• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sriganganagar
  • In Protest Against A Management Committee Formed In The Past, The Outgoing Chairman's Group Called A General Meeting, The Tension Remained Till Evening.

गुरुद्वारा बुड्‌ढाजोहड़ प्रबंध समिति को लेकर तनाव:पिछले दिनों बनी एक प्रबंध समिति के विरोध में निवर्तमान अध्यक्ष गुट ने बुलाई आमसभा, शाम तक बना रहा तनाव

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
श्रीगंगानगर के गुरुद्वारा बुड्‌ढाजोहड़ में तैनात पुलिस जाब्ता। - Dainik Bhaskar
श्रीगंगानगर के गुरुद्वारा बुड्‌ढाजोहड़ में तैनात पुलिस जाब्ता।

गुरुद्वारा शहीद नगर बुड्‌ढाजोहड़ प्रबंध समिति को लेकर शुक्रवार को विवाद एक बार फिर गहरा गया। पिछले दिनों गुरुद्वारे में नई प्रबंध समिति बनाई गई थी लेकिन इस समिति के गठन से पहले काम कर रहे निवर्तमान अध्यक्ष के गुट ने इसे नहीं मानते हुए शुक्रवार को गुरुद्वारे में फिर से आमसभा बुलाई। पूरा दिन गुरुद्वारे में तनाव का माहौल रहा तथा शाम को आमसभा बुलाने वाले गुट ने एक नई कार्यकारिणी का गठन भी कर दिया। शाम को यह गुट गुरुद्वारे का प्रबंधन संभालने के लिए अड़ा हुआ था।

ये हैं विवाद
गुरुद्वारे के प्रबंधन को लेकर शुरू से ही दो गुट बने हुए थे। इसमें एक गुट का नेतृत्व निवर्तमान अध्यक्ष बलकरणसिंह और दूसरे का नेतृत्व जसवंत समरा कर रहे थे। विवाद के चलते गुरुद्वारे के प्रबंधन में परेशानी के कारण पिछले दिनों इस मामले में श्रीगंगानगर के गुुरुद्वारा श्री गुरुसिंह सभा के प्रधान हरपालसिंह पाली कोचर को मध्यस्थ बनाया गया। उन्हें मामला सुलझाने के लिए कहा गया। इस पर पाली कोचर ने मामला सुलझाते हुए निवर्तमान अध्यक्ष बलकरणसिंह और जसवंतसिंह से नया अध्यक्ष बनाने के लिए सहमति ली। इसके बाद सुखपालसिंह भुल्लर को नया अध्यक्ष बनाते हुए कार्यकारिणी गठित कर दी।

बलकरणसिंह ने नई कमेटी को मानने से किया इनकार
पूरे मामले में शुक्रवार को बलकरणसिंह ने सुखपालसिंह भुल्लर को नया प्रधान मानने से इनकार कर दिया। पूरा दिन तनावपूर्ण माहौल में इस संबंध में गुरुद्वारे में बातचीत होती रही। शाम को बलकरणसिंह ने हरभजनसिंह खालसा के नेतृत्व में एक नई प्रबंधन कमेटी का ही गठन कर दिया और गुरुद्वारा का प्रबंधन उन्हें संभलाने की मांग करने लगे। गुरुद्वारे में शाम तक हालात तनावपूर्ण बने हुए थे। टकराव टालने के लिए शाम तक कई थानों की पुलिस का जाब्ता गुुरुद्वारे में लगाया गया था। पुलिस अधिकारी मामले का हल निकालने के लिए दोनों पक्षों से बातचीत कर रहे थे।

खबरें और भी हैं...