है। डीजल व पेट्रोल पर सबसे ज्यादा वैट राजस्थान में ही होने को भाजपा उछाल रही है। इसे कृषि की लागत बढ़ने से जोड़कर बताती है। भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश उपाध्यक्ष विनीता अाहूजा व भाजपा के अन्य पदाधिकारियों के अनुसार राज्य सरकार ने कोई भी चुनावी वादा पूरा नहीं किया है।

कांग्रेस: एग्रीकल्चर व मेडिकल कॉलेज बनाए, किसानों के हित में संघर्ष किया

कांग्रेस के चुनाव प्रचार में विधायक राजकुमार गौड़ श्रीगंगानगर शहर में मेडिकल कॉलेज स्वीकृत होने के बाद निर्माण कार्य शुरू होने और एग्रीकल्चर कॉलेज में कक्षाएं लगने को कांग्रेस की उपलब्धि बताने पर जोर देते हैं। कांग्रेस नेता किसान वर्ग को लुभाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से हाल में ही वापस लिए तीनों कृषि कानूनों को किसान विरोधी होना बताते हैं। इनका दावा रहता है कि किसान हित में इन कानूनों को खारिज करवाने में उनकी पार्टी ने केंद्र सरकार के खिलाफ संघर्ष किया। राज्य सरकार की उपलब्धियां गिनाने पर भी जोर रहता है।

खबरें और भी हैं...