पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

साल के अंतिम दिन भ्रष्टाचार पर शिकंजा:आयुक्त का दावा 5.40 लाख रुपए ठेकेदार से उधार लिए, ठेकेदार बाेला- मैं जानता तक नहीं

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • चेयरमैन पति व 3 ठेकेदार बाेले, अायुक्त लेती रहती है उधार, गिरफ्तारी की तलवार लटकी

भास्कर टीम |सीकर/श्रीगंगानगर आयुक्त प्रियंका बुडानिया ने एसीबी के सामने झूठ बाेला था कि 5.40 लाख रुपए के गहने और नगदी उसने एक ठेकेदार से उधार लिए थे। जबकि जिस ठेकेदार का नाम आयुक्त ने एसीबी काे बताया वह इससे साफ ही मुकर गया। उसने बताया कि वह आयुक्त काे जानता तक नहीं और ना ही कभी उसने उसकाे देखा है। इसी काे आधार मानकर सीकर एसीबी ने आयुक्त के खिलाफ आय से अधिक राशि मिलने तथा पद के दुरुपयोग का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की है।

सीकर एसीबी के डीवाईएसपी जाकिर अख्तर ने बताया कि 25 दिन पहले श्रीगंगानगर आयुक्त प्रियंका बुडानिया के खिलाफ शिकायत मिली थी कि वह कार लेकर जयपुर जा रही है। कार में उसके पास लाखाें रुपए के गहने और नगदी हैं। इस पर आयुक्त के खिलाफ सर्च अभियान शुरू कर उसकी कार काे पांच दिसंबर की रात काे लक्ष्मणगढ़ के पास रुकवाया था। तलाशी के दाैरान आयुक्त के पास कार में 1.40 लाख नकद और 10.16 लाख रुपए के गहने बरामद हुए थे।

नप चेयरमैन के पति चांडक से भी रु. लेने बताए

इस संबंध में जब आयुक्त से पूछताछ की गई ताे उन्हाेंने बताया था कि 1.40 लाख रुपए और गहनाें के लिए चार लाख रुपए उसने मजबूरी में किसी ठेकेदार से उधार लिए थे। बाकी रुपए दूसरे लाेगाें से उधार लेना कबूला था। लेकिन, एसीबी ने जब 5.40 लाख रुपए उधार देने वाले श्रीगंगानगर नगर परिषद के ठेकेदार लक्की चावला से पूछताछ की ताे वह मुकर गया।

ठेकेदार ने एसीबी काे बताया कि वह आयुक्त प्रियंका बुडानिया काे जानता तक नहीं। न ही कभी उनसे मिला है। आयुक्त का झूठ पकड़ में आने के बाद एसीबी ने उसके खिलाफ आय से अधिक राशि मिलने का मुकदमा दर्ज कर लिया। कार में मिले 1.40 लाख रुपयों के बारे में आयुक्त प्रियंका ने एसीबी सीकर काे बताया कि यह रकम श्रीगंगानगर के पांच लाेगाें से उधार ली है। इनमें श्रीगंगानगर की चेयरमैन करुणा चांडक के पति अशाेक चांडक का नाम भी शामिल था।

हालांकि आयुक्त से पूछताछ के दाैरान एसीबी डीवाईएसपी जाकिर अख्तर ने रात काे ही इन लाेगाें काे फाेन किया। तब इन पांचाें के माेबाइल नंबर बंद मिले। इस पर आयुक्त पर शक और गहरा गया। 6 दिसंबर काे श्रीगंगानगर एसीबी ने संबंधित लाेगाें से संपर्क किया। श्रीगंगानगर चाैकी से डीवाइएसपी वेदप्रकाश लखाेटिया ने इन पांचाें के बयान दर्ज कर गाेपनीय रिपाेर्ट सीकर भिजवा दी। इनमें चार ने ताे आयुक्त काे रुपए उधार देने की बात बताई।

जबकि एक ने साफ ताैर पर मना कर दिया था। व्यापारी सहित तीनाें ठेकेदार बाेले कि आयुक्त अक्सर उनसे रुपए उधार मांगती रहती है। पूरी जांच में एसीबी इस नतीजे पर पहुंची कि आयुक्त के पास मिले गहने विभिन्न लाेगाें द्वारा भुगतान करवाकर खरीदे गए हैं। जाे कि पद के दुरुपयोग की श्रेणी में आता है। इसके साथ आय से अधिक राशि का मामला भी बनता है। इस रिपाेर्ट पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

लक्ष्मणगढ़ में भी पारित हुआ था निंदा प्रस्ताव

श्रीगंगानगर आयुक्त प्रियंका तीन-चार साल पहले लक्ष्मणगढ़ में भी नगर पालिका ईओ के पद पर रही थी। इस दाैरान आयुक्त की कार्यशैली काे लेकर बैठक में निंदा प्रस्ताव पारित किया गया था। नगदी और गहने मिलने के मामले में अब एसीबी अनुसंधान करेगी। जिसमें अपराध प्रमाणित हाेते ही आयुक्त काे गिरफ्तार किया जाएगा। जांच हाेने तक डीएलबी आयुक्त काे एपीओ या सस्पेंड भी कर सकती है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें