पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चुनाव की तैयारी:ग्रामीण क्षेत्र में काेराेना संक्रमण घटा; दाे सप्ताह में जिले में एक्टिव राेगियाें की संख्या 756 से कम होकर 294 हुई

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • राज्य निर्वाचन आयोग ने जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग सेे ग्रामीण क्षेत्र में संक्रमण की स्थिति की साप्ताहिक समीक्षा रिपोर्ट मांगी

ग्रामीण क्षेत्र में अब कोरोना का संक्रमण कम हो रहा है। इसी दौरान राज्य निर्वाचन आयोग ने जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने ग्रामीण क्षेत्र में संक्रमण की स्थिति की साप्ताहिक समीक्षा रिपोर्ट मांगी है। इससे जिला परिषद और पंचायत समितियों के चुनाव होने की सुगबुगाहट बढ़ी है। आयोग की ओर से चुनाव के संकेत देने से चुनाव लड़ने के दावेदारों की सक्रियता भी बढ़ी है।

जिले में जिला परिषद के 31 और 9 पंचायत समितियों के 169 सदस्यों के चुनाव होना अभी बाकी हैं। जिला परिषद व पंचायत समिति में प्रशासक लगे हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार जून में जिले में कोरोना का पीक खत्म होने की आेर है। दूसरे सप्ताह में ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना के एक्टिव रोगियों की संख्या 756 से कम होकर 294 रह चुकी है।

पहले कोर्ट प्रकरण से चुनाव अटके, फिर नई नगरपालिका बनी अड़चन

वर्ष 2020 में जनवरी-फरवरी में जिला परिषद और 9 पंचायत समितियों का कार्यकाल पूरा हो चुका था। हालांकि राज्य निर्वाचन आयोग ने निर्धारित समय पर चुनाव प्रक्रिया शुरू कर दी थी। तब नई पंचायतों के पुनर्गठन व परिसीमन के प्रकरण में विचाराधीन होने की वजह से पंचायत चुनाव स्थगित करने पड़े थे। इसके बाद ग्राम पंचायतों के चुनाव अक्टूबर तक पूरे हुए। सादुलशहर पंचायत समिति की ग्राम पंचायत लालगढ़ को नगरपालिका बनाने से जिला परिषद व पंचायत समिति के जाेन का परिसीमन प्रभावित हुआ।

इससे चुनाव प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकी। अब पंचायतों के दोनों जोनों का पुनर्गठन कर नया जोन बना दिया गया है। इसका आरक्षण निर्धारित कर दिया गया है। पंचायत समितियों में श्रीगंगानगर में 29, अनूपगढ़ में 15, श्रीकरणपुर में 15, रायसिंहनगर में 19, पदमपुर में 17, घड़साना में 17, श्रीबिजयनगर में 15, सादुलशहर में 19 और सूरतगढ़ में 23 सदस्याें का चुनाव होना बाकी है।

642 केस कम, नए पॉजिटिव भी घटे

सीएमएचओ कार्यालय की रिपोर्ट के अनुसार जून के पहले सप्ताह में श्रीगंगानगर जिले में कुल 574 नए केस मिले। इसमें ग्रामीण क्षेत्र में 393 व शहरों में 181 नए पॉजिटिव केस मिले थे। ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में एक्टिव केसों की संख्या क्रमश: 756 और 437 थी।

दूसरे सप्ताह में ग्रामीण क्षेत्र में एक्टिव केसों की संख्या 462 कम होकर 294 रह चुकी है। इसी दौरान ग्रामीण क्षेत्र में नए पॉजिटिव केस 149 ही आए। शहरी क्षेत्र में अब 98 नए पॉजिटिव मिले और एक्टिव रोगियों की संख्या 155 हो चुकी है।

आयोग ने कलेक्टरों को पत्र भेजकर संक्रमण की साप्ताहिक रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए थे
इससे पूर्व अगस्त 2020 में जिले की आठ नगरपालिकाओं-सादुलशहर, श्रीकरणपुर, केसरीसिंहपुर, गजसिंहपुर, पदमपुर, श्रीबिजयनगर,अनूपगढ़ और रायसिंहनगर का कार्यकाल पूरा होने के दौरान कोरोना का संक्रमण था। तब राज्य निर्वाचन आयाेग ने इन पालिकाओं में चुनाव अक्टूबर 2020 तक स्थगित करते हुए प्रशासक लगा दिए थे।

फिर शहरी क्षेत्र में कोराेना संक्रमण की साप्ताहिक समीक्षा रिपोर्ट में संक्रमण कम होना पाए जाने पर दिसंबर में पालिका चुनाव करवाए थे। राज्य निर्वाचन आयोग ने 31 मई को जिला कलेक्टरों व स्वास्थ्य विभाग को पत्र भेज कर ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना संक्रमण की साप्ताहिक रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए थे। इससे जिला परिषद व पंचायत समितियों के चुनाव होने की संभावना है।
इस बार कांग्रेस के लिए चुनौती

वर्ष 2015 में हुए चुनाव में सत्ताधारी भाजपा ने जिला परिषद में अपना प्रमुख बनाया। 9 पंचायत समितियों में से 5 में अनूपगढ़, रायसिंहनगर, श्रीगंगानगर, सूरतगढ़ और श्रीबिजयनगर में भाजपा, 3 पंचायत समितियों-श्रीकरणपुर, पदमपुर और सादुलशहर में कांग्रेस का प्रधान बना था।

एक पंचायत समिति घड़साना में माकपा ने प्रधान बनाया था। इस बार सरकार होने की वजह से कांग्रेस के लिए जिला परिषद व पंचायत समिति चुनाव चुनौती बनेंगे। दिसंबर 2019 में पंचायत समितियों व जिला परिषद के सदस्यों, जिला प्रमुख व प्रधान पदों का आरक्षण निर्धारित होने के बाद दावेदारों की सक्रियता बढ़ी थी। फिर चुनाव स्थगित होने से चुनाव लड़ने के इच्छुक नेता एक बार शांत हो गए।

खबरें और भी हैं...