• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sriganganagar
  • The Health Minister Does Not Listen To Your Instructions, The Health Officer Of Sriganganagar District Ignores The Reality, Randomly Sampling, Took Only 477 In 1 Day

​​​​​​​हिदायत, वायरस का नया स्ट्रेन रोजाना 1000 सैंपल लिए जाएं:स्वास्थ्य मंत्री जी आपकी भी हिदायत नहीं मानते श्रीगंगानगर जिले के स्वास्थ्य अधिकारी हकीकत, रेंडमली सैंपलिंग नजरअंदाज, 1 दिन में महज 477 ही लिए

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन ओमिक्रॉन ट्रेस होने के बाद राज्य सरकार का सैंपलिंग व टेस्टिंग पर जोर है। फिर भी जिले में कोरोना की सैंपलिंग पर जोर नहीं दिया जा रहा है। पहले मुख्यमंत्री वीसी में कोरोना की जांच के लिए सैंपलों की संख्या बढ़ाने की हिदायत दे चुके हैं। वीसी में स्वास्थ्य मंत्री प्रसादी लाल मीणा ने भी सभी जिलों में सैंपलों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। जिले में मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री के निर्देशों की पालना नहीं हो रही है। टेस्टिंग का दायरा बढ़ाने के लिए रेंडमली सैंपल लेते हुए जिले में रोजाना 1000 सैंपल लेने के निर्देश दिए हैं। बुधवार को जिले में 477 सैंपल ही लिए गए। नवंबर में प्रतिदिन औसतन 289 सैंपल ही लिए गए। टीकाकरण भी कम हो रहा है। हनुमानगढ़ सैंपलिंग व टीकाकरण में आगे हैं।

बड़ी लापरवाही सुपर स्प्रेडर और आईएलआई रोगियों की ज्यादा सैंपलिंग नहीं

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का दावा है कि हर ब्लॉक में टीमों के अलावा दो मोबाइल टीमें सैंपल ले रहे हैं। सैंपलों की संख्या काफी बढ़ा दी गई है। हकीकत ये है कि जिला मुख्यालय पर 100 से भी कम सैंपल लिए गए। दिनभर में लिए गए 477 सैंपलों में से सूरतगढ़ ब्लॉक में 250, श्रीकरणपुर में 40, पदमपुर में 84, केसरीसिंहपुर में 5, सीएमएचओ कार्यालय में 25, जिला अस्पताल में 27 और श्रीगंगानगर ब्लॉक की मोबाइल टीम ने 46 सैंपल लिए। सीएमएचओ डा. गिरधारी लाल मेहरड़ा सैंपलिंग के लिए गठित दोनों मोबाइल टीमें अब सक्रिय हो गई हैं। इससे सैंपलिंग बढ़ेगी। टीकाकरण भी बढ़ाया जाएगा। इसके लिए घर-घर जाकर विभाग की टीमें वंचित लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित कर रही हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बाहर से यात्रा कर आए लोगों, सब्जी, दूध विक्रेता, किराना सहित अन्य दुकानदार, जिनके पास रोजमर्रा ज्यादा ग्राहक आते हैं, उन्हें कोरोना वायरस के सुपर स्प्रेडर श्रेणी में शामिल किया है। इन्हें कोरोना वायरस का संक्रमण होने पर दूसरे व्यक्तियों में ज्यादा फैलाव होने की आशंका रहती है। इसी वजह से इन लोगों के ज्यादा संख्या में रेंडमली सैंपल लेने की हिदायत दी गई है। अस्पताल में जांच करवाने आए आईएलआई रोगियों के सैंपल लेकर कोरोना टेस्टिंग के लिए भी निर्देश हैं। इन दिनों मौसम में बदलाव होने से आईएलआई रोगियों की संख्या बढ़ी है। इसके विपरीत सैंपल कम संख्या में लिए जा रहे हैं।

इनसे सीखिए...हनुमानगढ़ में सैंपलिंग ज्यादा

नवंबर महीने में जिले में 8685 सैंपल लिए गए। प्रतिदिन औसतन 289 सैंपल ही लिए गए। हनुमानगढ़ जिले में 17902 यानी प्रतिदिन औसतन 596 सैंपल लिए गए। सैंपलिंग में हनुमानगढ़ जिला आगे हैं।टीकाकरण में जिले की रैंकिंग 9 वीं, अभी 1.58 लाख लोग वंचित

18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के 1473263 लोगाें का टीकाकरण करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इसमें से अभी तक पहली डोज 1315072 (89.26 प्रतिशत) और दूसरी डोज 688204 (52.33 प्रतिशत) को लगी है। अभी तक 158191 लाेग टीकाकरण से वंचित हैं। टीकाकरण में राज्य में श्रीगंगानगर जिला 9वां स्थान है। हनुमानगढ़ जिले का दूसरा स्थान है। वहां निर्धारित लक्ष्य 1334046 लोगों में 1315078 (98.57 प्रतिशत) को पहली और 688271 (51.59 प्रतिशत) को दूसरी डोज लगी है। हनुमानगढ़ में 18968 लोगों को ही टीका लगना बाकी है। जिले के टीकाकरण प्रभारी आरसीएचओ डॉ. एचएस बराड़ के अनुसार टीकाकरण बढ़ाने के लिए टीमें घर-घर दस्तक अभियान चला रही हैं। दिसंबर में भी टीकाकरण पर जोर रहेगा।

खबरें और भी हैं...