पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पूरा सिस्टम ही ‘क्वारेंटाइन’:कोरोना रोगियों में भी भेदभाव: सिफारिश है तो घर रहिए...नहीं तो अस्पताल जाना होगा

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आप खुद देखिए...कहीं पांच घरों को कंटेनमेंट जोन बनाया तो कहीं 600 मीटर की पूरी गली ही सील कर दी

जिले में काेराेना राेगियाें की संख्या में तेजी से इजाफा हाे रहा है। बीते 14 दिन के दरम्यिान 165 नए राेगी सामने आ चुके हैं। जैसे-जैसे काेराेना राेगी बढ़ रहे हैं, वैसे-वैसे लापरवाही बढ़ती जा रही है। कलेक्टर महावीर प्रसाद वर्मा ने 6 अगस्त काे काेविड-19 संक्रमित व्यक्तियाें काे हाेम आईसाेलेशन में रखने के संबंध में स्पष्ट गाइड लाइन जारी की। लेकिन गाइड लाइन की पालना नहीं की जा रही।

काेराेना पाॅजिटिव आने वाला राेगी यदि गरीब तबके से है या सिफारिश नहीं है ताे उसे किसी भी सूरत में हाेम आईसाेलेशन की अनुमति नहीं मिल रही। इसके विपरीत यदि काेराेना पाॅजिटिव धनाढ्य है व अच्छी एप्राेच रखता है ताे किसी भी प्रकार की औपचारिकता की जरूरत नहीं है, उसे घर में ही उपचार की अनुमति मिल जाएगी। स्वास्थ्य विभाग की इस दाेहरी नीति की वजह से लाेग परेशान हैं।

एक कारण यह भी है कि गरीब तबके के लाेगाें काे इतनी अधिक औपचारिकताएं बता दी जाती हैं कि वह इन्हें पूरी ही नहीं कर पाता। भास्कर चाहता है कि लाेगाें काे अधिक से अधिक सुविधा मिले। लेकिन सुविधा में काे एक समान सुविधा मुहैया हाे। जानकारी रखने वाले तहसीलदार, पड़ाेसियाें, डाॅक्टर से शपथ-पत्र हासिल कर सकते हैं, लेकिन गरीब लाेग इस बारे में साेच भी नहीं सकते।

ऐसे में उन्हें अस्पताल में ही रहना पड़ता है। मामले में जिले के काेविड प्रभारी डाॅ. एचएस बराड़ का कहना है कि जिला प्रशासन द्वारा जारी गाईडलाइन की पालना करने वालाें काे ही हाेम आईसाेलेशन की छूट दी जाती है। काेराेना पाॅजिटिव अन्य किसी राेग से पीड़ित नहीं हाेना चाहिए। अधिक उम्र न हाे, घर बड़ा हाे, केयर टेकर की व्यवस्था हाे ताे घर पर रहने की अनुमति दी जा सकती है। भेदभाव किए जाने के संबंध में काेई शिकायत प्राप्त नहीं हुई है।

राज्य कर्मचारी काॅलाेनी, शंकर काॅलाेनी सहित अन्य जगहाें पर हाल ही आए काेराेना मरीज केयर टेकर रखने में सक्षम हैं, वहीं इनके घर भी बड़े हैं। इसके बावजूद इन्हें घर की अनुमति नहीं दी गई। दूसरी तरफ अंबिका सिटी क्षेत्र में मिले मरीजाें पर ऐसा काेई प्रतिबंध लागू नहीं हुआ। जिला प्रशासन यदि हाेम आईसाेलेशन किए गए मरीजाें के संबंध में जानकारी ले ताे और भी बड़े खुलासे हाे सकते हैं।

यह भी संभव है कि जिन लाेगाें काे घराें में रहने की अनुमति दी गई है उनसे काेई प्रमाण-पत्र लिए ही नहीं गए हाें। दूसरा जिला प्रशासन द्वारा तय गाइड लाइन की पालना की गई है या नहीं इसकी हकीकत भी जांच में ही सामने आ सकती है।

काेराेना राेगी पाए जाने की स्थिति में प्रशासन द्वारा बनाए जा रहे कंटेनमेंट जाेन भी लंबे समय से विवाद में रहे हैं। गरीब बस्तियाें में पूरे 14 दिन कर्फ्यू लगाया जा रहा है। वहीं प्रतिबंधित क्षेत्र भी अधिक है। दूसरी तरफ पाॅश काॅलाेनियाें में एक गली या तीन-चार घराें तक बंद किया जा रहा है।

बीते दिनाें वार्ड 27 में बनाए गए कंटेंनमेंट जाेन व जवाहरनगर में बने जाेन के बाद यह स्थिति देखने काे मिली। लाेगाें का कहना है कि एन ब्लाॅक में 4-5 घराें काे कंटेनमेंट जाेन बनाया गया, वहीं अग्रसेन नगर में 400 से 700 मीटर क्षेत्र प्रतिबंधित है। दुर्गा मंदिर के पास भी कुछ एरिया ही प्रभावित है।

हाेम आईसाेलेशन के लिए 7 आवश्यक शर्तें

1. संक्रमित हाेम आईसाेलेशन के लिए लिखित प्रार्थना-पत्र और शपथ-पत्र सहित प्रस्तुत करे। 2. संक्रमित के घर पर लाल रंग में हाेम आईसाेलेशन का नाेटिस चस्पा किया जाएगा। 3.हाेम आईसाेलेट करने से पूर्व केयर टेकर एवं दाे पड़ाेसियाें का शपथ-पत्र भी लिया जा सकता है। 4. हाेम आईसाेलेशन के लिए व्यक्ति के घर पर काेविड-19 गाइडलाइन अनुसार सुविधाएं उपलब्ध हैं, इस आशय का प्रमाण-पत्र संबंधित क्षेत्र के तहसीलदार द्वारा संलग्न प्रपत्र में दिया जाएगा। 5.उपचार करने वाले चिकित्सक/ हाेम आईसाेलेशन करने वाले डाॅक्टर एवं केयर टेकर के बीच लगातार राेगी एवं परिवार के सदस्याें के बारे में संवाद हाेना जरूरी है। 6.हासंबंधित चिकित्सक एवं उपचार करने वाले डाॅक्टर जांच के बाद लिखित में यह निश्चय करेंगे कि संक्रमित व्यक्ति काे हाेम आईसाेलेट किया जा सकता है। 7. संक्रमित व्यक्ति, केयर टेकर एवं परिवार के सदस्याें काे आराेग्य सेतु ऐप माेबाइल में इंस्टाल कर निरंतर उससे जुड़ा रहना हाेगा।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें