बाल विवाह रुकवाने गई टीम:किशोरी के जीजा ने दिखाई धौंस, बोला-मेरे पिता पुलिस में, यहां से नहीं जाने दूंगा, महिला सिपाही के साथ गाली-गलौज

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बाल कल्याण समिति, चाइल्ड लाइन व पुलिस ने बुधवार काे एक नाबालिग लड़की की शादी रुकवाई। समिति काे सुबह 9 बजे सूचना मिली कि जवाहरनगर पुलिस थाना क्षेत्र की गुरुनानक बस्ती में नायक समाज के कुछ लोग एक नाबालिग लड़की का सुखाड़िया सर्किल, गाेशाला के नजदीक मैरिज पैलेस में विवाह कर रहे हैं। सूचना मिलने पर दोपहर 1 बजे बाल कल्याण समिति, चाइल्ड लाइन एवं जवाहरनगर पुलिस थाना की संयुक्त टीम मौके पर गई। टीम जब वहां पहुंचा तो शादी की तैयारियां चल रही थी, मंगल गीत गाए जा रहे थे, बालिका की बारात श्रीकरणपुर से आ चुकी थी, उसका स्वागत हो रहा था।

टीम ने बालिका के बालिग होने के सबूत मांगे तो बालिका की नानी व भाई ने आधार कार्ड दिखाया, जिसमें बालिका की आयु 17 वर्ष 5 माह 26 दिन ही मिली। यह आयु विवाह योग्य नहीं थी। टीम को गुमराह करने के लिए परिजनों ने पूरा जोर लगाया, लेकिन टीम की सजगता से ऐसा न हो सका और बारात को बिना दुल्हन ही वापस लौटना पड़ा। जिस बालिका का विवाह हो रहा था उसके जीजा ने साथ आई हुई महिला सिपाही के साथ गाली-गलौज की और धौंस दिखाने लगा कि मेरे पिता पुलिस में हैं और मैं आपको किसी को भी यहां से जाने नही दूंगा और पंजाबी भाषा में टीम को बोला कि (मितरां दा ना चलदा) पुलिस ने महिला सिपाही के साथ गाली गलौज करने और टीम को धमकाने के कारण बालिका के जीजा को पकड़ लिया और अपने साथ पुलिस थाने लाकर उसकी खबर ली। ऐसे में हालत नाजुक होते देख और पुलिस जाब्ता मौके पर बुलाया गया तब सबकुछ सामान्य हो सका। कुछ सफेदपोश नेता भी इकट्ठे हुए और प्रशासन की टीम को घेर लिया लेकिन उनकी एक न चली।

टीम ने परिवार वालों को बालिका के बालिग होने तक विवाह नहीं करने के लिए पाबंद किया और मौका फर्द बनाकर परिवार व रिश्तेदारों के हस्ताक्षर करवाए गए। परिजन व रिश्तेदार जगह या समय बदल कर बालिका का किसी अन्य स्थान पर विवाह नहीं कर दें, इसलिए बाल कल्याण समिति एवं गिरदावर ने मौके की निगरानी के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व जवाहरनगर पुलिस थाना के एक पुलिसकर्मी की ड्यूटी लगाई है और कुछ घटना होने पर तुरंत इसकी सूचना बाल कल्याण समिति एवं चाइल्ड लाइन के टोल फ्री नंबर-1098 पर देने के लिए निर्देशित किया गया है।

कार्यवाही के दौरान हलवाई व फोटोग्राफर को बाल कल्याण समिति एवं पुलिस ने कानून का पाठ पढ़ाया है। मौका पाकर फेरे करवाने वाला पंडित फरार हो गया। संयुक्त टीम में बाल कल्याण समिति अध्यक्ष जोगेंद्र कौशिक, सदस्य आंनद मारवाल, वंदना गौड़, विपिन सांखला, चाइल्ड लाइन के जिला समन्वयक त्रिलोक वर्मा, टीम सदस्य अनीश कुमार, गिरदावर रामनिवास स्वामी, जवाहरनगर पुलिस थाना से सहायक उपनिरीक्षक मोहनलाल, सूरजभान, महिला कांस्टेबल सुमन, सिपाही रणसिंह एवं संजय शामिल थे।

खबरें और भी हैं...