पंचायत चुनाव-2021:बगावत का ऐसा डर कि भाजपा-कांग्रेस रात तक दावेदार ही नहीं घोषित कर सकी, नामांकन आवेदन का आज आखिरी दिन

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • संभावना... भाजपा-कांग्रेस की सूचियां आरओ के पास ही पहुंचेंगी

पंचायत समितियों व जिला परिषद में नामांकन का बुधवार को तीसरा दिन रहा। गुरुवार को अंतिम दिन है। भाजपा व कांग्रेस ने बुधवार देर रात तक अपनी चुनावी रणनीति के पत्ते खाेलने से गुरेज किया। दोनों ही प्रमुख दलों की दिनभर जयपुर में प्रदेश स्तरीय पदाधिकारियों के साथ बैठकें चलीं। उम्मीदवार घोषित करने के लिए मंथन हुआ। बुधवार देर रात तक दोनों की पार्टियों ने उम्मीदवार घोषित नहीं किए थे। भाजपा व कांग्रेस हर जोन में एक दूसरे के संभावित उम्मीदवारों की टोह ले रही हैं।

दोनों पार्टियों की ओर से गुरुवार सुबह तक उम्मीदवार घोषित किए जाने की संभावना है। हालांकि जिन्हें उम्मीदवार बनाया जाना है, उन दावेदारों को इशारा कर दिया गया है कि वे गुरुवार को नामांकन की तैयारी कर लें। कांग्रेस में गहलोत और पायलट गुट के बीच टिकटों के बंटवारे को लेकर खींचतान है। भाजपा किसान आंदोलन से सुहानुभूति रखने वाले नेताओं को टिकट देने से गुरेज कर रही है। रात तक भाजपा व कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच भी पार्टी के संभावित उम्मीदवारों के बारे में जानने की उत्सुकता रही। दिनभर में 9 पंचायत समितियों में 99 उम्मीदवारों ने 110 नामांकन और जिला परिषद चुनाव के लिए 18 उम्मीदवारों ने 22 नामांकन जमा करवाए।

जयपुर में बैठकों का दौर, संभावितों को तैयारी का इशारा

कांग्रेस: जिन्हें टिकट नहीं, उनकी अभी से मनुहार, ताकि वह बगावत न करेंकांग्रेस की प्रदेश स्तर पर दो बैठकें हुईं। सुबह बैठक में दोनों चुनाव प्रभारियों-प्रदेश सचिव जिया उर रहमान आरिफ और प्रदेश उपाध्यक्ष नसीम अख्तर इंसाफ ने जिले में विधानसभा क्षेत्रवार लगाए पर्यवेक्षकों से रिपोर्ट लेकर प्रत्येक जोन से दावेदारों के नामों के पैनल तैयार किए गए।

ज्यादातर जोन से 3-3 नामों के पैनल बनाए गए हैं। दोपहर में प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के साथ हुई बैठक में पैनलों पर चर्चा हुई। प्रदेश सचिव जिया उर रहमान आरिफ के अनुसार प्रदेशाध्यक्ष डोटासरा की ओर से ही टिकटें फाइनल की जाएंगी। कांग्रेस ने जिन्हें टिकट नहीं देनी, उन्हें बागी बनकर पार्टी के राह में अड़चन बनने से रोकने के लिए अभी से मनुहार शुरू कर दी है।

भाजपा: प्रदेश व जिला स्तर पर बैठकें, किसान आंदोलन के प्रभाव पर चर्चा

भाजपा के जिला चुनाव प्रभारी हरीराम रिणवां और जिलाध्यक्ष आत्माराम तरड़ ने जयपुर में प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, प्रदेश उपाध्यक्ष व संभाग प्रभारी माधोराम चौधरी सहित अन्य प्रदेश स्तरीय नेताओं से बैठक की। इसमें जिला परिषद और पंचायत समिति क्षेत्रवार दावेदारों के नामों पर चर्चा की गई। जिलाध्यक्ष तरड़ के अनुसार अभी मंथन चल रहा है। जिला में पंचायत समिति स्तर पर भी बैठकें हुईं। प्रदेश स्तरीय बैठक में फीडबैक लिया गया कि कृषि प्रधान श्रीगंगानगर जिले में किसान आंदोलन का क्या प्रभाव रहेगा। बैठक में किसान आंदोलन से सुहानुभूति रखने वाले कई नेताओं के नामों पर चर्चा करते हुए उन्हें टिकट न देने का निर्णय हुआ।

