पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आंकड़े छिपाकर हो रहा कोरोना प्रबंधन:हकीकत; अस्पताल में बीएसएफ के 13 कोरोना संक्रमित जवान भर्ती, सभी जवानों का टीकाकरण भी हो चुका

श्रीगंगानगर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट; महज 4 ही एक्टिव कोरोना राेगी

काेराेना वायरस की जिले में दोबारा एंट्री के बाद स्वास्थ्य विभाग में एक बार फिर आंकड़े छिपाकर काेरोना प्रबंधन का खेल शुरू हो चुका है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से सोमवार को जारी कोविड बुलेटिन के अनुसार जिले में 2 नए रोगी मिले हैं।

इससे एक्टिव रोगियों की संख्या 4 हाे चुकी है। हकीकत ये है कि जिला अस्पताल के कोविड वार्ड में कोरोना संक्रमित बीएसएफ के 13 जवान भर्ती हैं। रायसिंहनगर में त्रिपुरा से शिफ्ट हुई बीएसएफ की एक बटालियन के 6 और जवान कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इन्हें जिला अस्पताल में रेफर कर दिया गया है।

जिला अस्पताल के कोविड प्रभारी डॉ. केएस कामरा के अनुसार बीएसएफ के भर्ती जवानों को हल्का संक्रमण है। जवानों का टीकाकरण हो चुका है। रविवार रात को भर्ती हुए छह नए रोगी जवान पूर्व में संक्रमित हुए जवानाें के संपर्क में आए थे। रविवार को भर्ती किए गए 6 जवानों की आरटीपीसीआर रिपोर्ट के लिए सैंपल लिए गए हैं।

कलेक्टर ने सैंपलिंग बढ़ाने व विद्यार्थियों के चेकअप के निर्देश दिए

अस्पताल में अगस्त के अंतिम सप्ताह में बीएसएफ के श्रीगंगानगर मुख्यालय का एक जवान कोरोना के लक्षण होने पर भर्ती हुआ था। इस जवान की 29 अगस्त को आरटीपीसीआर रिपोर्ट पॉजिटिव घोषित की गई। इसके बाद चार सितंबर को रायसिंहनगर के 6 जवानों और 6 सितंबर को फिर 6 जवानों को संक्रमित होने पर भर्ती किया गया।

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में 5 सितंबर को 1 नया पॉजिटिव रोगी मिलने से एक्टिव रोगियों की संख्या 2 बताई गई। 6 सितंबर की रिपोर्ट के अनुसार जिले में अब 2 और नए रोगी मिले हैं। इससे एक्टिव रोगियों की संख्या 2 से बढ़कर 4 हो चुकी है।

हालांकि गत वर्ष नवंबर में कोरोना का संक्रमण पर पीक पर रहा। तब जिले का पॉजिटिविटी रेट एक बार 35 प्रतिशत होने से देश में सर्वाधिक स्तर पर तक पहुंच गया था। तब भी वास्तविक आंकड़े छिपाए गए थे।

स्वास्थ्य निदेशालय ही जारी करता है आंकड़े: सीएमएचओ

जिले की कोविड लैब से सैंपलों की जांच के बाद पॉजिटिव रोगियों की रिपोर्ट सीएमएचओ कार्यालय को भेजी जाती है। वहां डिप्टी सीएमएचओ (स्वास्थ्य) का सेल पुराने भर्ती रोगियों की रिपीट पॉजिटिव रिपोर्ट व नए रोगियों की रिपोर्ट को अलग-अलग करता है।

इसके बाद नए रोगियों की रिपोर्ट स्वास्थ्य निदेशालय को भेजी जाती है। सीएमएचओ डॉ. गिरधारी लाल मेहरड़ा के अनुसार जिला मुख्यालय से भेजे गए आंकड़ों को स्वास्थ्य निदेशालय प्रोसेस कर जारी करता है।

विभाग ने सैंपलिंग भी घटाई, कलेक्टर के आदेश-इसे बढ़ाएं

जुलाई में औसतन प्रतिदिन 1112 सैंपल लिए जाते थे। महीने भर में 34491 सैंपल लिए गए। अगस्त में सैंपलों की संख्या घटकर 20588 सैंपल लिए गए। प्रतिदिन औसतन घटकर 664 रह गया। सितंबर में 1 से 6 तारीख तक 3550 सैंपल लिए गए।

यानी एक दिन में औसतन 591 सैंपल ही लिए गए। जिला कलेक्टर जाकिर हुसैन के अनुसार स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को आगाह किया गया है कि रोजाना औसतन 1600 सैंपल लिए गए। रेंडम सैंपलिंग पर जोर दिया जाना चाहिए।

खबरें और भी हैं...