पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पबजी से बचाओ रबजी:मां ने पबजी खेलने से मना किया तो नाराज हो लुधियाना से श्रीगंगानगर आ गई किशोरी

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हर माता-पिता काे जागरूक करती खबर... बाल कल्याण समिति ने काउंसलिंग के बाद किशोरी को परिजनों को सौंप घर भेजा

पंजाब की एक किशोरी काे पबजी खेलने की लत लग गई। देर रात माेबाइल फाेन पर व्यस्त रहने पर मां ने उसे डांटा ताे वह नाराज हाे गई और घर में किसी काे बताए बिना बस में बैठकर श्रीगंगानगर आ गई। किशाेरी काे रक्षाबंधन पर भाई से रुपए मिले थे, उसी से बस का किराया वहन कर श्रीगंगानगर आई। किशोरी को तपाेवन चाइल्ड हेल्प लाइन ने संरक्षण में लिया। बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) ने शुक्रवार काे उसे लुधियाना (पंजाब) से आए परिवार जनों के सुपुर्द कर दिया।

सीडब्ल्यूसी ने किशोरी को काउंसलिंग कर समझाइश की। परेशानी की बात यह सामने आई कि किशाेरी काे कहां रखा जाए। क्याेंकि उसने अपना पता भी सही नहीं बताया था। दूसरा काेराेना वायरस संक्रमण की वजह से पूरी सावधानी रखना जरूरी था। ऐसे में किशाेरी की काेराेना जांच करवाई गई, राहत यह रही कि रिपाेर्ट निगेटिव आई।

किशोरी बोली- राखी पर 800 रुपए मिले थे, उसी से बस का किराया दिया

सीडब्ल्यूसी अध्यक्ष एडवाेकेट लक्ष्मीकांत सैनी ने बताया कि करीब 15 वर्षीय यह किशोरी लुधियाना की निवासी है, जो दसवीं में पढ़ती है। रक्षाबंधन के दिन सोमवार रात को किशोरी को मां ने किसी से मोबाइल फोन पर बात करते देख लिया। मां ने डांट-फटकार लगा दी। किशोरी को गुस्सा आ गया। वह अगले दिन मंगलवार-बुधवार की रात को घर से लापता हो गई।

उसके पास रक्षाबंधन पर मिले 8 सौ रुपए थे, जिससे वह बस पर बुधवार दोपहर के 12 बजे श्रीगंगानगर पहुंच गई। बस से किशोरी यहां प्राइवेट बसों के अड्डे कोडा चौक पर उतरी तो इधर-उधर भटकते देखकर लोगों को संदेह हो गया कि वह भागकर आई है। किसी ने चाइल्ड हेल्पलाइन को सूचना दे दी। समन्वयक त्रिलाेक वर्मा ने बताया कि हेल्पलाइन की टीम पुरानी आबादी थाने की मदद लेकर किशाेरी के पास पहुंची। है।

सीडब्ल्यूसी सदस्य हुकमाराम नायक, जगदीश चंदेल ने बताया कि किशोरी को सीडब्ल्यूसी के समक्ष पेश करने पर मोहनपुरा मार्ग पर एक आश्रम में रखने के निर्देश दिए गए। किशोरी द्वारा बताए गए मोबाइल फोन नंबर पर संपर्क किया तो एक युवक ने उसे अपने रिश्ते में बहन बताया। युवक ने खुद काे किशाेरी की बुआ का लड़का हाेना बताया। बुधवार को जयपुर से श्रीगंगानगर आया, लेकिन जब उसके आईडी प्रूफ वगैरा चेक किए तो सीडब्ल्यूसी ने किशोरी को उसे सौंपने करने से इनकार कर दिया।

इस युवक से और किशोरी से दोबारा की गई पूछताछ में पता चला कि वह लुधियाना की रहने वाली है, जबकि पहले किशोरी कीर्तिनगर, फगवाड़ा की निवासी बता रही थी। सही जानकारी मिलने पर चाइल्ड हेल्पलाइन ने लुधियाना में मां-बाप से संपर्क किया। कागजी औपचारिकता पूरी करने के बाद परिजन उसे लेकर लुधियाना रवाना हो गए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अध्यात्म और धर्म-कर्म के प्रति रुचि आपके व्यवहार को और अधिक पॉजिटिव बनाएगी। आपको मीडिया या मार्केटिंग संबंधी कई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, इसलिए किसी भी फोन कॉल को आज नजरअंदाज ना करें। ...

और पढ़ें