• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sriganganagar
  • Notary Was Arrested For Certifying Documents In A Land Related Case, Lawyers Reached Sadar Police Station As Soon As They Got Information, Sat On Dharna

नोटेरी की गिरफ्तारी पर सदर थाने पर प्रदर्शन:जमीन संबंधी  एक मामले में दस्तावेज प्रमाणित करने पर नोटेरी को किया था गिरफ्तार, जानकारी मिलते ही  वकील पहुंचे सदर थाने, बैठे धरने पर

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीगंगानगर में बुधवार देर रात सदर थाने पर प्रदर्शन करते वकील। - Dainik Bhaskar
श्रीगंगानगर में बुधवार देर रात सदर थाने पर प्रदर्शन करते वकील।

जमीन खरीद संबंधी एक मामले में दस्तावेज प्रमाणित करने पर नोटेरी पब्लिक की गिरफ्तारी से नाराज वकीलों ने बुधवार देर रात सदर थाने पर प्रदर्शन किया। इन लोगों का कहना था कि नोटरी पब्लिक वर्षों से यही काम करते हैं, ऐसे में पुलिस का इस तरह उन्हें गिरफ्तार कर लेना उचित नहीं है। उनका कहना था कि अधिवक्ता ने दस्तावेज की मूल कॉपी देखकर ही प्रमाणित किए हैं। ऐसे में दस्तावेज प्रमाणित करने को नियम विरुद्ध मानते हुए वकील के खिलाफ कार्रवाई करना कतई उचित नहीं है।

सूचना मिलते ही वकील पहुंचे सदर थाने
वकील संजीव धींगड़ा जिला मुख्यालय पर नोटेरी पब्लिक का कार्य करते हैं। कुछ समय पूर्व उन्होंने जमीन संबंधी एक दस्तावेज को प्रमाणित किया था। मामले में पुलिस ने दस्तावेज प्रमाणित करने को गलत मानते हुए बुधवार को धींगड़ा को गिरफ्तार कर लिया। उन्हें गिरफ्तार कर सदर थाने लाया गया। परिवार के लोगों ने उनकी गिरफ्तारी की जानकारी अन्य वकीलों को दी। सूचना मिलते ही शाम करीब साढ़े सात बजे से बड़ी संख्या में वकील सदर थाने पहुंच गए। सदर थाने पहुंचे वकील भूरामल स्वामी, सीताराम बिश्नोई, दिनेश छाबड़ा, प्रतापसिंह शेखावत, भुवनेश चंद्र शर्मा और कई अन्य वकीलों ने नारेबाजी की।

एसपी सहित उच्च अधिकारी पहुंचे मौके पर
जानकारी मिलने के बाद एसपी राजन दुष्यंत, सीओ सिटी अरविंद बेरड़ सहित कई उच्च अधिकारी मौके पर पहु्ंचे। इन लोगों ने वकीलों से वार्ता की लेकिन वकील नहीं माने। उनका कहना था कि उनके साथी वकील के साथ इस तरह की कार्रवाई करना उचित नहीं है। बाद में वकील सीताराम बिश्नोई, भावना स्वामी, दिनेश छाबड़ा और कई अन्य वकीलों ने एसपी के साथ बातचीत की। गुरुवार सुबह वकील धींगड़ा की जमानत की कार्रवाई करने के आश्वासन पर वकील माने तथा उन्होंने रात करीब ग्यारह बजे के आसपास धरना हटा लिया।

खबरें और भी हैं...