पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

नंद के आनंद भयो...:दुग्धाभिषेक, नए कपड़े पहनाए, फिर कान्हा काे लगाया भाेग

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहरभर में उत्साह के साथ मनाया गया पर्व, मंदिरों के कपाट बंद रहे, घर-घर सजी झांकियां, एक ही प्रार्थना- कोरोना से छुटकारा दिलाओ

भगवान श्रीकृष्ण का जन्माेत्सव बुधवार काे शहरभर के मंदिराें व घराें में बड़े ही उत्साह के साथ मनाया गया। घराें में बाल गाेपाल काे नहलाने, नए कपड़े पहनाने व भाेग लगाने काे लेकर बड़ी उत्सुकता देखने काे मिली। लाेगाें ने बुधवार काे घर पर बाल गोपाल का दुग्धाभिषेक किया। फिर नए वस्त्र पहनाकर उन्हें भोग लगाया गया।

शाम को आरती हुई, जिसमें एक ही प्रार्थना की गई-कोरोना से छुटकारा दिलाओ। बाल गोपाल की पूजा में प्रयोग की जाने वाली सभी सामग्रियों का शुद्ध होना जरूरी है। इसलिए पूजा के बर्तन को साफ भी किया। इस प्रक्रिया काे पंडित कालूराम गाैड़ तीन श्लाेक व उनके अर्थ से समझाया।

पहले पंचामृत से स्नान

गंगा च यमुने चैव गोदावरी सरस्वती। नर्मदे सिंधु कावेरी स्नानार्थम् प्रतिगृहताम्।।

अर्थात- हे गंगा, यमुना, गोदावरी सरस्वती, नर्मदा, सिंधु, कावेरी नदियों के वारी! हे गोपाल स्नान हेतु आपको अर्पण करता हूं!

फिर नए वस्त्र पहनाए गए

शीतवातोषणसन्त्राण लज्जाया रक्षणे परम्। देहालकरण वस्त्रमत: शान्तिं प्रयच्छ में।।

अर्थात- शीतलता को प्रदान करने वाला लोक लज्जा निवारण में हेतु देह का अलंकार (श्रृंगार) वस्त्र आपको परम शांति प्रदान करने के हेतु अर्पण हैं!

माखन का भाेग लगाया

शर्करा-खण्ड-खाद्यानि दधि-क्षीर-घृतानि च। आहारम्‌ भक्ष्य-भोज्यम्‌ च नैवेद्यम्‌ प्रति-गृह्यताम्‌॥ अर्थात- शर्करा दूध दहि घृत आदि ये युक्त आहार भोज्य आपको भोजन हेतु अर्पण करता हूं!

तस्वीर 5 साल के प्रेमनगर निवासी जसमीत की है। बच्चे ने बाल गोपाल का रूप धरकर पक्षी प्रेम के प्रति संदेश दिया। बच्चे ने नेहरू पार्क में जाकर वहां पक्षियों के लिए परिंडा लगाया। करीब ऐसी ही स्थिति हर घर व मोहल्ले की थी। बच्चों ने कान्हा के अलग-अलग रूप धरे थे।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें