पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयंती पर विशेष:मिलिए इन तीन लोगों से गुरुनानक देव जी की तीन शिक्षाओं को बनाया जीवन का हिस्सा

श्रीगंगानगर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आज श्रीगुरुनानक देवजी की जयंती पर विशेष. आप भी संकल्प लें कि बाबा नानक की दी सीख पर चलेंगे और दूसरे लोगों को भी इसके लिए प्रेरित करेंगे

जिनी नामु धिआइआ गए मसकति घालि। नानक ते मुख उजले केती छुटी नालि।। अर्थात- उनका जीवन सफल एवं धन्य है जो प्रभु नाम सुमिरन करते हैं तथा उन्होंने अपने उज्जवल चरित्र एवं व्यवहार से संसार में अनेक लोगों का जीवन धन्य करके उन्हें मुक्ति प्रदान की है।

श्री गुरुनानक देवजी का जन्म कार्तिक पूर्णिमा को हुआ था। उनकी जयंती को गुरु पर्व, प्रकाश पर्व, प्रकाशोत्सव आदि नामों से पुकारा जाता है। गुरुनानक देवजी ने अपने सभी अनुयायियों को सही राह दिखने के लिए जीवन के तीन सिद्धांत के बारे में बताया है। उन तीन सिद्धांतों को हर सिख परिवार मानता है। इसमें सबसे पहले नाम जपो आता है इसका अर्थ है कि प्रतिदिन ईश्वर का नाम जपो, वाहेगुरु का सिमरन करो। ईश्वर के प्रति ध्यान लगाओ। गुरुनानक देव ने सिखों को ईश्वर की कृपा प्राप्ति और स्मरण के लिए प्रतिदिन नितनेम बाणी का पाठ करने को कहा। दूसरे नंबर पर कीरत करो इसका मतलब है गुरुनानक देव ने सिख धर्म के अनुयायियों को गृहस्थ जीवन जीने और कीरत करने का उपदेश दिया है। कीरत करने का अर्थ है कि ईश्वर के उपहार और आशीर्वाद को ग्रहण करते हुए कठिन मेहनत करके ईमानदारी से कमाओ। इसके लिए तुम शारीरिक या फिर मानसिक श्रम कर सकते हो। सभी लोग सदा सत्य बोलें और केवल ईश्वर से डरें।

शिष्टाचार पूर्वक अपने जीवन का निर्वाह करें, जिसमें नैतिक मूल्य और आध्यात्मिकता का समावेश हो। तीसरे नंबर पर है वंड छकाे। इस सिद्धांत के तहत श्री गुरुनानक ने सिखों से कहा है कि सभी अपने समुदाय में बांटकर खाएं। समुदाय या साध संगत सिख धर्म का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। आज हम अापकाे शहर के तीन ऐसे लाेगाें से रू-ब-रू करवाते हैं जाे गुरुनानक देवजी के तीन सिद्धांताें पर खुद ताे चल रहे हैं साथ ही समाज के लाेगाें काे भी अपने साथ जाेड़ने का काम लगातार कर रहे हैं

नाम जपाे 27 साल से लगातार सुखमनी साहिब का पाठ कर लाेगों काे जाप का दे रहे हैं संदेश
श्री सुखमनी साहिब सेवा साेसायटी की शाखा श्रीगंगानगर के प्रधान मनजीत सिंह बताते हैं कि वे खुद बैंक से सेवानिवृत्त हैं। वे इस साेसायटी से 1992 में जुड़े थे। इसके बाद से सुखमनी साहिब का पाठ करना शुरू कर दिया था। वे बताते हैं कि भले माैसम कैसा भी हाे, हर रविवार काे किसी न किसी घर में जाकर सुबह 4 घंटे लगातार श्री सुखमनी साहिब का पाठ किया जाता है। जिस घर में जाते हैं वहां परिवार के सदस्याें काे इसका जाप करने काे प्रेरित किया जाता है। साेसायटी का मुख्य उद्देश्य लाेगाें काे नफरत भुलाकर धर्म के साथ जाेड़ना है। सुखमनी साहिब का पाठ सुखाें की निधि है। इसे करने से सब काम सिद्ध हाेते हैं। यह पाठ किसी भी धर्म का व्यक्ति अपने घर पर करवा सकता है।

कीरत कराे 28 साल से हाैम्याेपैथी का शिविर लगा लाखों लोगों काे इलाज एवं दवा दे चुके हैं

हाेम्याेपैथी फिजिशियन डाॅ. चरणजीत सिंह बताते हैं कि उन्हाेंने 28 साल पहले हाैम्याेपैथी की सेवा देनी शुरू की थी। इसके बाद अब तक लाखाें लाेगाें काे निशुल्क इलाज व दवा दे चुके हैं। वे बताते हैं कि शहर में शारीरिक तौर पर अल्प विकसित, गूंगे-बहरे, अंधे, जन्म से अंगहीन विशेष बच्चों के लिए शिविर लगाकर होम्योपैथी से निशुल्क इलाज किया जाता है। शहर में हर तीन माह से गुरुद्वारा श्री सिंह सभा में अाैर गुरुद्वारा गुरु रामदास व जी ब्लाॅक गुरुनानक दरबार में शिविर लगाते हैं। उन्हाेंने बताया कि काेराेना संक्रमण के बढ़ते केस के चलते अभी शिविर नहीं लगाए जा रहे हैं। इन शिविराें में इलाज के लिए राजस्थान, पंजाब और हरियाणा के हजारों विशेष बच्चे यहां आते हैं। उन्हाेंने बताया कि अब इस काम में अन्य डाॅक्टर्स भी मदद करते हैं।

वंड छकाे मदनलाल अपने भाई की स्मृति में 4 साल से लगातार 500 लाेगों काे करवा रहे भाेजन
इस कड़ी में हम बात कर रहे हैं शहर के 69 वर्षीय मदनलाल भाटिया की जाे जिला अस्पताल में दुकानों पर काम करते हैं और यहीं रहकर अपना गुजारा करते हैं। मदनलाल हर साल अपनी इनकम में से 7500 रुपए जोड़कर अपने भाई कृष्णलाल भाटिया की स्मृति में जिला अस्पताल परिसर स्थित अन्नपूर्णा रसाेई में हर साल करीब 500 लोगों को भोजन करवाते हैं। सामाजिक अधिकारिता विभाग से 750 रुपए की पेंशन मिलती है। रसाेई के मैनेजर रामअवतार पारीक बताते हैं कि मदन करीब 4 साल से अपने भाई की याद में जरूरतमंदाें काे भाेजन करवा रहे हैं। इन्हें देखकर समाज के बहुत से लाेगाें ने भी अपने परिजनाें की याद में भाेजन करवाना शुरू कर दिया है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें