पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बड़ा हादसा:नहर में जीप के साथ डूबे कांस्टेबल का शव मिला, गांव 13 केएलडी में अंतिम संस्कार

श्रीगंगानगर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बीकानेर कैनाल की आरडी 404 पर गिरी थी जीप, अारडी 420 पर मिला शवसहायता

नहर में गिरी सिंचाई विभाग की जीप के साथ बहे कांस्टेबल का शव बुधवार सुबह बरामद हाे गया। जिला पुलिस ने जिला अस्पताल से शव का पाेस्टमार्टम करवाया। इसके बाद पुलिस लाइन में शहीद कांस्टेबल पवनकुमार मीणा काे गार्ड ऑफ ऑनर के साथ सलामी दी गई।

दाेपहर बाद शव काे लेकर हिंदुमलकाेट एसएचओ रामप्रताप वर्मा कांस्टेबल के पैतृक गांव बीकानेर जिले की खाजूवाला तहसील के गांव 13 केएलडी पहुंचे। गांव में राजकीय सम्मान के साथ शव का अंतिम संस्कार करवाया गया। इस दाैरान खाजूवाला विधायक गाेविंदराम मेघवाल, खाजूवाला एसएचओ रमेश सर्वटा व गांव के सरपंच, पंच सहित बड़ी संख्या में नागरिक शहीद जवान काे सलामी देने पहुंचे।

इससे पहले दाेपहर में पुलिस लाइन में विधायक राजकुमार गाैड़, एसपी राजन दुष्यंत, एएसपी सहीराम बिश्नाेई,सीओ ग्रामीण भंवरलाल मेघवाल एवं अन्य पुलिस अधिकारियाें व जवानाें ने शहीद कांस्टेबल पवनकुमार मीणा के शव पर पुष्प चक्र अर्पित कर सलामी दी। कांस्टेबल पवनकुमार जैसलमेर जिले में कांस्टेबल के पद पर पुलिस सेवा में शामिल हुआ था। वह जिला बदलवाकर श्रीगंगानगर आया था और 8 जुलाई काे ही उसने पुलिस लाइन में डयूटी जाॅइन की थी।

गंगनहर पर गश्त के दाैरान टायर फिसल जाने से जीप सहित गिर गया था अंदर, तैरना नहीं आता था

हादसा मंगलवार दाेपहर काे बीकानेर कैनाल की आरडी 404 पर हुआ। सिंचाई विभाग के उत्तर खंड की जीप में विभाग के चालक विनाेदकुमार के साथ कांस्टेबल पवनकुमार मीणा गश्त कर रहे थे। आरडी 404 पर नहर के पश्चिमी तरफ के पटड़े पर सिल्ट के ढेर से टायर फिसल जाने से जीप के टायर नहर में उतर गए और इस तरह जीप नहर में जा गिरी। जीप के चालक विनाेदकुमार ने कूदकर जान बचाई जबकि पवनकुमार मीणा काे तैरना भी नहीं आता था।

इसके अलावा हादसे के समय घटनास्थल पर नहर में पानी की मात्रा 1700 क्यूसेक से अधिक थी। वहां पर नहर की गहराई भी 18 फीट से अधिक है। इतने गहरे और तेज बहाव के पानी में तैरना नहीं जानने के कारण पवनकुमार जीप के साथ ही डूब गया। नागरिक सुरक्षा विभाग के लीडिंग फायरमैन आत्माराम स्वामी और उनकी टीम ने आरडी 420 के पास बुधवार सुबह पवनकुमार काे तलाशकर बाहर निकाल लिया। तब तक उसकी मृत्यु हाे चुकी थी।

विधायक कुन्नर ने मीणा के परिवार को दी एक लाख की आर्थिक मदद

पवनकुमार मीणा चार भाइयाें में दूसरे नंबर पर था। उससे बड़ा कमलेशकुमार मीणा राजस्व विभाग में पटवारी है। पवन से दाे छाेटे भाई सरकारी नाैकरी के लिए तैयारी कर रहे हैं। पवनकुमार शादीशुदा था और दाे साल के बच्चे का पिता भी है। वह 2013 में राजस्थान पुलिस में कांस्टेबल के पद पर भर्ती हुआ था। करणपुर विधायक गुरमीतसिंह कुन्नर ने शहीद के परिवार काे एक लाख रुपए की आर्थिक सहायता की घाेषणा की है। उन्हाेंने एक प्रेस बयान में कहा कि कांस्टेबल पवनकुमार नहराें में पानी चाेरी राेकने काे निगरानी डयूटी कर रहे थे। वे किसानाें की जल संकट की समस्या के समाधान में प्रत्यक्ष भूमिका निभा रहे थे। उनकी शहादत काे पूरा जिला नमन करता है।

खबरें और भी हैं...