प्रशासन का भेदभाव / ब्रह्म काॅलाेनी गरीबाें की बस्ती, दूध सब्जी, राशन कुछ भी नहीं भिजवाया , जवाहरनगर सेक्टर दाे पाॅश क्षेत्र राेजाना दूध, सब्जी व फल सप्लाई

Brahma Colony Gariban Basti, Milk Vegetable, Ration nothing sent, Jawaharnagar Sector, Daa Pasch Region, Rajana Supply of Milk, Vegetable and Fruit
X
Brahma Colony Gariban Basti, Milk Vegetable, Ration nothing sent, Jawaharnagar Sector, Daa Pasch Region, Rajana Supply of Milk, Vegetable and Fruit

  • शहर की दाे काॅलाेनियां जिनमें काेराेना मरीज, एक में साफ-सफाई भी बंद तो दूसरे में जारी

दैनिक भास्कर

Jun 01, 2020, 07:04 AM IST

श्रीगंगानगर. शहर की दाे काॅलाेनियाें में काेराेना मरीज सामने आ चुके हैं। एक काॅलाेनी गरीब वर्ग की है ताे दूसरी पाॅश इलाका है। दाेनाें जगह प्रशासनिक व्यवस्थाएं भी उसी अनुसार अलग-अलग हैं। ब्रह्म काॅलाेनी में काेराेना मरीज 20 मई काे पाया गया था। इसके बाद इस पूरी काॅलाेनी काे सील कर दिया गया। यहां 80 फीसदी राेजमर्रा के कामगार परिवार रहते हैं।

तीन दिन बाद जसवंत काॅलाेनी में भी एक अन्य पाॅजिटिव मरीज के परिजन रह रहे हैं। इसलिए बसंती चाैक के दूसरी तरफ जसवंत काॅलाेनी, हरदीप काॅलाेनी की तीन तीन गलियाें काे सील किया हुआ है। पूर्व पार्षद सुरेंद्र स्वामी ने बताया है कि उनके इलाके काे बंद किए 12 दिन बीत गए लेकिन प्रशासन की ओर से न ताे सूखी राशन सामग्री भिजवाई न ही अन्य काेई मदद पहुंची।

वे अपने स्तर पर समाज सेवकाें से राशन किटें दिलवा रहे हैं और गुरुद्वारा भाई लालाेजी दुख निवारण में सेवादाराें द्वारा तैयार भाेजन घराें में पहुंचा रहे हैं। इन काॅलाेनियाें में सील किए जाने के बाद दूध, सब्जी-फल आदि की समस्या लगातार बनी हुई है। इन काॅलाेनियाें में न ताे कचरा उठाने वाले आ रहे हैं न ही गलियाें अाैर नालियाें की 12 दिनाें से साफ-सफाई हुई है। हरदीप काॅलाेनी में ताे मरीज का काेई संपर्क भी नहीं है, इसके बावजूद उसे भी सील कर रखा है।

करीब 400 घराें के इस बंद इलाके में काेराेना के चार मरीज सामने आने के बाद पहले दिन प्रशासन पूरा सख्त रहा। इसके बाद यहां दूध, सब्जी और फल की सप्लाई के लिए ऑटाे काॅलाेनी में अंदर तक पहुंचकर डाेर टू डाेर सप्लाई दे रहे हैं। स्थानीय निवासी संदीप अनेजा और विजेंद्रसिंह ने बताया कि इस काॅलाेनी मेंं अब किसी तरह की दिक्कत नहीं है। क्याेंकि यहां ऐसा काेई परिवार नहीं है जिसके घर एक-दाे माह का राशन उपलब्ध न हाे।

सभी लाेग नाैकरी करने वाले या काराेबारी हैं। इसलिए परिस्थितियाें काे समझते हैं। यहां राेजाना कचरा उठाने काे ट्रैक्टर ट्राॅली और सड़कें व नालियाें की साफ सफाई काे परिषद का स्टाफ भी आ रहा है। शनिवार रात काे विधायक राजकुमार गाैड़, एसडीएम उम्मेदसिंह रतनू, तहसीलदार संजय अग्रवाल और काेतवाल गजेंद्र जाेधा हालात का जायजा लेने आए थे।

इस काॅलाेनी में काेराेना मरीज आए रविवार काे पांच दिन बीत जाने के बाद स्क्रीनिंग करने स्टाफ पहुंचा है। हालांकि यहां रेंडम सैंपलिंग अभी भी शुरू नहीं की गई है। लाेगाें की मांग है कि पास जारी करके काम पर जाने की अनुमति दी जाए अन्यथा जिस गली में मरीज पाए गए हैं, सील एरिया उसी तक सीमित किया जाए। इस संबंध में शनिवार काे अधिकारियाें के सामने भी बात रखी गई थी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना