पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना का कहर:पुलिसकर्मी काेरोना की चपेट में; नियंत्रण कक्ष के बाद पुरानी आबादी थाने का एएसआई संक्रमित

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हालात इतने नाजुक कि राेजाना बढ़ रहे मरीजों के घरों के आसपास निगरानी काे अब स्टाफ कम पड़ रहा, घर पर रहकर सुरक्षित रहें

काेराेना काल में प्रशासनिक अधिकारियाें के साथ कंधे से कंधा मिलाकर लाेगाें काे संक्रमण से बचाने काे बड़ी अहम भूमिका निभा रही पुलिस अब खुद संक्रमित हाेती जा रही है। अनलाॅक शुरू हाेने के बाद जिले में संक्रमण बढ़ने से कर्फ्यू क्षेत्र की सीमाएं तय करना ही मुश्किल हाेता जा रहा है।

संक्रमित व्यक्ति के घर के आसपास कंटेनमेंट जाेन तय करने काे पहुंच रही पुलिस अब खुद वहां से संक्रमण लेकर थाने पहुंच रही है। बेहद चिंता की बात है कि श्रीकरणपुर थानाधिकारी और स्टाफ के संक्रमित हाेने के बाद महिला थाना में तैनात हवलदार संक्रमित हाे चुके हैं। अच्छी बात यह रही कि इस थाने में अन्य स्टाफ इनके संपर्क में नहीं आया। तीसरा मामला पुलिस नियंत्रण कक्ष का रहा।

चालक कांस्टेबल संक्रमित हाे जाने से कंट्राेलरूम में हड़कंप मच गया था। लेकिन यहां भी यह संक्रमण उसी तक सीमित रहा। चाैथा मामला रविवार काे पुरानी आबादी थाने जा पहुंचा। पुरानी आबादी में इस समय 13 कंटेनमेंट जाेन हैं और यहीं से ड्यूटी के दाैरान यह संक्रमण एएसआई तक पहुंचा।

अब पूरा थाना सेल्फ क्वारेंटाइन है। लेकिन जरूरी कामकाज भी निपटाए जा रहे हैं। अगर यह सिलसिला इसी तरह आगे बढ़ता रहा ताे जल्दी ही जिले में कानून व्यवस्था का मामला भी संकट में आ जाएगा। वर्तमान में हालात इतने नाजुक हाे चुके हैं कि काेराेना संक्रमित के घर के आसपास बनाए जा रहे कंटेनमेंट जाेन की निगरानी तक के लिए पर्याप्त पुलिस जाब्ता माैजूद नहीं है।

नफरी की भारी कमी से जूझ रही पुलिस के सामने राेजाना 20 या इससे अधिक नए मरीजाें के आने के बाद कंटेनमेंट जाेन बनाकर निगरानी की जिम्मेदारी आ रही है लेकिन इतना स्टाफ ही नहीं है। यह स्थिति एक सप्ताह बाद और भी भयानक हाेने की आशंका है।

चारों मामलों में 3 की संपर्क हिस्ट्री, संक्रमित से ही संक्रमित हाे पहुंचे थाने

जैसा कि सब जानते हैं कि काेराेना संक्रमण एक दूसरे के संपर्क में आने से ही फैल रहा है। यह सच पुलिस के साथ भी रहा। श्रीकरणपुर थाने में संक्रमण संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से ही पहुंचा। दूसरा मामला महिला थाना का रहा। यहां तैनात हवलदार के परिवार के 6 सदस्य संक्रमित हैं और एक बुजुर्ग महिला की ताे इस कारण माैत भी हाे चुकी है।

तीसरा मामला पुलिस नियंत्रण कक्ष में तैनात चालक कांस्टेबल का है। वह बाजार में किसी संक्रमित के संपर्क में आया था लेकिन इसकी पहचान नहीं हाे सकी है। चाैथा मामला महिला थाना के एएसआई का है। वह कई दिनाें से बुखार और जुकाम से पीड़ित था। बीमारी के शुरुअाती दिनाें में ड्यूटी के दाैरान कर्फ्यूग्रस्त एरिया से किसी संक्रमित के संपर्क में आने से खुद भी संक्रमित हाे गया।

