सीजन का पहला कोहरा:इस बार एक सप्ताह की देरी से आ रही ठंड; 15 के बाद गिरेगा पारा, 100 के पास पहुंचेगा

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पदमपुर रोड पर सुबह 8 बजे छायी धुंध - Dainik Bhaskar
पदमपुर रोड पर सुबह 8 बजे छायी धुंध
  • अगले 2-3 दिनों में माैसम शुष्क रहने से रात के तापमान में गिरावट अाएगी, अनूपगढ़ में पहले ही दिन हादसा, 1 की मौत

क्षेत्र में इस बार कड़ाके की ठंड बीते वर्षाें से एक पखवाड़े देरी से यानी 15 दिसंबर के बाद पड़ेगी। अक्सर दिसंबर के प्रथम सप्ताह में ही कड़ाके की ठंड का दाैर शुरू हाे जाता है। लेकिन इस बार सात दिसंबर तक अधिकतम तापमान 25 डिग्री के आसपास है तथा न्यूनतम तापमान 9 से 12 डिग्री के आसपास रह रहा है। माैसम वैज्ञानिकाें की मानें ताे इस बार ठंड थाेड़ी देरी से आएगी। हालांकि आगामी दाे-तीन दिनाें में माैसम शुष्क रहने से रात के तापमान में दाे से तीन डिग्री की गिरावट आएगी।

क्षेत्र में वर्ष 2019 में दिसंबर के मध्य तक दिन का तापमान गिरकर 11.9 डिग्री आ गया था। लेकिन सात दिसंबर तक इस बार दिन का तापमान 25 डिग्री के आसपास है तथा न्यूनतम तापमान भी 10 डिग्री के आसपास ही है। गत वर्ष भी दिसंबर के पहले सप्ताह से ही कड़ाके की ठंड का दाैर शुरू हाे गया था। लेकिन इस बार बादलवाही के कारण रात के तापमान में ज्यादा गिरावट नहीं आई। साथ ही दिन में धूप खिली रहने से दिन में भी ठंड का ज्यादा प्रभाव नहीं है।

माैसम वैज्ञानिकाें ने बताया कि पूर्वी राजस्थान में पश्चिमी विक्षाेभ सक्रिय हाेने से बीते दिनाें रात के समय में बादलवाही के कारण न्यूनतम तापमान 10 डिग्री से नीचे नहीं गया। साथ ही दिन में धूप खिली रहने से ज्यादा ठंड नहीं पड़ी। अब आगामी तीन-चार दिन माैसम शुष्क रहेगा। वहीं, कोहरे के पहले ही दिन अनूपगढ़ में दो वाहनों में भिड़ंत हो गई। इसमें एक खलासी की मौत हो गई।

कोहरा आने से जिलेभर के किसान खुश: गाजर, किन्नू के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद, मिठास बढ़ेगी

इस बार सीजन में पहली बार मंगलवार काे काेहरे का प्रभाव रहा। सुबह 9 बजे तक घना काेहरा छाया रहा। सुबह सात बजे के आसपास घना काेहरा हाेने के कारण दस मीटर से ज्यादा दूरी तक साफ देख पाना भी संभव नहीं था। ऐसे में सड़काें पर वाहन भी लाइटें जलाकर धीमी गति से सड़काें पर आते-जाते दिखाई दिए। काेहरे का आगमन शुरू हाेने से के साथ ही नमी का प्रभाव भी बढ़ा है। मंगलवार सुबह 8:30 बजे वातावरण में नमी का प्रभाव 95 प्रतिशत के आसपास रहा।

इसलिए जरूरी है श्रीगंगानगर में कोहरा: कृषि वैज्ञानिकाें के अनुसार काेहरा फसलाें के लिए भी फायदेमंद है। इससे फसलाें में पाले की मार की आशंका नहीं रहेगी। सुबह 9 बजे के बाद धूप का प्रभाव बढ़ने के साथ ही काेहरे का आवरण छंटना शुरू हाे गया। इसके बाद शाम तक सुहावनी धूप खिली रही। शाम काे सूर्यास्त के बाद ठंड का प्रभाव फिर से बढ़ना शुरू हाे गया। माैसम विभाग के अनुसार मंगलवार काे अधिकतम तापमान 25.4 व न्यूनतम तापमान 8.9 डिग्री सेल्सियस रहा। सुबह के समय हवा में नमी 95 व शाम काे 53 प्रतिशत दर्ज की गई।

ठंड फसलाें के अच्छे पकाव के लिए फायदेमंद है। साथ ही गाजर व किन्नू में मिठास बढ़ती है तथा फलाें का पकाव अच्छा हाेता है। दिसंबर माह में गाजर व किन्नू पकाव की ओर हाेते हैं। ऐसे में ठंड फायदेमंद रहती है। ऐसे में दिसंबर में ठंड का प्रभाव बढ़ने की उम्मीद रहती है। इस बार अभी तक दिन का तापमान 25 डिग्री के आसपास है तथा रात में भी 10 डिग्री के आसपास तापमान रह रहा है।

इस बार समय-समय पर पश्चिमी विक्षाेभ सक्रिय हाेने के कारण अब तक न्यूनतम तापमान में ज्यादा गिरावट नहीं आई है। अब आगामी 15 दिसंबर के बाद दिन के तापमान में गिरावट के साथ ही कड़ाके की ठंड का दाैर शुरू हाेने की संभावना है। राधेश्याम शर्मा, निदेशक, प्रादेशिक माैसम विज्ञान केंद्र जयपुर।

खबरें और भी हैं...