पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रक्षा बंधन पर आज विशेष:भैया राखी पर वचन दो, खुद और समाज की सलामती के लिए घर पर ही रहोगे

श्रीगंगानगर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आज सबसे पहले पढ़िए दो बहनों के पत्र। स्वास्थ्य विभाग में डाॅक्टर और नर्सिंग स्टाफ के तौर पर कार्यरत ये बहनें अपने भाइयों से रक्षा सूत्र के बदले कोरोना काल में समाज की सलामती के लिए घरों में ही रहने का वचन मांग रही हैं ताकि भाई भी सुरक्षित रहें, उनका परिवार और समाज भी।

प्यारे भैया
बचपन से ही रक्षाबंधन का इंतजार रहता है कि आपकी कलाई को सुंदर से राखी से सजाऊं। इस बार हालात कुछ और हैं। कोरोना का संक्रमण काल परवान पर है। एक बहन और डॉक्टर होने के नाते भली भांति समझती हूं। अब तक मैं आपकी कलाई पर राखी बांधने के बाद माथे पर तिलक कर आपकी लंबी उम्र की प्रार्थना ईश्वर से करती आ रही हूं। आप राखी के बदले उपहार देने और मेरी रक्षा करने की वचन देते रहे हो।

भैया इस बार राखी पर आपसे दूर रहकर (फिजिकल डिस्टेंसिंग) ही त्योहार मनाने में भलाई है। काेरोना का साया जगह-जगह मंडरा रहा है। इस बार मुझे आपसे उपहार नहीं चाहिए। मुझे चाहिए तो आपकी सलामती, वो सिर्फ आपकी ओर से एक वादा करने से ही संभव है। ये वादा है खुद के साथ दूसरों के कोरोना से बचाव की चिंता करना।

रक्षाबंधन पर आवाजाही करने की वजह से घर में ही रहकर संक्रमण से सुरक्षित रहें। इससे हम कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ कर इस नामुराद बीमारी को हरा सकते हैं। इसी में आपकी सलामती है। रक्षाबंधन पर भाई से दूरियां अगर भाई को संक्रमण से बचाव करते हुए स्वस्थ्य रखने में फलीभूत हो, एक डाॅक्टर बहन के लिए इससे बढ़कर क्या हो सकता है। राखी पर यही दुआ है कि भाई-बहन फिजिकल डिस्टेंसिंग रखकर काेरोना को हराएं, ताकि अगला रक्षाबंधन दोगुने उत्साह के साथ मना सकें।
आपकी बहन, डॉ. पूनम गेदर, एमओ, आरबीएसके, सूरतगढ़ ब्लॉक।

प्यारे भैया,
कोरोना की आहट के बाद होली से ही लोगों को इसके संक्रमण से मुक्त करने के लिए ड्यूटी कर रही हूं। रक्षाबंधन से बढ़कर मेरे लिए कोई त्योहार नहीं हाे सकता। भाई-बहन के इस खास त्योहार को कभी मिस नहीं किया। इस बार मेरा मिजाज कुछ बदला हुआ है। इसे अटपटा महसूस नहीं करना। भैया में नर्सिंग पेशे में हूं। मरीजों की सेवा कर उनके स्वास्थ्य के लिए दुआ करना मेरा धर्म है। इसी वजह से हमें सारे मरीज सिस्टर मानते हैं।

कोरोना संक्रमण के दौर में एक बहन अपने भाई की सेहत से खिलवाड़ होने दे, ऐसे मैं सोच नहीं सकती। आप भी लापरवाही बरतें, ये भी मुझे बर्दाश्त नहीं हाेगा। इस बार के रक्षाबंधन पर मुझे आपकी कलाई पर मेरी ओर से भेजी राखी सजाने के बदले एक ही वचन चाहिए। बस आप रक्षाबंधन पर इधर-उधर आवाजाही करने की बजाय घर पर ही सुरक्षित रहें।

कोरोना से आपकी हिफाजत कायम रहना, मेरे लिए आपकी ओर से इससे बढ़कर दुनिया का नायाब तोहफा कोई नहीं हो सकता। म भगवान आपको कोरोना की बुरी नजरों से बचाए और आप भी फिजिकल डिस्टेंसिंग की पालन करते हुए समाज को संक्रमण मुक्त रखने में अपनी भागीदारी निभाएं। इस रक्षाबंधन पर झोली फैलाकर भगवान से आपके लिए ये ही दुआ करती हूं।
आपकी बहन, नवदीप कौर, नर्सिंग स्टाफ, अर्बन डिस्पेंसरी, श्रीगंगानगर।

कोरोनाकाल में राखी |आज जरूर मनाएं लेकिन ध्यान रहे, फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करें। मास्क लगाकर रखें और अनावश्यक यात्रा करने से बचें। कंटेंट: संदीपसिंह धामू

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser