• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sriganganagar
  • Ifthe Death Of Wife husband And Brother in law Had Been Helped In The Accident, Life Could Have Been Saved, Kept Suffering For A Long Time In The Injured Condition.

वक्त पर मदद मिलती तो बच सकती थी जान:हादसे में पत्नी-पति और देवर की मौत, जख्मी हालत में काफी देर तक पड़े रहे

श्रीगंगानगर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तीनों लोग किसी पारिवारिक कार्य में शामिल होकर आ रहे थे। तीनों एक ही मोटरसाइकिल पर सवार थे। इसी दौरान एक वाहन चालक ने उन्हें टक्कर मारी। - Dainik Bhaskar
तीनों लोग किसी पारिवारिक कार्य में शामिल होकर आ रहे थे। तीनों एक ही मोटरसाइकिल पर सवार थे। इसी दौरान एक वाहन चालक ने उन्हें टक्कर मारी।

एक महिला, उसके पति और देवर की सड़क हादसे में मौत हो गई। हादसा श्रीगंगानगर में सोमवार रात को हुआ था। एक रिश्तेदार के यहां से रात को मोटरसाइकिल पर लौटते वक्त किसी वाहन ने उन्हें टक्कर मार दी। इसके बाद तीनों घायल अवस्था में सड़क पर तड़पते रहे। वक्त पर तीनों को मदद मिलती तो उनकी जान बच सकती थी।

रात काे घर लौट रहे थे, किसी वाहन ने मारी टक्कर
गांव भागसर का रहने वाली सावित्री देवी पति चैनाराम (55) और देवर (40) किशनलाल के साथ सोमवार दिन में किसी पारिवारिक काम से घर से निकले थे। रात को वे लौट रहे थे। इसी दौरान यह हादसा हुआ। इसमें तीनों की सड़क पर गिरने से मौत हो गई।

हादसे पर हुई तेज आवाज, खेतों में काम कर रहे लोगों ने संभाला
वाहन ने जब टक्कर मारी तो जोरदार हादसा हुआ। हादसे की तेज आवाज पर आसपास के खेतों में काम कर रहे लोगों ने तीनों को संभाला। तीनों की गंभीर हालत देख एंबुलेंस 108 को सूचना दी गई। साथ ही पुलिस को भी मामले की जानकारी दी गई। टक्कर के बाद तीनों सड़क पर पड़े थे, लेकिन मौके पर अन्य कोई वाहन नहीं था। हालांकि, कुछ देर बाद ही तीनों ने दम तोड़ दिया।
आज तीनों शवों का होगा पोस्टमार्टम, वाहन चालक को तलाश रही पुलिस
घटना की जानकारी के बाद जब श्रीबिजयनगर पुलिस मौके पर पहुंची। एसएचओ रामनारायण चोयल और अन्य पुलिसकर्मियों ने शवों को श्रीबिजयनगर के सरकारी अस्पताल की मॉर्च्यूरी में रखवाया गया। तीनों शवों का पोस्टमार्टम मंगलवार को होगा। टक्कर मारने वाले वाहन चालक के बारे में पुलिस जांच कर रही है।