दिव्यांग बनेंगे सक्षम:केंद्र की गाइडलाइन के बाद अब राज्य के स्पेशल स्टूडेंट्स को  मिलेगा स्पेशल कंटेंट, शिक्षा विभाग ने पढ़ाई के लिए तैयार करवाए वीडियो

श्रीगंगानगरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीगंगानगर में स्पेशल स्टूडेंट्स के लिए तैयार लैब। - Dainik Bhaskar
श्रीगंगानगर में स्पेशल स्टूडेंट्स के लिए तैयार लैब।

कोरोना की दूसरी लहर इलाके में आने के बाद अब सरकार सामान्य स्टूडेंट्स के साथ-साथ जिले के विशेष आवश्यकता वाले स्टूडेंट्स की पढ़ाई के प्रति भी गंभीर हो गई है। अब तक सामान्य स्टूडेंट्स के लिए स्माइल प्रोग्राम के तहत वीडियो बनवाए गए थे, वहीं अब स्पेशल स्टूडेंट्स के लिए भी ऐसे ही वीडियो बनवाए गए हैं। ये वीडियो ऑडियो-विजुअल तो हैं ही, साइन लेंग्वेज के माध्यम से भी ये जानकारी देंगे। केंद्र सरकार के शिक्षा मंत्रालय ने सभी राज्यों को दिव्यांगों के लिए ऐसे वीडियो बनवाकर उनकी स्टडी को आगे बढ़ाने के लिए गाइडलाइन जारी की थी। उसी गाइडलाइन के अनुसार राज्य के शिक्षा विभाग ने अब इस पर तेजी से काम शुरू कर दिया है।

वीडियो के माध्यम से सरकार ने इन स्पेशल स्टूडेंट्स को समर्थ बनाने के लिए तैयारी की है। इसके लिए समर्थ अभियान चलाया गया है। इसके तहत बड़े स्तर पर ब्रेल लिपि व साइन लैग्वेज में कक्षा-1 से कक्षा-12 तक के लिए ई-कटेंट तैयार करवाया जा रहा है। इसे सोशल मीडिया ग्रुपों के माध्यम से स्टूडेंट्स तक भिजवाना शुरू कर दिया गया है। पिछ्ले दिनों शिक्षा मंत्रालय ने 'ई-विद्या योजना' के तहत ही दिव्यांग बच्चों के लिए ऑनलाइन/डिजिटल/ऑन-एयर शिक्षण में समानता लाने के उद्देश्य से एक गाइडलाइन जारी की थी।

स्पेशल ग्रुपों में मिलेगा कंटेंट
स्पेशल स्टूडेंट्स के लिए प्रदेश के सभी जिलों में अलग से व्हाट्सएप ग्रुप बनाए गए हैं। इनमें नियमित रूप से अलग-अलग कक्षा व विषयवार कटेंट भेजा जा रहा है। इन स्टूडेंट्स को नियमित रुप से गृह कार्य भी दिया जाएगा।

होगा शंका का समाधान

मूक बधिर सहित अन्य श्रेणी के विद्यार्थियों के लिए वीडियो लाइब्रेरी भी तैयार कराई जा रही है। इसमें स्टूडेंट्स को यदि ई-कक्षा के बाद भी कोई शंका रहती है तो वह एक क्लिक पर पूरी जानकारी ले सकता है।

यह है दिव्यांगों की स्थिति

  • दिव्यांगता की श्रेणियां- 21
  • राजकीय विद्यालयों में दिव्यांग विद्यार्थी- 88.50 हजार
  • प्रदेशभर में विशेष शिक्षक- 2200
  • जिले में संदर्भ कक्ष- 9
  • जिले में विशेष आवश्यकता वाले विद्यार्थी- 3.3 हजार

जिला दिव्यांगता प्रकोष्ठ के समन्वयक भूपेश शर्मा का कहना है कि समर्थ अभियान के तहत भेजे जा रहे विडियो विभाग के यू-टयूब चैनल ई-कक्षा पर भी अपलोड हैं। इनमें ऑडियो विज्युअल और साइन लैंग्वेज से जानकारियां दी गई है।