गांवों की जरूरत के अनुसार होगा विकास:सूरतगढ़ थर्मल के आसपास  के गांवों में विकास के लिए खर्च होंगे सवा तीन करोड़ रुपए

श्रीगंगानगरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सूरतगढ़ थर्मल  पावर स्टेशन। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
सूरतगढ़ थर्मल पावर स्टेशन। (फाइल फोटो)

जिले के सूरतगढ़ थर्मल के आसपास के गांवों में थर्मल की सोशल रेस्पोंसिब्लिटी के तहत प्राप्त राशि से करीब सवा तीन करोड़ रुपए के विकास कार्य होंगे। जिला प्रशासन ने थर्मल के आसपास के कुछ गांवों में विकास कार्यों पर विचार विमर्श के लिए बुधवार को बैठक का भी आयोजन किया। इसमें थर्मल क्षेत्र के 15 किलोमीटर के दायरे में आने वाले गांवों के विकास के प्लान बनाने पर चर्चा हुई। जिला प्रशासन ने प्लान बनाते समय ग्रामीण विकास के लिये जन उपयोगी काम करवाने के निर्देश दिए हैं।

आठ वर्ष पहले स्वीकृत हुए 33 करोड़
थर्मल के आसपास के गांवों के विकास के लिए वर्ष 2013 में सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत 33 करोड़ रुपए स्वीकृत हुए थे। अब तक इससें से करीब बीस करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं। इनमें से 8.86 करोड़ का भुगतान कर दिया गया है तथा 10 करोड़ रुपए के काम अभी हो रहे हैं।

इन गांवों में विकास पर चल रहा विचार
शेष बची राशि में से 3.26 करोड़ रुपए से गांव राइयांवाली, भोजेवाला में स्टडी रूम बनाने, ठुकराना पीएचसी में आवास निर्माण, शोभासर में कब्रिस्तान शैड, करड़ू से भोजुसर तक ग्रेवल सड़क, पौधारोपण आदि कार्य हो सकते हैं। इसकेअलावा गांव राईयावाली में चार दीवारी, सांवतसर के सरकारी स्कूल में स्टडी रूम, गांव ठुकराना के स्वास्थ्य केन्द्र में वाटर कूलर, सोमासर के अस्पताल में फ्रिज और गांव दो पीटीडी के स्कूल में स्टडी रूम आदि को अंतिम रूप देने पर भी विचार किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...