कृषि कानूनोें का विरोध जारी:किसान महापंचायत में पंजाब के सूफी गायक कंवर ग्रेवाल किसान आंदाेलन पर देंगे गीताें की प्रस्तुतियां

श्रीगंगानगर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • किसान संगठनाें ने महापंचायत में अधिक से अधिक भीड़ जुटाने के लिए झाेंकी ताकत

कृषि कानूनाें के विराेध में चल रहे किसान आंदाेलन के संयुक्त किसान माेर्चे के आह्वान पर 17 मार्च काे श्रीगंगानगर नई धानमंडी में किसान महापंचायत हाेगी। इसमें पंजाब के सूफी गायक कंवर ग्रेवाल प्रस्तुति देंगे। दूसरी तरफ किसान संगठनाें के पदाधिकारी भी महापंचायत काे सफल बनाने के लिए पूरी ताकत झाेंक रहे हैं। साथ ही पंजाबी कलाकाराें के कार्यक्रम में भाग लेने की बात लेकर अधिक से अधिक भीड़ जुटाने का प्रयास कर रहे हैं।

श्रीगंगानगर नई धानमंडी में हाेने वाली किसान महापंचायत में संयुक्त माेर्चे के नेता राकेश टिकैत, पूर्व विधायक अमराराम, प्रदेश के जाट नेता राजाराम मील, जय किसान आंदाेलन के याेगेंद्र यादव सहित कई किसान नेताओं के साथ पंजाब गायक भी इस महापंचायत में भाग लेंगे तथा केंद्र सरकार की ओर से बनाए गए कृषि कानूनाें के पहलुओं पर विस्तृत चर्चा करेंगे। अखिल भारतीय किसान सभा, श्याेपत मेघवाल, पूर्व विधायक हेमराम बेनीवाल, किसान आर्मी के संयाेजक मनिंदर सिंह मान, गुरलाल बराड़, किसान संघर्ष समिति के सचिव अमरसिंह बिश्नाेई, प्रवक्ता एडवाेकेट सुभाष सहगल, गंगानगर किसान मजदूर समिति के संयाेजक संतवीर सिंह, रणजीत सिंह राजू, जिला कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष पृथीपाल सिंह संधू आदि नेता नियमित रूप से गांवाें में सभाएं कर किसानाें से महापंचायत में अधिक से अधिक संख्या में भाग लेने व शाहजहांपुर बाॅर्डर पहुंचकर आंदाेलन में शामिल हाेने के लिए आह्वान कर रहे हैं। नई धानमंडी के व्यापारी व आसपास की मंडियाें के व्यापारिक संगठन व मजदूर संगठनाें की ओर से भी मंडियाें में बैठकें कर महापंचायत में भाग लेने के लिए व्यापारियाें व मजदूराें काे प्रेरित किया जा रहा है।

महापंचायत की व्यवस्था संभालेंगी अलग-अलग टीमें

किसान महापंचायत में व्यवस्था बनाने के लिए अलग-अलग टीमें गठित की गई हैं। ये टीमें यहां महापंचायत में आने वाले किसानाें के वाहन राेकने व पांडाल में बैठने की व्यवस्था करने आदि का जिम्मा रहेगा। इसके अलावा महापंचायत में आने वाले किसानाें के लिए भाेजन व चाय नाश्ते के लिए अलग-अलग व्यवस्था रहेगी। कई संगठनाें की ओर से चाय नाश्ते की स्टालें भी लगाई जाएंगी ताकि महापंचायत में आने वाले किसानाें काे किसी प्रकार की काेई परेशानी नहीं हाे।

किसानाें काे मिलनी शुरू हुई डिग्गी निर्माण की दाे साल से बकाया पड़ी अनुदान राशि

जिले में कृषि विभाग की याेजना के अनुसार 2018 में खेताें में डिग्गी निर्माण अनुदान राशि का इंतजार कर रहे किसानाें काे अब सरकार ने राहत दी है। अनुदान की राशि किसानाें की खाताें में ऑनलाइन जमा करवाई जा रही है। इसी सप्ताह सभी किसानाें काे बकाया राशि का भुगतान कर दिया जाएगा। जिले में 2231 किसानाें काे 44 कराेड़ 42 लाख रूपए की राशि का भुगतान किया जाना है। कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक जीआर मटाेरिया ने बताया कि सरकार की ओर से डिग्गी निर्माण की एवज में बकाया अनुदान राशि जिले में 2231 किसानाें की दाे लाख रुपए पर डिग्गी के हिसाब से अनुदान राशि बकाया थी।

लाभार्थी किसानाें के खाताें में जमा करवाई जा रही है राशि : दाे साल से किसान बकाया अनुदान राशि के भुगतान की मांग कर रहे थे। सरकार से बजट मिलते ही संबंधित किसानाें के बिल तैयार कर काेष कार्यालय में भेजे जा चुके हैं तथा वहां से लाभार्थी किसानाें के खाताें में राशि जमा करवाई जा रही है। कई किसानाें के खाताें में बकाया अनुदान राशि जमा भी हाे चुकी है। उन्हाेंने बताया कि इसी सप्ताह सभी किसानाें के खाताें में बकाया राशि जमा करवा दी जाएगी।

कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक ने बताया कि सादुलशहर क्षेत्र व जिले में अनुसूचित जाति के किसानाें के खेताें में डिग्गी निर्माण के लिए विभाग से लक्ष्य प्राप्त हुआ है। इसी के अनुसार डिग्गियाें का निर्माण करवाया जा रहा है। सामान्य जाति के किसानाें के लिए डिग्गी निर्माण का लक्ष्य नहीं मिला है। विभाग से लक्ष्य प्राप्त हाेते ही याेजना के अनुसार डिग्गी निर्माण के लिए आवेदन मांगे जाएंगे। ताकि किसानाें काे लाभ मिल सके।

खबरें और भी हैं...