पुरानी आबादी थाना के एएसआई काे एक सप्ताह के विशेष प्रशिक्षण के जयपुर मुख्यालय जाना था। उनकाे रवाना हाेने से पूर्व काेविड जांच करवाकर रिपाेर्ट साथ लेकर आने काे निर्देशित किया गया था। वे जांच करवाने अस्पताल पहुंचे ताे खुद के संक्रमित हाेने का पता चला। इसके बाद उनकाे भर्ती कर लिया गया। अब उनके परिवार के 4 और थाने के 54 लाेगाें की जांच की गई है। इनकी जांच रिपाेर्ट साेमवार शाम तक नहीं आई थी।

इधर...3 डॉक्टर व 3 स्वास्थ्य कर्मी पॉजिटिव मिलने से स्टाफ को अलर्ट किया
श्रीगंगानगर| सीएमएचओ डॉ. गिरधारी लाल मेहरड़ा और पीएमओ डॉ. केएस कामरा के अनुसार अब कुल 355 पॉजिटिव केस में से 186 रिकवर हो चुके हैं। जिले में 164 कोरोना पॉजिटिव एक्टिव केस हैं। वहीं, पांच की मृत्यु हो चुकी है। जिले में सोमवार को लिए गए 202 सैंपलों सहित अब तक 16110 लोगों के सैंपल लिए जा चुके हैं।

सोमवार को लिए गए सैंपल सहित 294 की रिपोर्ट शेष है, जो मंगलवार शाम तक आनी संभावित है। जिले में 14 दिन के लिए 647 लोगों को होम क्वारेंटाइन में रखा गया है और 89 मरीज जिला अस्पताल के आइसोलेशन में भर्ती हैं।

सोमवार को पॉजिटिव रोगी मिलने के बाद विभाग की टीमों ने सेनेटाइजेशन की कार्रवाई की। डिप्टी सीएमएचओ डॉ. करन आर्य, सीओआईईसी विनोद बिश्रोई, डॉ. विकास धींगड़ा, पीएचएम विक्रम, सेनेटाइजर बॉय विक्रम व जुगल, बीसीएमओ डॉ. सुरेंद्र स्वामी, बीपीएम हेमंत कुमार आदि की टीम ने मौके पर पहुंचकर सर्वे की कार्रवाई शुरू करवाई।

जिला अस्पताल के तीन डाॅक्टर और तीन स्वास्थ्य कर्मी भी कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। अब इनके संपर्क में रहे दो डाॅक्टर्स को होम क्वारेंटाइन कर दिया गया है। पीएमओ डॉ. केएस कामरा ने स्टाफ को एडवाइजरी जारी की है कि अगर डॉक्टर और स्टाफ व्यक्तिगत मिलना जरूरी न हो तो इंटरकाम या मोबाइल से ही बात कर संपर्क रखें।

पीएमओ डॉ. कामरा के अनुसार स्टाफ से कहा गया है कि वे खुद भी मास्क पहने और बिना मास्क पहने व्यक्ति से दूर ही रहें। अस्पताल में मेडिकल ज्यूरिस्ट ब्रांच के दो डॉक्टर पॉजिटिव होने और इनके संपर्क व्यक्ति तीसरे डॉक्टर के होम क्वारेंटाइन होने के बाद वैकल्पिक व्यवस्था की गई है। इसमें डॉ. दीपक मोंगा, डॉ. देवेंद्र ग्राेवर और डॉ. अलोक वर्मा को लगाया गया है।

सुखद पहलू...7 से 10 दिन में स्वस्थ हो रहे हैं मरीज

कोरोना वायरस से लाेग भले ही डर रहे हाें लेकिन इसका दूसरा सुखद पहलू ये है कि ज्यादातर मरीज 7 से 10 दिनों में स्वस्थ हो रहे हैं। बगैर लक्षण वाले मरीजों का रिकवरी रेट ज्यादा है। जिन व्यक्तियों को लंबे समय से बीमारी नहीं है और उनकी इम्युनिटी पावर अच्छी है वे आसानी से कोरोना को हरा रहे हैं। बगैर लक्षण के कई मरीजों की आइसोलेट किए जाने के बाद पहली रिपोर्ट भी निगेटिव आ रही है। डाॅक्टर की सलाह पर एहतियात बरतने व अच्छा खानपान रखने वाले जल्द स्वस्थ हो रहे हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप धैर्य व विवेक का उपयोग करके किसी भी समस्या को सुलझाने में सक्षम रहेंगे। आर्थिक पक्ष पहले से अधिक सुदृढ़ स्थिति में रहेगा। परिवार के लोगों की छोटी-मोटी जरूरतों का ध्यान रखना आपको खुशी प्र...

और पढ़ें