पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

जन्माष्टमी:कान्हा का जन्माेत्सव मंदिरों से ऑनलाइन देखेंगे श्रद्धालु

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 11 अगस्त मंगलवार काे श्रद्धालु व्रत रखेंगे और 12 बुधवार काे रात 12 बजे कृष्ण जन्माेत्सव मनाया जाएगा

काेराेनाकाल में इस बार श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार 11 व 12 अगस्त काे मनाया जाएगा। इस बार शहर के कई मंदिर श्रद्धालुओं काे घर बैठे ऑनलाइन श्रीकृष्ण जन्माेत्सव दिखाने की तैयारी कर रहे है। ताकि मंदिराें में भीड़ न जुट पाए। आपकाे बता दें कि हर साल मंदिराें में इस दिन बड़े स्तर पर आयाेजन हाेते थे लेकिन इस बार काेई आयाेजन नहीं करवाया जाएगा। इस बार मंदिराें में एक भी सचेतन झांकियां नहीं सजाई जाएंगी।

इसके अलावा कई धार्मिक व सामाजिक संस्थाएं ऑनलाइन राधा-कृष्ण बनाे प्रतियाेगिता के आयाेजन का विचार कर रहे है। भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि पर हर वर्ष कृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार बड़े ही धूम-धाम के साथ मनाया जाता है। भगवान श्रीकृष्ण विष्णु जी के आठवें अवतार हैं।

अष्टमी और रोहिणी नक्षत्र के योग में इनका जन्म हुआ था। जन्माष्टमी पर लोग कान्हा जी के बाल स्वरूप की पूजा करते हैं। कई लोग अपने घरों में बाल गोपाल को रखते हैं। बाल गोपाल की पूजा और सेवा एक छोटे बच्चे की भांति की जाती है।

मान्यता है कि लड्डू गोपाल की सेवा से घर की सभी परेशानियां दूर हो सकती हैं। लड्डू गोपाल के प्रसन्न होने से व्यक्ति का मन बहुत प्रसन्न रहता है। लड्डू गोपाल भाव के भूखे होते हैं। पंडित कालूराम गाैड़ ने बताया कि 11 अगस्त मंगलवार काे श्रद्धालु व्रत रखें और 12 अगस्त बुधवार काे रात 12 बजे कृष्ण जन्माेत्सव मनाया जाएगा।

घराें में लड्डू गाेपाल काे सजाने की तैयारी शुरू
पुरानी आबादी स्थित अवंतिका शर्मा बताती है कि इस बार मंदिराें में जाने पर पाबंदी है। घर पर ही लड्डू गाेपाल काे सजाने के लिए अभी से तैयारी शुरू कर दी है। खास बात यह है कि इस बार बाजार से काेई भी सामान नहीं खरीदा है घर में जाे सामान पड़ा था। उसे ही इस्तेमाल में लिया है। ताकि काेराेना के संक्रमण के बढ़ते प्रभाव से बचा जा सकें। एक मकसद यह भी है कि खुद भी सुरक्षित रह सकें और अपने परिवार काे सुरक्षित रखना है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें