पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

म्यूजिक डायरेक्टर व कंपोजर मनोज आर्य:कोरोना के बीच ऑनलाइन सिंगिंग व म्यूजिक, अब तक 500 से ज्यादा लाइव प्रोग्राम कर लोगों को तनाव से बाहर निकाला

श्रीगंगानगर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना महामारी ने लोगों की जिंदगी में कई तरह के बदलाव ला दिए हैं। इस महामारी के दौर में भी लोग सकारात्मक पहलुओं की तरफ ज्यादा आकर्षित हो रहे हैं और इन सभी में संगीत अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। कोरोना पाॅजिटिव होने के बाद शरीर से निगेटिविटी को दूर करने के लिए लोग म्यूजिक से जुड़ाव रख रहे हैं।

ऐसे में शहर की श्रीकरणपुर रोड निवासी म्यूजिक डायरेक्टर व कंपाेजर मनोज आर्य ने कोरोनाकाल में ऑनलाइन सिंगिंग व म्यूजिक कार्यक्रम शुरू किया। आर्य इस दौर में अब तक 500 से ज्यादा लाइव प्रोग्राम कर हजारों लोगों को इस महामारी के तनाव से बाहर निकालने का काम कर चुके हैं।

इसके अलावा आर्य कोरोना से बचाव के साथ ही खुद में पाॅजिटिव एनर्जी के संचार के लिए लोगों को सोशल मीडिया पर इंस्ट्रूमेंट्स भी सिखा रहे हैं। मनोज आर्य की पत्नी जौहरी आर्य ने भी क्लासिकल वोकल में एमए किया हुआ है। वे भी बच्चों को सिंगिंग सिखाती हैं।

प्यानो व गिटार पर संगीत को एक्सप्लोर किया : मनोज आर्य ने बताया कि कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों व लाॅकडाउन में घरों में रहे लोगों में संगीत ने सबसे अहम भूमिका निभाई। संगीत मेरी हाॅबी रही है। ऐसे में प्यानो व गिटार पर संगीत को एक्सप्लोर किया। रोज कई-कई घंटे म्यूजिक सेशन में गुजरते हैं।

उन्होंने बताया कि पुराने व नए गानों को लोगों के सामने लाइव कार्यक्रम में प्रस्तुत किया जिसे लोगों ने खूब सराहा और ऐसे कार्यक्रम आगे भी करते रहने के लिए प्रेरित भी किया ताकि ऐसे समय में लोगों में पॉजिटिविटी क्रिएट की जा सके। उन्होंने बताया कि ऐसी बीमारियों में लाेग साइकोलॉजिकल रूप से कमजोर होते हैं। ऐसे में म्यूजिक ने हीलिंग की तरह ही काम किया है। इन लोगों ने भी लाइव कार्यक्रमों को अपने परिचितों के साथ शेयर किया।

एमएससी शिक्षित लेकिन बाद में प्यानो व गिटार में भी मास्टर डिग्री हासिल की

मनोज आर्य बताते हैं कि पिता डाॅ. रमेश चंद्र व माता बुद्धा देवी चाहते थे कि मैं बड़ा होकर डाॅक्टर बनूं। लेकिन जब पिता को मेरी रुचि का पता चला तो उन्होंने मुझे म्यूजिक क्लास अटेंड करवाई। इसके बाद मेरा म्यूजिक में ध्यान बढ़ता चला गया। उन्होंने बताया कि 20 साल की उम्र में म्यूजिक सीखना शुरू कर दिया था। अब तक बाॅलीवुड, टीवी सीरियल, वेब सीरीज, पंजाबी व राजस्थान सहित हरियाणवी के 1800 गानों में अपना म्यूजिक दे चुके हैं।

खबरें और भी हैं...