• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sriganganagar
  • Father Is The General Secretary Of The Fraternity, He Has Great Influence, On The Call Of PM, Ration Is Distributed... If Ticket Is Received, Victory Is Confirmed.

पंचायत चुनाव:पिता बिरादरी के महामंत्री हैं, उनका बड़ा रसूख है, पीएम के आह्वान पर राशन बांटा...टिकट मिला तो जीत पक्की

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कांग्रेस-भाजपा में टिकटों में माथापच्ची जारी, आज रात तक सूचियां जारी होंगी

जिला परिषद और पंचायत समिति चुनावों में भाजपा की ओर से टिकट हासिल करने के लिए टिकट के दावेदारों में कोई जाति का सहारा ले रहा है तो कोई दावेदार खुद को समाज सेवी होना बताते हुए अपने कामों की गिनती करवा रहा है। भाजपा और कांग्रेस को मिले आवेदनों को दैनिक भास्कर ने खंगाला तो कई दावेदारों ने टिकट पक्की करने के लिए इस तरह के तर्क दिए हैं। मंगलवार को नामांकन का दूसरा दिन रहा। अभी तक भाजपा और कांग्रेस का उम्मीदवार तय करने पर ही मंथन चल रहा है। नामांकन में बुध और गुरुवार दो दिन ही बाकी है।

दोनों पार्टियों के उम्मीदवार बुधवार रात या फिर गुरुवार सुबह तक ही घोषित होने संभावना है। दोनों ही पार्टियों में आवेदन लेने का काम पूरा हो चुका है। पैनल बनाने का काम अंतिम चरण में है। अब इन पैनल पर चुनाव प्रभारियों की प्रदेशाध्यक्षों से बातचीत होनी है। माना जा रहा है कि असंतोष कम करने के लिए बुधवार रात तक सूची जारी की जा सकती है। वहीं, दूसरे दिन में पंचायत व जिला परिषद चुनाव में 12 उम्मीदवारों ने 15 नामांकन दाखिल किए।

आप भी जानिए. टिकट पाने के लिए कांग्रेस व भाजपा में आवेदकों ने क्या-क्या दावे किए

1.गांव में रसूख रखता हूं...जिला परिषद के चुनाव लड़ने की इच्छुक कांग्रेस की टिकट की एक दावेदार के अनुसार उसके पित बिरादरी के संगठन में पदाधिकारी रहे हैं। उनका रसूख है। उन्होंने खुद भी गांव में लोगों की पेंशन लगवाई है। लोगों का समर्थन उनके साथ है। पार्टी को उसे उम्मीदवार बनाना चाहिए।

2.बिरादरी में उपाध्यक्ष हूं...वर्ष 2013 में विधानसभा चुनाव में दावेदार था। टिकट नहीं मिलने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आश्वस्त किया था कि आने वाले किसी अन्य चुनाव में आपको मौका दिया जाएगा। अब जिला परिषद चुनाव में मुझे मौका दिया जाना चाहिए। बिरादरी में उपाध्यक्ष रहा हूं।

3.30 वर्ष से पार्टी से जुटा हूं...भाजपा के टिकट के दावेदार का तर्क है कि परिवार 30 वर्ष से पार्टी से जुड़ा है। हर चुनाव में समर्पण भाव से पार्टी की मदद करते हैं। कोरोना काल में पीएम के आह्वान पर 687 प्रवासी श्रमिकों के घर पहुंचाने में मदद की। राशन किट वितरण किया। लोगों की सेवा की।

4.बच्चों को बांटे है जूते-स्वेटर..पंचायत समिति सदस्य रही हूं। लोगों से सीधा जुड़ाव है। अगर भाजपा जिला परिषद के जोन से उम्मीदवार बनाती है तो जीत निश्चित है। कोरोना काल में लोगों से संपर्क में रही। राशन किट और मास्क वितरित किए। सरकारी स्कूलों में बच्चों को जूते, स्वेटर और ड्रेस वितरण किया।

भाजपा: जयपुर पहुंचे स्थानीय नेता, बैठक आज

भाजपा ने पंचायत समिति और जिला परिषद चुनाव के दावेदारों के नामों का पैनल तैयार करने के लिए मौसम विभाग रोड स्थित एक नेता के फार्म हाउस पर बैठक की। सुबह से लेकर दोपहर तक चली बैठक में पंचायत समिति और जिला परिषद के हर जोन के दावेदारों की स्थिति पर विचार-विमर्श किया गया। नामों के पैनल बनाए गए।

किस जोन में कांग्रेस का संभावित उम्मीदवार कौन हो सकता है। उसकी स्थिति क्या रह सकती है, इसकी संभावनाओं अटकलों पर चर्चा की गई। इसी आधार पर भाजपा अपनी चुनावी रणनीति को नया मोड़ दे सकती है। स्थानीय स्तर पर चर्चा करने के बाद मंगलवार शाम तक भाजपा के जिलाध्यक्ष आत्माराम तरड़, जिला चुनाव प्रभारी हरीराम रिणवां जयपुर पहुंच गए। प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया से बैठक करने के बाद ही टिकटें घोषित होंगी।

कांग्रेस: प्रदेशाध्यक्ष से मिले स्थानीय नेता

कांग्रेस के जिला चुनाव प्रभारी प्रदेश सचिव जिया उर रहमान आरिफ और प्रदेश उपाध्यक्ष नसीम अख्तर इंसाफ ने पंचायत समिति वार जिले में लगाए चुनाव पर्यवेक्षकों के साथ जयपुर में टिकटों पर विचार किया। कांग्रेस ने पैनल भी तैयार कर लिए हैं। प्रदेश सचिव के अनुसार बुधवार रात तक टिकटें घोषित होने की संभावना है। इस पर प्रदेशाध्यक्ष के साथ बैठक होना बाकी है।

मंगलवार को कांग्रेस के नेता अशोक चांडक, निवर्तमान जिला संगठन महासचिव कृष्ण भांभू व सूरतगढ़ के कार्यकर्ता पीसीसी अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा से मिले। इन्होंने टिकट वितरण में पुराने कार्यकर्ताओं का ख्याल रखते इन्हें प्राथमिकता के आधार पर उम्मीदवार बनाने की मांग की। विधानसभा क्षेत्र वार किसी नेता विशेष को टिकट वितरण का विशेषाधिकार नहीं देने की मांग रखी। इससे पार्टी को नुकसान होने का अंदेशा बताया।

इधर...बगावत शुरू : कांग्रेस पदाधिकारी ने निर्दलीय नामांकन जमा करवाया

कांग्रेस के देहात ब्लाॅक के निवर्तमान संगठन महासचिव कालूराम मेघवाल ने मंगलवार को जिला परिषद के जोन नंबर 27 से निर्दलीय नामांकन दाखिल कर दिया। मेघवाल कांग्रेस की टिकट के दावेदार हैं। मेघवाल के अनुसार अगर उन्हें टिकट नहीं मिलती तो भी चुनाव लड़ेंगे। यानी बगावत होगी। भाजपा की जिला कार्य समिति के सदस्य सुरेंद्र पारीक की पत्नी रीटा ने भी जोन नंबर 26 से अपनी उम्मीदवारी घोषित कर दी है। सुरेंद्र पारीक के अनुसार पार्टी ने उन्हें जातिगत कारणों का हवाला देते हुए टिकट न लेने के लिए कहा है। लेकिन उनकी पत्नी चुनाव लड़ेगी ही।

खबरें और भी हैं...