पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

निगरानी:अब रोडवेज निरीक्षकों की वर्दी पर भी लगेंगे बॉडी वॉर्न कैमरे

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जयपुर ट्रैफिक पुलिस कर चुकी है प्रयोग, राजस्व चोरी रोकने के लिए प्रक्रिया शुरू

ट्रैफिक पुलिस की तर्ज रोडवेज भी इंस्पेक्टर और फ्लांइग टीम की वर्दी पर बॉडी वार्न कैमरे लगाएगी, ताकि चालक-परिचालकों की जांच करने वाली टीम की ऑनलाइन मॉनिटरिंग की जा सके। अक्सर जांच टीम और कंडेक्टर-ड्राइवर के बीच रिमार्क को लेकर विवाद होते रहते हैं।

टीम आने की सूचना पर परिचालक द्वारा टिकट बना दी जाती है। बॉडी वार्न कैमरों की निगरानी से इन गड़बडिय़ों पर लगाम लगेगी। इसी साल के आखिरी तक रोडवेज बॉडी वार्न कैमरे से लैस हो जाएगी। रोडवेज बसों में चालक-परिचालक द्वारा की जा रही राजस्व चोरी रोकने के लिए जांच व्यवस्थाओं में बदलाव किया जा रहा है।

रोडवेज अधिकारियों द्वारा ट्रैफिक पुलिस से फीडबैक लेने के बाद बॉडी वॉर्न कैमरे लगाने का फैसला लिया है। इधर, रोडवेज सीएमडी नवीन जैन ने निगम अधिकारियों को सभी आगार मुख्यालयों से चेक पोस्ट के ड्राइवरों को तत्काल बदलने के निर्देश दिए। किसी भी उड़न दस्ते की गाड़ी में 1 महीने से ज्यादा एक ड्राइवर की ड्यूटी नहीं रहेगी।

प्रबंधन बेटिकट यात्रा, अवैध लगेज रोकने व आपसी विवाद दूर करने के लिए टीम को बॉडी वॉर्न कैमरे की नई तकनीक से लैस किया जा रहा है। प्रबंधन स्तर पर इसका फैसला लिया गया है। - सुधीर भाटी, पीआरओ

समझौतों पर लगाम लगे, इसलिए जरूरी बॉडी कैमरा
कई बार बसों में बेटिकट यात्रा तथा अवैध रूप से लगेज ले जाते पाए जाने पर समझौता हो जाता है। कई बार रिमार्क लगाने की बात को लेकर चालक-परिचालक व बस यात्रियों के बीच विवाद भी हो जाते हैं। इसका नुकसान रोडवेज को उठाना पड़ता है। वास्तविकता को सत्यापित करने के बॉडी वॉर्न कैमरे लगाने का फैसला लिया गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अध्यात्म और धर्म-कर्म के प्रति रुचि आपके व्यवहार को और अधिक पॉजिटिव बनाएगी। आपको मीडिया या मार्केटिंग संबंधी कई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, इसलिए किसी भी फोन कॉल को आज नजरअंदाज ना करें। ...

और पढ़ें