पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अपराध:नाइयांवाली स्टेट बैंक में चोरी करने घुसे चाराें नाबालिग पकड़े, छाेटी-माेटी चाेरियां करने के आ्दीर हैं चाराें दाेस्त

श्रीगंगानगर23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एसबीआई के अंदर घुसे चाेर के फुटेज। - Dainik Bhaskar
एसबीआई के अंदर घुसे चाेर के फुटेज।
  • 19 मई की रात काे एक बजे हुई थी वारदात, बैंक के सीसी फुटेज व पुरानी वारदाताें से जानकारी जुटाकर पकड़े आराेपी

स्टेट बैंक की नाइयांवाली शाखा में पाड़ लगाकर की चाेरी के प्रयास की वारदात का सदर पुलिस ने शनिवार काे 10 दिनाें में खुलासा कर दिया है। पुलिस ने वारदात करने आए चार विधि के विरुद्ध संघर्षरत किशाेराें काे निरुद्ध किया है। एसपी राजन दुष्यंत ने बताया कि 19 मई की रात काे नेशनल हाईवे स्थित एसबीआई की शाखा में पीछे की तरफ से दीवार में छेद निकालकर चाेरी का प्रयास किया गया था। इस संबंध में शाखा प्रबंधक मोहित कुमार सुथार की ओर से दिए गए परिवाद पर सदर थाना में 20 मई काे अज्ञात चाेराें के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया।

वारदात के खुलासे के लिए हैड कांस्टेबल धर्मवीर कस्वां काे जांच अधिकारी नियुक्त किया गया। पुलिस ने घटनास्थल का माैका निरीक्षण किया ताे पाया कि बैंक से काेई सामान चाेरी नहीं किया गया है बल्कि यह चाेरी का प्रयास किया गया है। बैंक के सीसी कैमराें की फुटेज देखे ताे दाे आराेपी बैंक के अंदर घूमते दिखाई दिए। जांच अधिकारी ने बैंक के सीसी कैमराें के अलावा आसपास के रास्ताें पर लगे सीसी कैमराें के फुटेज देखे। इससे चार अज्ञात आराेपियाें के वारदात में शामिल हाेने के साक्ष्य मिले। शनिवार काे जांच अधिकारी ने चाराें आराेपियाें काे पकड़ लिया। सभी शहर के अलग-अलग हिस्से में रहने वाले हैं और सभी नाबालिग हैं। इस वारदात के खुलासे में जांच अधिकारी हैडकांस्टेबल धर्मवीर कस्वां के साथ कांस्टेबल रघुवीर तरड़ का भी विशेष सहयाेग रहा।

बैंक के साथ में बन रही बिल्डिंग, रैकी कर वहीं से उठाई सीढ़ी और राॅड, दीवार में छेद निकालकर अंदर घुस गए
जांच अधिकारी हैड कांस्टेबल धर्मवीर ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज से सामने आया कि चाराें आराेपी खाली हाथ ही आए और वारदात के बाद वापस निकल गए। क्याेंकि नाइयांवाली शाखा के बगल में ही एक नई बिल्डिंग बन रही है। आराेपियाें ने रात काे इसी निर्माणाधीन बिल्डिंग से सीढ़ी उठाई और राॅड भी यहीं से ली।

इसके बाद बैंक के पीछे से अंदर घुसने की याेजना बनाई ताकि काेई वारदात करते देख भी न ले। सीढ़ी की मदद से आराेपियाें ने जमीन ग्राउंड लेवल से करीब पांच फीट ऊपर दीवार में छेद निकाला जबकि बैंक के पीछे का प्लाॅट खाली है और उसमें भर्ती भी नहीं की हुई है। आराेपियाें काे पकड़ लिया गया ताे उन्हाेंने बताया कि दीवार के बीच में छेद इसलिए निकाला क्याेंकि नीचे दीवार ज्यादा माेटी हाेती है और छेद निकालने में समय लगता है। इसलिए जमीन से करीब पांच फीट ऊपर दीवार में छेद निकालते हैं ताकि समय कम लगे।

पुरानी वारदाताें के डेटा खंगाले, अस्पताल से जानकारी जुटा आराेपियाें तक पहुंची पुलिस

सूत्राें के अनुसार पुलिस ने इस वारदात काे खाेलने के लिए इसी तरीके से शहर में हुई पुरानी वारदाताें का थानाें से डेटा जुटाया। तब सामने आया कि सर्दियाें में बसंती चाैक के पास एक किरयाना की दुकान में इसी तरीके से दीवार में छेद निकालकर चाेरी का प्रयास किया गया था। तब इसी वारदात में शामिल एक आराेपी सिर में ईंट लगने से घायल हाे गया था। उसे उसी रात घटनास्थल से 108 एंबुलेंस की मदद से जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया था।

दुकानदार से वारदात की तारीख और घायल आराेपी की फाेटाे मिल गई थी। यह फाेटाे बैंक में वारदात के एक आराेपी से मिलान हाे रही थी। इस पर जिला अस्पताल से उसी रात काे भर्ती मरीज का डेटा लेकर नाम व पता हासिल किया। इस किशाेर काे पकड़ा ताे अन्य उसके साथियाें के बारे में भी जानकारी सामने आ गई। चाराें शहर की अलग-अलग काॅलाेनी के रहने वाले हैं और छाेटी-छाेटी चाेरियाें के आदी हैं।

खबरें और भी हैं...