मुकदमा दर्ज:फार्मेसी लाइसेंस किराए पर दिया था, रुपए मांगे ताे दी जान पत्नी ने लगाए आत्महत्या दुष्प्रेरण के आराेप

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • देवनगर निवासी व्यक्ति ने साेमवार देर शाम घर में ही लगा लिया था फंदा

देवनगर निवासी एक व्यक्ति ने घर की पहली मंजिल के कमरे में आत्महत्या कर ली है। मृतक की पत्नी ने तीन लाेगाें पर आत्महत्या दुष्प्रेरण के गंभीर आराेप लगाए हैं। पुरानी आबादी पुलिस ने बाेर्ड गठन कर शव का पाेस्टमार्टम करवाया है। शव परिजनाें काे साैंप दिया गया है।

घटना मंगलवार काे हुई। एसआई रामभज मामले की जांच कर रहे हैं। पीड़िता यूपी के गाेरखपुर व हाल देवनगर निवासी रीटा यादव ने अपने पति 41 वर्षीय प्रेम यादव पुत्र बनारसी यादव काे आत्महत्या के लिए मजबूर करने के आराेप लगाए हैं। इसमें बताया है कि वार्ड नंबर दाे निवासी रमाशंकर पांडेय व उसकी पत्नी साेमवार शाम काे पीड़िता के घर पर आए।

इन्हाेंने पीड़िता के पति काे फार्मासिस्ट लाइसेंस व किराए के रुपए तुरंत वापस लाैटाने का दबाव बनाया। इससे पहले आराेपी रमाकांत पांडेय के चूरू जिले के तारानगर निवासी राकेश शर्मा नाम के दामाद ने भी पीड़िता के पति काे फाेन कर बहुत अधिक धमकाया था और लाइसेंस तथा अनुबंध के रुपए तुरंत नहीं लाैटाने पर कानूनी नाेटिस देकर कार्रवाई की धमकी दी थी। इससे परेशान हाेकर पीड़िता के पति बहुत अधिक तनाव में आ गए। उन्हाेंने मकान की छत पर कमरे में जाकर फंदा लगा आत्महत्या कर ली। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

1.45 लाख के दिए थे दाे चेक, आ राेपी तत्काल नकद रुपए मांगकर बना रहे थे दबाव

पीड़िता रीटा यादव की ओर से दिए गए परिवाद में पुलिस काे बताया गया है कि आराेपी रमाशंकर पांडेय करीब एक सप्ताह पहले भी घर पर आया था। तब उसकाे पीड़िता के पति ने एक लाख 45 हजार रुपए के दाे चेक साइन करके दिए थे।

इसके बदले रुपए लाैटाने काे समय मांगा गया था। लेकिन आराेपी ने साेमवार शाम काे घर आकर फिर पीड़िता के पति पर दबाव बनाया और नकद रुपए मांगे। वार्ड पार्षद पप्पू पासवान ने बताया कि प्रेम यादव दवा काराेबार से जुड़े हुए थे।

यह परिवार मूलत: उत्तरप्रदेश का रहने वाला है लेकिन करीब पांच-सात वर्षाें से यहीं पर रह रहा था। प्रेम यादव की दाे बेटियां और एक बेटा भी है। वे अपने परिवार के साथ यहीं रह रहे थे। आराेपी पक्ष भी यहीं दाे नंबर वार्ड के निवासी हैं।

पीड़िता की ओर से गंभीर आराेप लगाए जाने पर एसपी राजन दुष्यंत ने पीएमओ काे मेडिकल बाेर्ड गठित कर पाेस्टमार्टम के लिए कहा। इस पर जिला अस्पताल में तीन डाॅक्टराें का बाेर्ड गठित कर शव का पाेस्टमार्टम करवाया गया। शव मृतक के भाई पंचकूला के गांव जनमई निवासी सूरज यादव काे साैंपा गया।

रमाशंकर के दामाद का है फार्मासिस्ट लाइसेंस, प्रेम यादव ने किराए पर ले रखा था

जांच अधिकारी एसआई रामभज ने बताया कि मामला गंभीर प्रकृति का है। इसलिए पुलिस ने शव की फाेटाेग्राफी और वीडियाेग्राफी करवाई है ताकि अनुसंधान में पारदर्शिता रहे। इसके अलावा अभी पीड़िता रीटा यादव और उसके परिवार के सदस्याें के बयान दर्ज नहीं किए गए हैं।

प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि आराेपी और पीड़ित परिवार के संबंध कई वर्षाें से मधुर थे। इस कारण रमाशंकर ने अपने तारानगर निवासी दामाद राकेश शर्मा का डीफार्मेसी का लाइसेंस प्रेम यादव काे किराए पर दे रखा था।

प्रेम यादव पिछले लाॅकडाउन में बीमार हाे गया था। तब रमाशंकर ने ही उसकाे उपचार दिलाया था और सारा खर्च भी उठाया था। दाेनाें परिवाराें में संबंध अच्छे थे, इसीलिए आराेपी ने अपने दामाद का फार्मेसी का लाइसेंस मृतक काे किराए पर दिया था। इस हादसे की अभी जांच की जा रही है। वैज्ञानिक तरीके से जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...