पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राहत की उम्मीद:एलएंडटी ने शुरू किया 10 हजार सीवरेज चैंबरों की सार संभाल का काम, ढक्कन सड़क लेवल में करेंगे

श्रीगंगानगर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चैंबरों को दुरुस्त करने के लिए जाती एलएंडटी की टीम - Dainik Bhaskar
चैंबरों को दुरुस्त करने के लिए जाती एलएंडटी की टीम
  • फ्लाे टेस्ट भी साथ ही साथ किया जा रहा, ताकि सीवरेज प्रारंभ हाेने पर शहरवासी परेशानी ना हो

सीवरेज कंपनी एलएंडटी की ओर से शहर में करीब 250 किलाेमीटर की सीवर लाइन डाली जा चुकी है। अब सीवरेज लाइन संबंधित अधिक कार्य शेष नहीं है। ऐसे में कंपनी ने तय किया कि पूर्व में हुए कार्य का बारीकी से निरीक्षण किया जाए, ताकि शहरवासियाें काे परेशानी ना हाे।

एलएंडटी के प्राेजेक्ट मैनेजर अमित कुमार सिंह व डिप्टी प्राेजेक्ट मैनेजर दर्शन सिंह का कहना है कि इस काम के लिए बाकायदा 100 कर्मचारियाें काे जिम्मेदारी साैंपी गई है। निर्देशित किया गया है कि एक-एक चैंबर अच्छे से खाेले जाएं, सड़क लेवल का ध्यान देते हुए जहां सड़क से ऊंचे चैंबर हैं उन्हें नीचे करें और जहां नीचे हैं उन्हें ऊंचे किए जाए।

शहरवासियाें द्वारा भी लंबे समय से इस बाबत मांग की जा रही थी कि कई जगहाें पर चैंबर बेतरतीब लगाए हुए हैं। इस पर कंपनी ने सभी चैंबराें की सार संभाल करवाना तय किया है। कंपनी के कर्मचारी चैंबराें के अंदर से कचरा भी निकल रहे हैं, चैंबर के ढक्कन हटाकर उसमें सीमेंट लगाई जा रही है, ताकि ढक्कन एक समान लगा दिखे। आरयूआईडीपी एसई आशीष गुप्ता का कहना है कि पूरी टीम बेहतर करने के प्रयास में जुटी हुई है।

शहर में 31 मार्च 2022 तक सभी चैंबरों काे अच्छे से साफ कर दिया जाएगा

सीवरेज कंपनी के अधिकारियाें का कहना है कि शहर में करीब 10 हजार सीवरेज चैंबर हैं। एक माह में 25 से 30 किमी. लाइन पर ही काम हाे सकता है। कंपनी चाहती है कि 31 मार्च 2022 तक सभी चैंबराें काे अच्छे से साफ कर दिया जाए।

बड़ी बात यह है कि जहां-जहां चैंबराें की सफाई हाे रही है, फ्लाे टेस्ट भी साथ ही साथ किया जा रहा है। इसका कारण यह है कि चैंबराें की सफाई के दाैरान व फ्लाे टेस्ट में पता लगता रहेगा कि लाइन में कहीं काेई लीकेज ताे नहीं है। यह भी पता चल जाएगा कि चैंबर से पानी की निकासी सही से हाे रही है या नहीं।

क्याेंकि आने वाले दिनाें में सभी घराें के कनेक्शन सीवर लाइन से हाेने हैं। इस काम के बाद सीवरेज लाइन का सभी काे लाभ मिल सकेगा। इसलिए जरूरी है कि पहले से ही सभी तरह की व्यवस्था व प्लानिंग करके चलें।

जवाहरनगर क्षेत्र, नेहरा नगर में पुराने सीवरेज से आज तक परेशानी भुगत रहे हैं लाेग

​​​​​​​शहर में करीब 8-9 साल पहले यूईएम कंपनी की ओर से जवाहरनगर क्षेत्र, नेहरा नगर आदि जगहाें पर सीवरेज लाइन डाली गई। समय रहते इस लाइन की सार संभाल नहीं हुई, इसी का खमियाजा आज तक क्षेत्र के हजाराें लाेग भुगत रहे हैं। थाेड़े से दबाव से लाेगाें के घराें में सीवर वेस्ट आ जाता है।

सड़काें पर चैंबर के ढक्कन खुल जाते हैं, गलियाें में गंदगी हाे जाती है। हालांकि यूआईटी की ओर से लगातार इस सीवर लाइन काे दुरुस्त करवाने के प्रयास किए जा रहे हैं। टैंकराें से लाइन की सफाई करवाई जा रही है, लेकिन यह सब व्यवस्था नाकाफी है।

एलएंडटी ने लाेगाें की परेशानी काे समझा है। पहले सीवरेज में रही खामियाें से भी सीखा। अपने काम में बेहतरी का प्रयास किया। बड़ी बात यह रही कि जहां भी बड़ी सड़कें हैं या व्यस्त मार्ग हैं वहां एलएंडटी द्वारा ट्रेंच लेस कार्य किया गया ताकि आवागमन बाधित ना हाे।

खबरें और भी हैं...