पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सख्ती के लिए रणनीति:गबन के आराेपी ओमप्रकाश का स्टे खारिज करवाने में जुटा शिक्षा विभाग, हाईकाेर्ट में सुनवाई 5 जुलाई को

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • श्रीगंगानगर सीबीईओ कार्यालय में 37.38 कराेड़ के गबन मामले काे लेकर बीकानेर से आए अधिकारी
  • आराेपी के खिलाफ सारे सबूत तैयार, दाेषियाें पर हाेगी कार्रवाई

शिक्षा विभाग के श्रीगंगानगर सीबीईओ कार्यालय में 37.38 कराेड़ रुपए के गबन के मामले काे लेकर शुक्रवार काे बीकानेर से आए शिक्षा अधिकारियाें की ओर से मटका चाैक स्थित राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में बैठक आयाेजित की गई। इसमें गबन मामले के विभिन्न पहुलओं से जुड़े पुलिस अधिकारियाें, काेर्ट व शिक्षा अधिकारियाें से चर्चा की गई।

सूत्राें के अनुसार आराेपी ओमप्रकाश शर्मा के खिलाफ हाईकाेर्ट में 5 जुलाई काे सुनवाई हाेगी। आराेपी के खिलाफ सभी तरह के सबूत जुटा लिए गए हैं। सभी दाेषियाें के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी ताकि भविष्य में इस तरह के गबन पर अंकुश लगाया जा सके।

निदेशालय बीकानेर ने इस मामले काे गंभीरता काे समझते हुए 37.38 कराेड़ रुपए गबन की जांच के लिए दाेबारा टीम गठित की है ताकि आराेपी के खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाई पूरी की जा सके और गबन के रुपयाें की भी पूरी तरह से रिकवरी की जा सके।

आराेपी से कुछ हद तक गबन के रुपयाें की रिकवरी की जा चुकी है। बता दें कि आराेपी पीटीआई ने गबन के लिए सभी बिल खुद, पत्नी, साले, भाई व कुछ परिचिताें के नाम से तैयार किए थे। वर्ष 2015 में यह घाेटाला शुरू हुआ था।

2019 तक ओमप्रकाश ने 24 लाेगाें के नाम से 515 बैंक खाते खुलवाकर उसमें 37 कराेड़ 38 लाख रुपए ट्रांसफर कर किए थे। इस कड़ी में 2019 में घाेटाला पहली बार पकड़ में आया था। इसके बाद आराेपी कुछ समय के लिए जेल भी गया लेकिन बाद में छूट गया।

इसके बाद से आराेपी आराम से अपनी नाैकरी कर रहा है। लंबे समय से इस केस में काेई भी कार्रवाई भी नहीं हुई है। उम्मीद है विभाग अब जल्द ही इस मामले में काेई ठाेस कार्रवाई करते हुए दाेषियाें काे सजा दिलवाएगा।

बैठक: अधिकारियों की मटका चाैक राजकीय बालिका उमा विद्यालय में हुई बैठक

ओमप्रकाश के स्टे काे इस बार तुड़वाएंगे ताकि आगे की कार्रवाई पूरी की जा सके : आराेपी ओमप्रकाश शर्मा ने कार्रवाई से बचने के लिए स्टे ले रखा है। इसके चलते आराेपी का मुख्यालय मल्टीपर्पज स्कूल बनाया गया है। जहां ये आराेपी अपनी नियमित रूप से हाजिरी दर्ज करवा रहा है।

इसकी हाजिरी दर्ज करवाने की जिम्मेदारी प्रधानाचार्य की है। आराेपी के स्टे काे इस बार हाईकाेर्ट में 5 जुलाई काे हाेने वाली सुनवाई में तुड़वाएंगे ताकि आराेपी के खिलाफ आगे की कार्रवाई पूरी की जा सके। आराेपी ओमप्रकाश सहित 11 अन्य अधिकारियाें व कर्मचारियाें पर 16 सीसीए की कार्रवाई चल रही है। इस कार्रवाई में टर्मिनेट भी एक दंड है।

सभी अधिकारियाें काे आवश्यक दिशा-निर्देश दिए : एडी बीकानेर रचना भाटिया ने बताया कि डायरेक्टर साैरभ स्वामी खुद इस मामले की जांच काे लेकर काफी गंभीर हैं। इस मामले से जुड़े दाेषियाें के खिलाफ कार्रवाई हाेगी। आराेपी के खिलाफ सभी सबूत जुटा लिए गए हैं। उन्हाेंने बताया कि इस बैठक में शामिल सभी अधिकारियाें काे आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए हैं। भविष्य में भी इस मामले काे लेकर बैठकें हाेंगी।

बैठक में ये शामिल हुए : बैठक में सीओ सिटी अरविंद बेरड़, अपर लोक अभियोजक सुप्रिमा चितलांगिया, जेडी प्रकाश जाटाेलिया, सीडीईओ हंसराज यादव, कार्यवाहक डीईओ ज्याेत्सना बैलाण, एडीईओ अमरजीत सिंह लहर, एसीबीईओ प्रथम गाेपाल कृष्ण, एसीबीईओ द्वितीय वीरेंद्र नेगी, मटका चाैक स्कूल प्रधानाचार्य नरेश कुमार शर्मा, एएओ लेखा इंद्रसेन सहारण, विधि शाखा के सहायक निदेशक मनीराम लेघा शामिल हुए ।

खबरें और भी हैं...