पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पर्यावरण दिवस आज:ऑक्सीजन की नर्सरी: 17.5 लाख औषधीय पाैधे तैयार, 3.5 लाख फ्री देंगे

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फोटो वन विभाग की बिरधवाल रेंज की है। यहां एक लाख पौधे तैयार हो रहे हैं। जिले में ऐसी 22 नर्सरी में 19 लाख पौधे लगाए गए हैं। - Dainik Bhaskar
फोटो वन विभाग की बिरधवाल रेंज की है। यहां एक लाख पौधे तैयार हो रहे हैं। जिले में ऐसी 22 नर्सरी में 19 लाख पौधे लगाए गए हैं।
  • 5 साल में 20 लाख पाैधे लगाए, इस साल 1.5 लाख और लगाएंगे

काेराेनाकाल में हमने देखा कि अाॅक्सीजन के अभाव में अस्पतालों में सैकड़ाें लाेगाें ने दम ताेड़ दिया। तीसरी लहर में यह सब दुबारा न देखना पड़े, इसलिए लोगों को अभी से ऑक्सीजन का महत्व समझना होगा। वन विभाग ने तो निर्णय लिया है कि हम जिले के 3.5 लाख घरों में इस बार औषधीय पौधे निशुल्क बांटेंगे। वन विभाग की बिरधवाल रेंज में तो हम एक लाख पौधे तैयार कर रहे हैं।

जिलेभर में ऐसी 22 नर्सरियां हैं, जहां इस साल नीम, बड़, पीपल के 1.50 लाख पाैधाें के अलावा 17.50 लाख औषधीय पाैधे तैयार हो रहे हैं। इनमें मुख्यत: एलोवेरा, अश्वगंधा, तुलसी व पालमेघ हैं। लोग बहुत ही कम दरों पर ये पौधे खरीद सकेंगे। जिलेभर में हमारे विभाग ने 5 साल में 2911.92 हेक्टेयर पर 20 लाख 47 हजार पाैधे लगाए हैं और इनमें से 18.50 लाख पाैधे पेड़ बनकर लाेगाें काे ताजी हवा के साथ ऑक्सीजन भी दे रहे हैं। विभाग के पास जिलेभर में कुल 63344 हेक्टेयर भूमि है और इस साल जिले में 1.50 लाख पाैधे लगाए जाएंगे।

हम लोगों से भी अपील करते हैं, वे एक पौधा जरूर लगाएं और अपने आसपास के लोगों को भी इसके लिए प्रेरित करें। कहीं भी पेड़ों की अवैध कटाई तो हमें सूचना दें।

किस रेंज में कितने पौधेरेंज हेक्टेयर पाैधे
श्रीगंगानगर 342.08 256560
सूरतगढ़ 80 53500
बिरधवाल 828.20 742290
श्रीविजयनगर 353 235000
रायसिंहनगर 352.20 258950
अनूपगढ़ 264.33 172550
घड़साना 245.62 156500
रावला 446.49 172550

अब पौधों की मांग ज्यादा

नर्सरियाें में अब बड़े पौधे नीम, पीपल, बरगद की भी मांग हो रही है। अधिकांश नर्सरी वाले इन पौधों को तैयार कर रहे हैं। पिछले वर्ष लॉकडाउन में हर कारोबार की तरह नर्सरी उद्योग पर भी असर पड़ा था, लेकिन इस साल कोरोना ने लोगों की सांसें कम कर दीं तो लोगों ने अब भी पेड़-पौधे लेने शुरू किए हैं। ऑक्सीजन वाले पेड़-पौधों की मांग बढ़ गई है।

खबरें और भी हैं...