पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

भास्कर पड़ताल:कोरोना लैब में टेस्टिंग किट की कमी; दिनभर में महज 33 सैंपल की जांच, 682 अब भी पेंडिंग, जोधपुर से मंगानी पड़ी

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इंटरनेट कनेक्शन न होने से आईसीएमआर के पोर्टल पर समय रहते नहीं हो सकी मांग, एक महीने में दूसरी बार आई कमी
  • राहत यह...33 सैंपल में से एक भी पॉजिटिव नहीं निकला

कोरोना जांच लैब एक महीने की अवधि में दूसरी बार टेस्ट किट्स की कमी से जूझ रही है। रविवार को टेस्ट किट्स की किल्लत होने की वजह से सैंपलों की टेस्टिंग की प्रक्रिया अधर में रही। सुबह के समय रात की बची हुई टेस्ट किट्स से दिनभर में महज 33 सैंपलों की ही जांच हो सकी। 682 की जांच लंबित है। लैब में इंटरनेट की व्यवस्था न होने की वजह से आईसीएमआर के पोर्टल पर किट्स की समय पर मांग नहीं हो सकी।

सोमवार को किट्स के अभाव में टेस्टिंग प्रक्रिया बाधित हुई तो टेस्टिंग किट्स के लिए सुबह विशेष वाहन जोधपुर भेजना पड़ा। जिला अस्पताल की काेरोना जांच लैब में सोमवार को कितने सैंपलोें की टेस्टिंग हुई, इस बारे में जिला अस्पताल प्रशासन ने कोई स्पष्ट नहीं किया। न ही सोमवार को बुलेटिन जारी किया गया कि कितने सैंपलों की जांच रिपोर्ट मिल चुकी है।

लैब को 3800 जांच किट्स मिली थी। इसका उपयोग रविवार शाम तक हो गया। कुछ किट्स रिजर्व पड़ी थी। रिजर्व किट्स से सोमवार को 33 सैंपलों की टेस्टिंग हो सकी। जिला अस्पताल के पीएमओ डॉ. केएस कामरा के अनुसार सुबह तक सभी पेंडिंग सैंपलों की जांच कर ली गई थी। अब रात को 150 सैंपल टेस्टिंग के लिए लगाए जाएंगे।
एएचयू और पास बॉक्स भी अधर में
कोरोना जांच लैब में किसी दुर्घटनावश प्रोसेसिंग के दौरान सैंपल टूटने और बिखरने की स्थिति में संक्रमण रोकने के लिए एयर हैंडलिंग यूनिट (एएचयू) लगाया जाना था। लाइसिस रूम से दूसरे रूम में सैंपल पास करने के लिए पास बॉक्स नहीं लगाया गया है। इससे सैंपल ट्यूब के संक्रमित होने का अंदेशा रहता है। लैब की शुरुआत करने से पहले एएचयू और पास बॉक्स लगाया जाना प्रस्तावित था। फिर औचक ही 5 जुलाई को इसका उद्घाटन कर दिया गया।

पहले पास बॉक्स और एएचयू के अभाव में दो दिन तक सैंपलों की टेस्टिंग शुरू नहीं की गई। फिर टेस्टिंग शुरू कर दी गई। हालांकि लैब के स्टाफ ने जिला अस्पताल प्रबंधन को लिखित में दिया था कि भय रहित होकर काम करने के लिए एएचयू और पास बॉक्स लगाया जाना चाहिए।

पीएमओ डॉ. केएस कामरा के अनुसार एएचयू और पास बॉक्स लगाने के लिए जिला कलेक्टर की ओर से एडीए प्रशासन की अध्यक्षता में गठित कमेटी को प्रस्ताव भेजा हुआ है। मामला कमेटी के पास विचाराधीन है। पीएमओ के अनुसार एएचयू और पास बॉक्स की व्यवस्था जल्द ही हो जाएगी।पीएमओ डॉ. केएस कामरा के अनुसार टेस्टिंग किट रात तक पहुंच जाएंगी।

संक्रमण की चेन कैसे टूटेगी

शहर में कई कंटेनमेंट जोन से अभी भी बाहर आ रहे हैं लोग सूचना के बाद तीसरे दिन जांच के लिए आता है विभाग

1.तीसरी बार एंबुलेंस भेज अस्पताल लाए दो मरीज : गजानंद विहार के एक परिवार के दो लोगों की एक अगस्त को कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट मिली। इसके बाद इन्हें अस्पताल शिफ्ट कर दिया गया। अब आसपास के लोगों ने शिकायत की कि एक मरीज पौधों को पानी डालने व अन्य कामाें के लिए बाहर आता है।

