आखिर खुल गया पीएमओ ऑफिस का ताला:दुर्घटना क्लेम के एक मामले में कोर्ट ने दिए थे सामान की कुर्की के आदेश, भुगतान के बाद बुधवार सुबह खोला ताला

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीगंगानगर का सरकारी अस्पताल। - Dainik Bhaskar
श्रीगंगानगर का सरकारी अस्पताल।

सरकारी अस्पताल के पीएमओ ऑफिस का ताला आखिर बुधवार को खुल ही गया। कोर्ट ने दुर्घटना क्लेम के एक पुराने मामले में भुगतान के लिए पीएमओ ऑफिस के सामान की कुर्की के आदेश देते हुए इस पर ताला लगवा दिया था। मामले की जानकारी मिलते ही पीएमओ ने आनन-फानन में मामले की फाइल निकलवाई और भुगतान राशि की जानकारी लेकर संबंधित का चैक तैयार करवाया। मंगलवार को कोर्ट से संबंधित प्रक्रिया पूरी करने के बाद बुधवार सुबह ऑफिस का ताला खोल दिया गया।

यह था मामला

अस्पताल के एंबुलेंस चालक बाबूलाल ने कुछ वर्ष पूर्व शीतला माता वाटिका के पास विश्वनाथ नाम के व्यक्ति को घायल कर दिया था। इस पर पीड़ित ने वाद दायर कर दिया। वर्ष 2015 में कोर्ट ने पीड़ित के पक्ष में फैसला देते हुए सरकारी अस्पताल प्रबंधन को पीड़ित को 75 हजार रुपए का भुगतान करने के आदेश दिए थे।

तत्कालीन अस्पताल प्रबंधन ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया और इससे संबंधित फाइल सीएमएचओ ऑफिस भिजवा दी। पीड़ित को भुगतान नहीं होने पर अब कोर्ट ने पिछले दिनों पीएमओ ऑफिस के सामान की कुर्की के आदेश देते हुए ऑफिस पर ताला लगवा दिया। तहसीलदार संजय अग्रवाल ने सरकारी अस्पताल पहुंचकर पीएमओ ऑफिस पर ताला लगवाया और कुर्की आदेश भी ऑफिस के गेट पर चस्पा कर दिया।

इसके बाद से पीएमओ डॉ. बलदेव सिंह अन्य रूम में बैठकर दैनिक कार्य कर रहे थे। मामला जानकारी में आने के बाद पीएमओ ने संबंधित दुर्घटना क्लेम की फाइल का पता लगवाया। फाइल मिलने के बाद संबंधित को भुगतान होने वाली राशि करीब एक लाख 33 हजार रुपए का भुगतान करवाया। भुगतान से संबंधित प्रक्रिया मंगलवार को पूरी होने के बाद बुधवार को गिरदावर और अन्य अधिकारियों ने पीएमओ ऑफिस का ताला खुलवाया।

खबरें और भी हैं...