तीसरे दिन जिप के लिए 18 उम्मीदवारों ने 22 और पंचायत समितियों में 99 ने 110 नामांकन

बुधवार को जिला परिषद चुनाव के लिए 18 उम्मीदवारों ने 22 नामांकन जमा करवाए। जिले की 9 पंचायत समितियों में 99 उम्मीदवारों ने 110 नामांकन दाखिल किए। गुरुवार को नामांकन दाखिल करने का अंतिम दिन है। भाजपा व कांग्रेस के उम्मीदवारों सहित अन्य पार्टियों व ज्यादातर निर्दलीय उम्मीदवार गुरुवार को नामांकन दाखिल करेंगे। इससे नामांकनों के लिए जोर रहेगा। बुधवार को कलेक्ट्रेट में उम्मीदवारों व उनके समर्थकों की वजह से पिछले दो दिनों की अपेक्षा ज्यादा चहल-पहल रही।

जिला परिषद में जाेन नंबर 4 में दीपेश नायक कांग्रेस, अर्जुन चौहान कांग्रेस व निर्दलीय, जोन नंबर 10 में माहीराम कांग्रेस, जोन नंबर 11 में संजू कंवर कांग्रेस, जोन नंबर 13 में कमला देवी कांग्रेस, जोन नंबर 14 में साेनू सीपीआई, साहब राम कांग्रेस, हरीराम कांग्रेस व निर्दलीय, सिंदबाद कांग्रेस, जोन नंबर 18 में हरप्रीत कौर कांग्रेस, जोन नंबर 22 में तीजा कांग्रेेस, जोन नंबर 13 में सुभाषचंद कांग्रेस, जोन नंबर 24 में मीनाक्षी खीचड़ कांग्रेस, जोन नंबर 27 में कालूराम मेघवाल कांग्रेस व निर्दलीय, कुणाल शेखावटी कांग्रेस, सोहनलाल कांग्रेस, देवकरण कांग्रेस, जोन नंबर 28 में अजीत सिंह कांग्रेस, जोन नंबर 31 में जीत सिंह सीपीएम ने नामांकन दाखिल किया।

जिला परिषद के लिए अब तक 19 उम्मीदवार 23 नामांकन दाखिल कर चुके हैं। पंचायत समितियों में 114 उम्मीदवार 129 उम्मीदवार नामांकन दाखिल कर चुके हैं। श्रीगंगानगर पंचायत समिति में बुधवार को पांच नामांकन जमा हुए। इसमें जाेन नंबर 5 से खविंद्र सिंह कांग्रेस,जाेन नंबर 29 से प्रीतम सिंह निर्दलीय, 29 से इकबाल सिंह निर्दलीय, 22 से अमनजीत कौर कांग्रेस और सरबजीत कांग्रेस ने नामांकन दाखिल किया।

बगावत रोकने के लिए टिकटों में देरी

भाजपा व कांग्रेस के पदाधिकारियों के अनुसार टिकटें जितनी देरी से घोषित की जाएंगी, असंतुष्टों की बगावत को उतना ही प्रभावी तरीके से रोका जा सकेगा। हर जोन में टिकट के कई दावेदार हैं। इससे टिकट से वंचित असंतुष्टों की सूची भी लंबी होगी। बगावत रोकने के लिए जिन दावेदाराें काे पार्टी का अधिकृत उम्मीदवार बनाया जाएगा, उनके नाम सार्वजनिक नहीं किए जा रहे हैं।

हालांकि दावेदारों में से ज्यादातर ने टिकट न मिलने पर निर्दलीय चुनाव लड़कर पार्टी द्वारा की अनदेखी करने के प्रति रोष जाहिर करने का मन बना रखा है। संभावित बागियों को मनाने की भी रणनीति बनाई गई है। भाजपा व कांग्रेस गुरुवार को एक साथ भी सिंबल जमा करवा सकती हैं।

मैनेज: बाड़ेबंदी का खर्च कौन उठाने में समक्ष है

भाजपा व कांग्रेस ने अभी से बाड़ेबंदी की तैयारियां शुरू कर दी हैं। ये भी फीडबैक लिया जा रहा है कि पहले संभावित जिताऊ उम्मीदवारों और फिर जीते हुए उम्मीदवारों की बाड़ेबंदी करने का खर्च उठाने के लिए कौन सक्षम है। इसके लिए जिला प्रमुख व प्रधान बनने के इच्छुकों को टटोला जा रहा है।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...