पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नए नियम:कल तक होंगी प्रायोगिक परीक्षाएं, जिले के 946 स्कूलों में बन रहा है 10वीं-12वीं का रिजल्ट

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • परीक्षक को परीक्षा संपन्न होने के बाद 24 घंटे के अंदर आवश्यक रूप से अंक अपलोड करने हाेंगे, स्कूल में ही रहेंगी उत्तर पुस्तिकाएं

अजमेर बोर्ड ने गत सत्र की शेष रही प्रायोगिक परीक्षाओं के आयोजन की घोषणा के बाद 2 जुलाई से प्रदेशभर के निजी और सरकारी स्कूलों में चल रही परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाएं, उपस्थिति पत्रक आदि परीक्षा सामग्री आगामी आदेशों तक स्कूल में ही रखने के निर्देश दिए हैं।

बता दें कि बीते 5-6 दिनों से चल रही इन परीक्षाओं के आयोजन की अंतिम तिथि 8 जुलाई निर्धारित की गई है। उल्लेखनीय है कि इस वर्ष बोर्ड की ओर से 10वीं-12वीं की परीक्षाओं के लिए अंक निर्धारण नीति की घोषणा के बाद प्रायोगिक परीक्षाओं के ऑफलाइन आयोजन का निर्णय लिया गया था।

काेराेना के कारण पहले भी प्रायोगिक परीक्षाएं स्कूल स्तर पर आयोजित की थी

विद्यार्थी परामर्श केंद्र के जिला समन्वयक भूपेश शर्मा ने बताया कि कोरोना प्रोटोकॉल की पालना में स्कूल स्तर पर ये परीक्षाएं अब 10-10 परीक्षार्थियों के बैच बनाकर ली जा रही हैं। इस वर्ष कोविड-19 की दूसरी लहर के चलते पहले भी प्रायोगिक परीक्षाएं स्कूल स्तर पर आयोजित की गई थी। इसमें उसी स्कूल में पढ़ाने वाले शिक्षक ही पेपर बना रहे हैं।

गौरतलब है कि बोर्ड की पहले की व्यवस्था के अनुसार उच्च माध्यमिक कक्षाओं की प्रायोगिक परीक्षाओं के लिए प्रत्येक विद्यालय के लिए बोर्ड स्तर पर बाहरी परीक्षक की नियुक्ति की जाती थी। इस साल की प्रायोगिक परीक्षाओं में बोर्ड की ओर से बच्चों के प्राप्तांक ऑनलाइन फीडिंग की व्यवस्था की गई है। इसके लिए बोर्ड ने स्कूल के लोगिन पर लिंक उपलब्ध करवाया है, जिस पर संबंधित परीक्षक को परीक्षा सम्पन्न होने के बाद 24 घंटे के अंदर आवश्यक रूप से अंक अपलोड करने हाेंगे।

पड़ोसी जिले में दे सकते हैं पेपर

प्रायोगिक परीक्षाओं के संबंध में बोर्ड की ओर से जारी निर्देशों के अनुसार यदि किसी विद्यालय में स्व:अध्ययन की अनुमति से ऐसे विषय का चयन किया है जो विद्यालय में संचालित नहीं होता है तो उसकी परीक्षा डीईओ की अनुमति से संबंधित जिले की किसी विद्यालय में दी जा सकती है। यदि जिलेभर में भी वह विषय संचालित नहीं है तो पड़ोसी जिले में वह परीक्षा डीईओ माध्यमिक की अनुमति से दिलवाकर ऑनलाइन अंक बोर्ड को भिजवाए जाने हैं।

नियमित विद्यार्थियों की प्रायोगिक परीक्षाएं 8 जुलाई तक विद्यालय स्तर पर संपन्न होनी हैं जबकि स्वयंपाठी विद्यार्थियों की प्रायोगिक परीक्षाएं उनकी सैद्धांतिक परीक्षाओं से पूर्व अलग से आयोजित की जाएंगी। इसकी सूचना यथा समय बोर्ड वेबसाइट पर अपलोड होगी। भूपेश शर्मा, समन्वयक, विद्यार्थी परामर्श केंद्र, शिक्षा विभाग,श्रीगंगानगर

खबरें और भी हैं...