इससे दो बार एंबुलेंस भेज कर दोनों मरीजों को जिला अस्पताल शिफ्ट करने का प्रयास किया लेकिन वे नहीं आए। उच्च स्तरीय अधिकारियों को शिकायत की तो रविवार रात करीब 10:30 बजे तीसरी बार एंबुलेंस भेजकर दोनों मरीजों को जिला अस्पताल शिफ्ट किया गया।

2.प्रभू चौक: लोगों से समझाइश की, त्योहार होना बता फिर बाहर आने लगे : प्रभू चौक एरिया में सात कोरोना मरीज मिलने पर कंटेनमेंट जोन बनाया हुआ है। यहां लोगों के कंटेनमेंट जोन से बाहर आने का वीडियो रविवार को वायरल हुआ था। ऐसे लगातार पहरे के अभाव में हुआ।

इसके बाद सोमवार को पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लाेगों से समझाइश की कि वे बाहर न जाएं, इससे संक्रमण फैलने का खतरा है। कंटेनमेंट जाेन के बाहर रहने वाले मोहल्लावासी नरेश सिडाना के अनुसार सोमवार को त्योहार होना बताते हुए लोग फिर बाहर आने-जाने लगे।

3.नंद विहार: बेेरिकेडिंग पर पहरे की व्यवस्था नहीं, संक्रमित के घर तक जा आए लोग : वार्ड नंबर 43 नंद विहार की गली नंबर 2 की एक महिला की रिपोर्ट रविवार दोपहर बाद पॉजिटिव आई। तब शाम को स्वास्थ्य विभाग की टीम पुलिस के साथ मौके पर पहुंची। मरीज को जिला अस्पताल शिफ्ट करने के बाद सेनेटाइज करने की कार्रवाई की गई।

पुलिस ने बेरिकेडिंग कर दी। पार्षद सुशील कुमार के अनुसार रविवार रात को बेरिकेडिंग पर पुलिस का पहरा नहीं था और ना ही सोमवार दिनभर पहरा रहा। पार्षद के अनुसार कंटेनमेंट जोन के बाहर के कुछ लोग तो संक्रमित के घर तक भी जा आए। उन्होंने जब सदर थाना फोन करके पूछा कि नंद विहार के कंटेनमेंट जोन में किसकी ड्यूटी है ताे जवाब मिला पता नहीं।

4.सूचना देने पर भी तीसरे दिन पहुंची टीम : लक्ष्मी नगर निवासी हेमंत कुमार व उनकी पत्नी गुजरात से आए। परिजनों ने उनके आने से पहले ही एक अगस्त दोपहर में सूचना दी कि परिवार के दो सदस्य बाहर से आ रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के कंट्रोल रूम के कर्मी ने बताया कि शाम 7 बजे तक स्क्रीनिंग के लिए आएंगे।

कर्मी अगले दिन 2 अगस्त को भी नहीं आए। परिजनों के अनुसार बार-बार फोन करने पर 3 अगस्त सुबह दो नर्सिंग कर्मी आए। बाहर से आए लोगों की तापमान सहित अन्य तरह से स्क्रीनिंग नहीं की। घर के बाहर क्वारंटाइन का पर्चा चिपका कर चले गए।

  • कई जगह पुलिस कर्मी कम होने की वजह कंटेनमेंट जाने पर लोगों की आवाजाही रोकने में दिक्कत आ रही है। मंगलवार को वर्किंग-डे में पुलिस के उच्चाधिकारियों से बातचीत कर इस समस्या का निदान किया जाएगा। लोगों को खुद ही पाबंद रहते हुए सहयोग करना चाहिए। - उम्मेद सिंह रतनू, एसडीएम, श्रीगंगानगर।
  • स्टाफ कम है। इसी वजह से हेल्थ स्क्रीनिंग के लिए कई बार लेट लतीफी हो जाती है। जिला अस्पताल से सात नर्सिंग ट्यूटर के रिलीव होने के बाद इस तरह की दिक्कत नहीं आएगी। - डॉ. एचएस बराड़, जिला कोविड प्रभारी, - श्रीगंगानगर ।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में हैं। आपकी मेहनत और आत्मविश्वास की वजह से सफलता आपके नजदीक रहेगी। सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा तथा आपका उदारवादी रुख आपके लिए सम्मान दायक रहेगा। कोई बड़ा निवेश भी करने के लिए...

और पढ़ें