पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sriganganagar
  • More Than 500 Daughters Have Become Self sufficient After Learning Sewing, Opened Gym And Drug De addiction Center To Save Youth From Intoxication, Change Is Coming

जीवन शैली:500 से अधिक बेटियां सिलाई सीखकर बन चुकी हैं आत्मनिर्भर, युवाओं को नशे से बचाने के लिए जिम व नशा मुक्ति सेंटर खोला, आ रहा बदलाव

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 18 एफ में गुुरुद्वारा दुख निवारण शहीदां की पहचान सांप्रदायिक सद‌्भाव के रूप में विख्यात

भारत-पाक सीमा के निकट बसा चक 18 एफ। यहां का गुरुद्वारा दुख निवारण शहीदां सांप्रदायिक सद‌्भाव के लिए विख्यात है। खास बात है कि इस गुरुद्वारा के प्रमुख संत बाबा गुरपाल सिंह अब तब 1245 से अधिक बेटियों का विवाह करवा चुके हैं।

उन्हें 2016 में 1000 बेटियों की शादी करवाने पर दिल्ली में एक कार्यक्रम में वर्ल्ड रिकॉर्ड से भी नवाजा गया था। इतना नहीं इस गुरुद्वारा में बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए निशुल्क सिलाई, कढ़ाई, कुकिंग सिखाई जाती है। जिसमें अभी तक करीब 500 से अधिक बेटियां आत्मनिर्भर बन चुकी है।

खेलों के प्रति जागरूक करने के लिए हर वर्ष होते हैं कबड्डी मैच, प्रतियोगिता में आते हैं इंटरनेशनल खिलाड़ी

मनवीरकौर एमए तक शिक्षित। गुरुद्वारा में सिलाई सिखने आती हैं। मनवीर बताती हैं लॉकडाउन के कारण कॉलेज बंद है। इस कारण आत्मनिर्भर बनने और खुद के पैरों पर खड़े होने के लिए सिलाई, कढ़ाई व कुकिंग सीख रही है। माता सुखदीप कौर बताती है कि गुरुद्वारा में बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने की पहल 6 साल पहले हुई थी, अभी तक करीब 500 से भी ज्यादा बेटियों काे सिलाई का काम सिखाया जा चुका है।

इतना ही नहीं हर साल सिलाई-कढ़ाई की प्रतियोगिता भी होती है, जिसका आयोजन एक सिलाई मशीन कंपनी द्वारा करवाया जाता है। अभी कोरोना संक्रमण के चलते सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन काे ध्यान में रखते हुए सिलाई सिखाई जा रही है। वहीं, बाबा गुरपाल सिंह ने बताया कि गुरुद्वारा में युवाओं को नशे से बचाने के लिए नशा मुक्ति सेंटर बनाया गया है।

जो 6 वर्षों से चल रहा है। जिसमें ध्यान, पाठ और खेलों से नशा छुड़वाया जाता है। युवाओं को खेलों के प्रति जागरूक करने के लिए हर वर्ष कबड्डी प्रतियोगिता करवा जाती है। प्रतियोगिता में इंटरनेशनल खिलाड़ी भी आते हैं। वहीं, गुरुद्वारा में एक जिम की बनाया गया है, जो अभी 5 अगस्त से शुरू हुआ है। जिसमें आसपास के गांवों के युवा निशुल्क व्यायाम करते हैं।

इससे दो फायदे होते हैं एक तो इम्युनिटी बढ़ती है व दूसरा युवा नशे से दूर रहते हैं। सेवादार बाजसिंह ने बताया कि गुरुद्वारा की तरफ से कोरोना काल में आसपास के गांव में सूखा राशन, मास्क और सैनेटाइजर उपलब्ध करवाया गया था। इस काम में सभी सेवादारों ने अपनी-अपनी भागीदारी निभाई। उन्होंने बताया कि कोई भी जरूरतमंद परिवार अगर गुरुद्वारे में आए तो गुरुद्वारे की तरफ से हरसंभव मदद की जाएगी। गुरुघर से कोई भी खाली हाथ नहीं लौटता।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें