नहीं मिला शराब माफिया का सुराग:कार्रवाई करने गए पुलिस दल पर किया था हमला, घायल कांस्टेबल को लेकर लौटे थे पुलिसकर्मी

श्रीगंगानगर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पदमपुर पुलिस स्टेशन। - Dainik Bhaskar
पदमपुर पुलिस स्टेशन।

जिले के पदमपुर क्षेत्र के गांव पांच ईईए में बुधवार रात अवैध शराब बनाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने गए पुलिस दल पर हमले के मामले में घटना के तीन दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली है। मामले की जांच श्रीकरणपुर सीओ को सौपी गई है। पुलिस ने इस मामले में कई जगह दबिश दी है तथा कई लोगों से पूछताछ भी की है, लेकिन उनके हाथ अब तक आरोपी नहीं लग पाए हैं।

कस्सी से हुआ था कांस्टेबल पर हमला
जिले की पदमपुर थाना पुलिस को बुधवार रात गांव पांच ईईए में एक घर में शराब बनने की सूचना मिली थी। एसएचओ रामकेश ने इसकी सूचना सीओ को देते हुए अन्य थानों से सहयोग मांगा तो उनके साथ घमूड़वाली एसएचओ पवन कुमार और गज सिंहपुर एसएचओ इमरान खान को भी रवाना किया गया। पदमपुर एसएचओ रामकेश के साथ एएसआई राजेन्द्र प्रसाद, कांस्टेबल मनोज कुमार,अम्बालाल, विकास, कौर सिह, सुलेन्द्र कुमार, महताब , रामनिवास और चालक कृष्णलाल भी रवाना हुए।

पुलिस से उलझे, कर दिया हमला

पुलिस टीम बुधवार रात करीब पौने बारह बजे गांव पांच ईईए पहुंची। पुलिस ने आरोपी मलकीत सिंह के घर का गेट खुलवाया। गेट मलकीत सिंह ने खोला तो एसएचओ रामकेश ने पुलिस कार्रवाई के बारे में बताया और तलाशी के लिए कहा। इसी दौरान मलकीत सिंह के घर से अन्य व्यक्ति विजेंद्र सिंह निकला और पुलिस से उलझने लगा। विजेंद्र घर से कस्सी लेकर आया और पुलिस दल पर हमला कर दिया। मलकीत सिंह ने भी पुलिस पर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया। विजेन्द्र सिंह ने जान से मारने की नीयत से पास खड़े कांस्टेबल मनोज कुमार के सिर में कस्सी की चोट मारी। कांस्टेबल मनोज के घायल होने पर पुलिसकर्मियों को लौटना पड़ा।

मौके से फरार हुए आरोपी
एसएचओ रामकेश ने बताया कि इस मामले में जांच सीओ श्रीकरणपुर कर रहे हैं। एसएचओ का कहना था कि इस मामले में दो भाई आरोपी हैं और घटना के बाद से फरार हैं। पुलिस मामले जांच कर रही है। कई जगह दबिश दी गई है। पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए प्रयास कर रही है।

खबरें और भी हैं...