पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रुपए मांगने पर मिली मौत:मोबाइल के रुपए मांगे तो  लाठियों से पीट-पीट कर कर दी युवक की हत्या, पीटने से  बेहोश हुआ, अस्पताल ले जाते समय  मौत

हनुमानगढ़ (रावतसर)18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हनुमानगढ़ जिले के रावतसर में युवक की हत्या के बाद मोर्चरी के बाहर मौजूद लोग। - Dainik Bhaskar
हनुमानगढ़ जिले के रावतसर में युवक की हत्या के बाद मोर्चरी के बाहर मौजूद लोग।

जिले के रावतसर इलाके के गांव पोहड़का में मंगलवार को मोबाइल के रुपए मांगने पर युवक की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई। मृतक जिले के गांव धन्नासर का रहने वाला है जबकि वारदात पोहड़का में हुई। घटना में मारे गए युवक ने कुछ समय पहले आरोपी युवक को मोबाइल दिलाया था तथा अब इसके रुपए मांग रहा था। इन्हीं रुपयों का भुगतान करने के लिए आरोपी ने युवक को अपने गांव पोहड़का बुलाया और उसे इतना पीटा कि उसकी मौत हो गई।

ये था मामला
गांव धन्नासर के वार्ड सात निवासी रुस्तम पुत्र गन्नी खां ने बताया कि उसका भाई महबूब गाड़ी किराए पर लेकर हिमाचल से नाेहर सब्जी की डिलीवरी देता था। महबूब के पास गांव पोहड़का के असलम उर्फ सद्दाम पुत्र असगर अली का आना जाना था। करीब डेढ साल पहले महबूब ने असलम काे एक स्क्रीनटच मोबाइल दिलाया था। इसके रुपए महबूब ने ही दिए। बाद में उसने असलम से कई बार रुपए मांगे लेकिन असलम टालता रहा।

गांव में बुलाया और कर दी हत्या
आरोपी ने मंगलवार शाम करीब साढ़े छह बजे महबूब को अपने घर पोहड़का बुलाया। उस समय महबूब के साथ पड़ौसी उस्मान पुत्र शेरूखान भी गया। शाम करीब साढ़े सात बजे उस्मान ने प्रार्थी के चचेरे भाई नसीब खान काे सूचना दी कि रुपए लेने के लिए जब वे पोहड़का में असलम उर्फ सद्दाम के घर आए तो यहां असलम तथा उसके साथ अकरम पुत्र बशीर खां, परवेज पुत्र नजीर खां और चार-पांच अन्य ने महबूब पर लाठियों से ताबड़तोड़ वार कर दिए। मौके से उस्मान किसी तरह जान बचाकर भागा और महबूब के परिजनों को घटना की जानकारी दी।

मौके पर पहुंचे परिजन तो चारपाई पर बेहोश पड़ा मिला
सूचना मिलते ही महबूब का भाई रुस्तम और चचेरा भाई नसीब खां गांव पोहड़का पहुंचे तो असलम के घर में महबूब चारपाई पर पड़ा था। महबूब बेहोश हालत में था तथा आरोपी उसके पास ही खड़े थे। परिजनाें ने महबूब को रावतसर के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया। जहां से उसे हनुमानगढ़ तथा हनुमानगढ़ से श्रीगंगानगर रेफर कर दिया गया। श्रीगंगानगर अस्पताल लाने के दौरान महबूब की मौत हो गई। इस पर शव रावतसर ले जाकर सरकारी अस्पताल की माेर्चरी में रखवा दिया गया।