पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

धर्म:अन्नक्षेत्र श्री राम मंदिर में अखंड राम नाम संकीर्तन की हुई पूर्णाहुति

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सफेद लिबास, गले में पीला साफा और मुंह पर भगवा मास्क पहन पिछले नौ दिनों से सियाराम जय-जय सियाराम के अखंड राम नाम संकीर्तन की रसधारा बहा रहे मंदिर से जुड़े सदस्य और राम-नाम धुन पर मस्त होकर नाचते श्रद्धालु। मौका था सूरतगढ़ रोड स्थित अन्नक्षेत्र श्री राम मंदिर में नवरात्र स्थापना से विजयादशमी तक आयोजित वार्षिकोत्सव के समापन पर राम-नाम जाप की पूर्णाहुति का।

मंदिर के प्रधान अजय कृष्ण स्वामी ने बताया कि राम-नाम जाप की पूर्णाहुति के बाद भगवान श्री राम को सवामणियों का महाभोग लगाकर उपस्थित श्रद्धालुओं में प्रसाद वितरित किया गया।

प्रवक्ता अभय शंकर स्वामी ने बताया कि पिछले तीस वर्षों से आश्विन शुक्ल नवरात्रों में आयोजित इस कार्यक्रम को श्रद्धा एवं उल्लास पूर्वक मनाया जा रहा था लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के चलते मंदिर में भगवान श्री राम के दर्शनों के लिए आने वाले भक्तजनों को कोविड-19 की सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार मास्क लगाकर आने पर ही प्रवेश दिया गया तथा मंदिर में सेनेटाइजर व फिजिकल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए मंडल से जुड़े केवल चार-चार सदस्यों ने प्रतिदिन छह पारियों में ड्यूटियां देते हुए संपन्न करवाया।

मंदिर के ट्रस्टी व भंडारा प्रभारी अशोक चराया, बलबीर सिंगाठिया व दिनेश चराया ने बताया कि वार्षिकाेत्सव के दौरान दस दिन तक निरंतर चलने वाला अटूट भंडारा भी कोरोना संक्रमण के कारण नहीं लगाया गया। मंडल से जुड़े अजय कृष्ण, अभय शंकर, गोपाल शर्मा, अतुल कुमार, प्रेम स्वामी, प्रवीण, नरेश भाकर, बाल गोपाल, शुभम व अजय पांडे के अलावा मानसी स्वामी, सुनीता, ईशा, गौरी, प्रीति, रिया ने अपने-अपने ग्रुप के साथ 2-2 घंटे की पारी में प्रतिदिन राम-नाम जाप किया। इस दाैरान इन सेवादाराें काे समिति की ओर से सम्मानित किया गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- रचनात्मक तथा धार्मिक क्रियाकलापों के प्रति रुझान रहेगा। किसी मित्र की मुसीबत के समय में आप उसका सहयोग करेंगे, जिससे आपको आत्मिक खुशी प्राप्त होगी। चुनौतियों को स्वीकार करना आपके लिए उन्नति के...

और पढ़ें