पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गैस का दुरुपयोग रोकने के लिए चलाया विशेष अभियान:सिलेंडर किसी और कंपनी का, सील किसी दूसरे कंपनी की, शहर के अनेक प्रतिष्ठानों पर काॅमर्शियल सिलेंडरों के बिल ही नहीं मिले

श्रीगंगानगर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में काॅमर्शियल सिलेंडर के नाम पर घरेलू गैस सिलेंडर की ही अदला-बदली धड़ल्ले से की जा रही है। सिलेंडर किसी और कंपनी का और सील किसी दूसरी कंपनी की। सुनने में अजीब लगे, लेकिन सच है। गंगानगर एलपीजी फैडरेशन की ओर से साेमवार काे घरेलू गैस का दुरुपयोग रोकने के लिए विशेष अभियान चलाया गया।

इस दाैरान होटल-ढाबों, रेस्टोरेंट पर काॅमर्शियल सिलेंडरों के बिल जांचे गए। जिलाध्यक्ष पंकज नागपाल ने बताया कि इस दौरान अनेक चौंकाने वाले खुलासे हुए। कई प्रतिष्ठानों पर अनियमितताएं पाई गईं तथा मौके पर काॅमर्शियल सिलेंडर के बिल भी नहीं पाए। एक व्यावसायिक प्रतिष्ठान पर गजब का खेल सामने आया, सिलेंडर किसी और कंपनी का तथा सील दूसरी कंपनी की लगी हुई थी।

वहीं, अनेक स्थानों पर प्रयोग किए जा रहे काॅमर्शियल सिलेंडर का बिल मांगने पर संतोषजनक जवाब नहीं मिला, जिससे घरेलू गैस के बड़े पैमाने पर दुरुपयोग की आशंका सही सिद्ध हो रही है। घरेलू गैस की काॅमर्शियल सिलेंडर में रीफिलिंग करके सरकार को भारी राजस्व का नुकसान पहुंचाने के साथ-साथ व्यावसायिक क्षेत्रों में इन अवैध गतिविधियों से हर समय जान-माल के नुकसान की आशंका भी बनी रहती है।

फैडरेशन के जिलाध्यक्ष पंकज नागपाल ने कहा कि सुखद बात यह रही कि विजय पनीर हाऊस, राज जीरा आदि प्रतिष्ठानों पर नियमानुसार सही बिल पाए गए। इसी प्रकार अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठानों के संचालकों को भी सरकार के दिशा-निर्देशानुसार काॅमर्शियल सिलेंडर ही उपयोग करने तथा बिल अवश्य लेने के लिए प्रेरित किया गया, ताकि भविष्य में अनावश्यक परेशानियों से बचा जा सके।

अभियान में जिलाध्यक्ष पंकज नागपाल के साथ सातों गैस एजेंसियों के संचालक संजीव पूनिया, गौरव सुखीजा, राहुल अरोड़ा, संजय मित्तल, ईशान नागपाल, लक्की मिड्ढा, राजपाल नागपाल, मयंक चड्ढा आदि शामिल थे।

खबरें और भी हैं...