पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आपदा में चाह रहे फायदा:कोरोना ने बढ़ाई फलों की मांग, आसामन छू रहे दाम, व्यापारी बोले, ‘कमजोर आवक से बढ़ रही कीमत’

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीगंगानगर की सब्जी मंडी में बिक्री के लिए रखे फल। - Dainik Bhaskar
श्रीगंगानगर की सब्जी मंडी में बिक्री के लिए रखे फल।

जहां एक ओर पूरा देश गंभीर कोरोना बीमारी से जूझ रहा है। डॉक्टर फलों का अधिक से अधिक से अधिक उपयोग कर इम्युनिटी मजबूत करने की बात कहते हैं, वहीं गंभीर आपदा के इस मौके को फल व्यापारियों ने फायदे का मौका बनाने में चूक नहीं रखी है। हर फल पहले से ज्यादा दाम में बिकने लगा है। जिन फलों की ज्यादा मांग है, वे तो जैसे आसमान ही छूने लगे हैं। संतरा, माल्टा और मौसमी तथा कीवी जैसे विटामिन ‘सी’ की कमी पूरी करने वाले फलों की मांग में अचानक आई तेजी ने इनके भाव बढ़ा दिए हैं। कुछ दिन पहले तक आठ से दस रुपए प्रति नग के भाव से बिकने वाला कीवी अब थोक में बीस से पच्चीस रुपए प्रति नग बिक रहा है।

संतरा, मौसमी, माल्टा में उछाल
इसके अलावा संतरा, मौसमी और माल्टा जैसे फल थोक में सौ रुपए प्रति किलो तक है। रिटेल बाजार में यह 130 रुपए प्रति किलो से 160 रुपए प्रति किलो तक बिक रहे हैं। इसके अलावा सेब 180 से 250 रुपए प्रति किलो, अंगूर 120 रुपए प्रति किलो, केला 30 रुपए प्रति किलो, आलू बुखारा 80 रुपए प्रति किलो, खरबूजा 30 तथा आम 60 रुपए प्रति किलो तक बिक रहा है।

डॉक्टरों की सलाह, ‘फलों के सेवन से होगा बचाव’
कोरोना संक्रमण के दौरान डॉक्टर फलों के सेवन की सलाह दे रहे हैं। उनका कहना है कि फलों का अधिक से अधिक उपयोग रोगी को मजबूत बनाता है और उसकी इम्युनिटी बढ़ाता है। ऐसे में बाजार में ग्राहक बढ़े और इसी को फल व्यापारियों ने फायदे का सौदा बना लिया।

मांग निकली तो बढ़े दाम
श्रीगंगानगर सब्जी मंडी समिति के प्रधान जीएस खनूजा ने बताया- इन दिनों विटामिन सी देने वाले फलों के दाम बढ़े हैं। कीवी प्रति नग दस से बीस रुपए तक बढ़ गया है। संतरा, मौसमी और माल्टा सौ रुपए प्रति किलो थोक में बिकने लगा है। सभी फल जयपुर और देश के अन्य हिस्सों से आते हैं, ऐसे में कोरोना के कारण बढ़ी मांग और घटी आवक ने दाम घटाए हैं।