पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सावधान! आ रहा काला पानी:पंजाब ने हरिके बैराज से नहरों में गंदा पानी छोड़ा, 24 घंटों में श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ में पहुंचने की आशंका

श्रीगंगानगर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हरिके बैराज से छोड़ा गया काला पानी। - Dainik Bhaskar
हरिके बैराज से छोड़ा गया काला पानी।

पंजाब के हरिके बैराज से नहराें में प्रदूषित काला पानी छाेड़ा गया है। रविवार शाम काे हरिके बैराज से पंजाब व राजस्थान की तरफ आने वाली नहरों में गहरे काल रंग का दुर्गंधयुक्त पानी बह रहा था। ये पानी पंजाब के लुधियाना शहर की औद्योगिक इकाइयों का अपशिष्ट बताया जा रहा है। लुधियाना शहर की औद्योगिक इकाइयों से निकला ये पानी बुढ़ा नाला के जरिए सतलुज नदी से हरिके बैराज तक पहुंचता है। यहीं से राजस्थान की नहरों में आता है। प्रदूषित पानी सोमवार शाम तक श्रीगंगानगर व हनुमानगढ़ जिले में पहुंचने की संभावना है।

पंजाब में प्रदूषित पानी रुकवाने के लिए आंदोलन कर रही एनजीओ निराेआ पंजाब के पदाधिकारी गुरप्रीत सिंह चंदबाजा के अनुसार इसकी शिकायत प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों को दी गई है।

किसान नेताओं ने एनजीटी को की शिकायत

यह पानी इतना खतरनाक है कि इस पानी काे पीना तो दूर की बात है इससे नहाना भी खतरे से खाली नहीं है। इस गंदे पानी काे दरिया में डालने से राेकने काे लंबे समय से आंदाेलन किया जा रहा है। एनजीटी ने भी कई बार पंजाब सरकार काे निर्देश जारी किए हैं। भाजपा नेता रमजानअली चौपदार ने बताया कि इस संबंध में एनजीटी द्वारा गठित कमेटी के चेयरमैन जसबीरसिंह व पंजाब पॉल्यूशन नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष एसएस मारवाह को फोन पर काले पानी की सूचना से अवगत करवाया गया है।

अगर इस संबंध में कोई उचित कार्रवाई नहीं होती तो केंद्रीय जल मंत्री से मिलकर समस्या के बारे में अवगत कराया जाएगा। उल्लेखनीय है कि यह पानी राजस्थान में आठ जिलों में सप्लाई होता है।

^जल संसाधन विभाग को प्रदूषित पानी पर नजर रखने और इसकी सूचना पीएचईडी को देने के निर्देश दिए हैं। पीएचईडी के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि सप्लाई किए जाने वाले पानी की गुणवत्ता बरकरार रहनी चाहिए। लोगों को शुद्ध पेयजल मिले। पानी शुद्ध करने के लिए अगर अतिरिक्त केमिकल की जरूरत है तो बता दिया जाए।

जाकिर हुसैन, जिला कलेक्टर
नहरों में आ रहे पानी में मिट्‌टी की मात्रा जरूर ज्यादा है। काले पानी की जानकारी हमें नहीं है। फिर भी हम सोमवार सुबह इसकी जांच करवाएंगे। पानी गंदा हुआ तो इस बारे में पंजाब के अिधकारियों से भी बात करेंगे। अभी हनुमानगढ़-श्रीगंगानगर में काला पानी नहीं आ रहा।
विनोद मित्तल, चीफ इंजीनियर, जल संसधान, उत्तरजोन, हनुमानगढ़

नहर का पानी ए श्रेणी का होना चाहिए, यह सी व डी श्रेणी का
पंजाब की फैक्ट्रियां का गंदा केमिकल युक्त पानी नहरों में डाला जाता है। इस पानी में खतरनाक रसायन होता है

लेड
मानसिकता विक्षिप्तता, मिर्गी, गुस्सा व कैंसर।
एल्यूमीनियम
एल्माइजर (भूलने की परेशानी) व हार्ट अटैक।

नाइट्रेट: पेट की बीमारियां व बच्चों में पोषक तत्वों की कमी होना।

आरसेनिक आंखों की समस्या व किडनी फेल होना। यूरेनियम गर्भपात होने बड़ा खतरा।

ऐसे पानी काे यूवी फिल्टर कर उपयाेग में लिया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...